Hello, Welcome To BharatIdea, An Idea To Make Our Country Vishwa-Guru


...
Search Of Useful Contents

test

test

...
Editing And Coding

Test.

Test.

...
Publish On Social Media

Test.

Test.

...
...
...
...
...

नमस्कार दोस्तों आप सब का स्वागत है आपके अपने समाचार स्त्रोत BharatIdea में। आपके मन में ये सवाल जरूर उठ रहा होगा की आखिर BharatIdea किन विषयो पर समाचार देता है, और क्यूँ देता है। तो आइये जानते है भारत आईडिया के मूल सिधान्तो और इसको बनाने के पीछे कारणों को?

BharatIdea बनाने की जरुरत क्यूँ परी:
दोस्तों समय के साथ अगर हम देखे तो हमारे राष्ट्र ने काफी अक्रान्ताओ के आक्रमण को झेला है। इतने हमलो के बाद भी हमने चिंतन नहीं किया और आज ऐसा वक़्त आ गया है की हम अपनी संस्कृति को छोर पश्चिमी संस्कृति को अपना रहे है।BharatIdea के शोध के अनुसार भारत में जितने भी लोग रहते है उनमे से मात्र ऐसे 10% लोग ही ऐसे है जिनको अपने देश की संस्कृति तथा राजनीती से मतलब है और बाकियों का ये मानना है की देश बरसो से चला आ रहा है और आगे भी चलता ही रहेगा। वो लोग जो सोचते है की भारत वर्ष वर्षो से चला आ रहा है और आगे भी चलता ही रहेगा तो मै उनके लिए कुछ पंक्तिया कहना चाहूंगा,

हमने पूछा इस देश का क्या होगा, वो बोले देश तो बर्षो से चल रहा और आगे भी चलता रहेगा, कल आपको ढूंढना पड़ेगा की देश कहाँ है और वो कहेंगे ढूंढते रहिये देश तो हमारी जेब में परा है क्या देश हमारी जेब से बरा है।

BharatIdea इन्ही कारणों से निकला एक गुस्से और बगावत का नतीजा है।BharatIdea की बस एक ही इक्षा और ख्वाहिस है की इस देश का युवा वर्ग अपने देश के उज्वल भविष्य के लिए काम करे ना की खुद के स्वार्थ के लिए।देश का युवा एक ही शर्त पर अपने देश हित के लिए काम कर पायेगा जब उसको अपने देश की संस्कृति और राजनीती की समझ हो अन्यथा नेता युवाओ को बेवकूफ बना कर इस देश की संस्कृति का नास करते रहेंगे और आपस में सब को लड़वाते रहेंगे जिससे उनका फायदा हो न की देश के भविष्य का। आपकी राजनीती और संस्कृति समझ को बढ़ाने में BharatIdea आपकी पूरी मदद करेगा अपने लेखो के द्वारा ताकि आप अपना एक महत्वपूर्ण योगदान दे सके देश के उज्जवल भविष्य के लिए।

BharatIdea का लक्ष्य क्या है:
BharatIdea का सिर्फ और सिर्फ एक ही लक्ष्य है, AN IDEA TO MAKE OUR COUNTRY VISHWA-GURU, हयात लेके चलो, कायनात लेके चलो...चलो तो ऐसे चलो की देश को विश्व गुरु बनाने की राह पर चलो। भारत आईडिया किस प्रकार के समाचार प्रकशित किये जाते है। BharatIdea आपको हर तरह की समाचार देगा जैसे की :
राजनीती से जुड़ी खबरे।
झूठी खबरों की सच्चाई बताना।
इतिहास से जुड़ी खबरे।
महापुरषो की जीवनी के बारे में चर्चा।
सेना से जुड़ी खबरे।
खेल से जुडी खबरे।
विज्ञान से जुड़ी खबरे।
अजब गजब तथ्यों से जुड़ी खबरे।
अंतरष्ट्रीय खबर।
संगठन से जुड़ी खबरे
जमीनी स्तर की खबरों की जानकारी देना।

BharatIdea की खबरों से आप क्या सिख सकते है :
जैसा की ऊपर आप पढ़ चुके है की BharatIdea एक ऐसा समाचार का स्त्रोत है जहाँ आप अपनी जानकारियों को मजबूत कर सकते है। जो लोग अपनी संस्कृति को समय के आभाव में या राजनीती समझ को मजबूत नहीं कर पा रहे है वो लोग BharatIdea पर अपनी इन कमजोरियों को दूर कर अपने देश को पूर्ण रूप से जान और समझ सकते है तथा समाज में चौर होकर बोल सके की हाँ मै भी जानता हु अपने देश की संस्कृति को, राजनीती को और तो और आप भी सामजिक चर्चाओं में बढ़ चढ़ कर हिस्सा ले सकते है।

BharatIdea की भविष्य की रणनीति क्या है :
ज्यादा से ज्यादा लोगो तक हर तरह की खबर पहुँचाना।
पॉकेट महाभारत का वितरण।
पॉकेट रामायण का वितरण।
पॉकेट अर्थशात्र का वितरण।
रोजगार पैदा करना।
पिछड़े तथा गरीबो के लिए काम करना।
स्वच्छ भारत के लिए जमीनी स्तर पर काम।
भारत की संस्कृति का पताका लहराना।
झूठी खबर का पर्दाफास करना।
भारतवर्ष को विश्व गुरु बनाने में योगदान देना।

Forest

Stay informed With Us


We understand you don’t have time to go through long news articles everyday. So we cut the clutter and deliver them, in 60-word shorts. Short news for the mobile generation.


Loading...

All Rights Reservd To BharatIdea

This is default featured slide 1 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.

This is default featured slide 2 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.

This is default featured slide 3 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.

This is default featured slide 4 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.

This is default featured slide 5 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.

My Sticky Gadget

Showing posts with label MODI JI. Show all posts
Showing posts with label MODI JI. Show all posts

दिल्ली में आईपीएस अफसरों पर गिरी गाज अब तक 5 का तबादला...............

  1. दिल्ली में सोमवार को हुई हिंसा में अब तक कुल 22 लोगों की मौत हो चुकी है.
  2. पांच आइपीएस अफसरों(IPS officers) का तबादला कर दिया गया है.
  3. कोर्ट  ने बुधवार को हिंसा पर दायर याचिका पर कहा कि दिल्ली में एक और 1984 नहीं होनें देंगे.
  4. हाई कोर्ट ने कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री हिंसा प्रभावित इलाकों में दौरा करें .
  5. संजय भाटिया DCP सेंट्रल बनाए गए है.
  6. नरेंद्र मोदी ने भाईचारा बनाए रखने की अपील की.


    5 आईपीएस अफसरों का हुआ तबादला :-
    दिल्ली (Delhi) में सोमवार को हुई हिंसा में अब तक कुल 22 लोगों की मौत हो चुकी है. इस बीच दिल्ली पुलिस(Delhi Police) ने बड़ा कदम उठाते हुए पांच आइपीएस अफसरों(IPS officers) का तबादला कर दिया है। इससे पहले दिल्ली हाई कोर्ट (Delhi High Court) ने बुधवार (on Wednesday) को हिंसा पर दायर याचिका पर कहा कि दिल्ली (Delhi) में एक और 1984 नहीं होनें देंगे। वहीं, उत्तर पूर्वी दिल्ली (North East Delhi) में हिंसा को लेकर हाई कोर्ट (Delhi High Court) ने कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री (Chief Minister and the Deputy Chief Minister) हिंसा प्रभावित इलाकों में दौरा करें और लोगों में विश्वास जगाएं। आपको बता दें संजय भाटिया DCP सेंट्रल बनाए गए है।

    और भी लोगो के हुए तबादले :-
    इन तीन के अलावा इंदिरा गांधी हवाई अड्डे ( Indira Gandhi Airport) पर तैनात डीसीपी ( DCP) संजीव भाटिया की पोस्टिंग डीसीपी  (Central District) के तौर पर की गई है। कमिश्नर ऑफ पुलिस (Commissioner of Police) के स्टाफ ऑफिसर राजीव रंजन को आईजीआई एयरपोर्ट ( IGI Airport) का डीसीपी नियुक्त किया गया।



    नरेंद्र मोदी ने भाईचारा  बनाए रखने की अपील की
    दिल्ली (Delhi) में फैली हिंसा के तीन दिन बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi)ने भी ट्वीट किए। उन्होंने लोगों से भाईचारा (brotherhood) बनाए रखने की अपील की। मोदी ने कहा कि यह जरूरी है कि इस वक्त हर जगह शांति हो और सामान्य स्थिति जल्द से जल्द कायम हो।बता दें कि 23 फरवरी से फैली इस हिंसा में अब तक 27  से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। 250 से ज्यादा घायल हैं। दिल्ली  (Delhi) के जाफराबाद, मौजपुर, चांदपुर ( Zafarabad, Maujpur, Chandpur) समेत उत्तर-पूर्वी दिल्ली में पुलिस को उपद्रवियों को देखते ही गोली मारने का आदेश भी दिया गया है।


    ऐसी तमाम खबर पढ़ने और वीडियो के माध्यम से देखने के लिए हमारे एप्प को अभी इनस्टॉल करे और हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करे:-
      





    आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 


    ट्रम्प ने इस्लामिक आतंकवाद के चेहरे पर जरा तमाचा कहा एक साथ लड़ेंगे इस्लामिक आतंकवाद से

    मुख्य  बिंदु :-
    1. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप  ने मोटेरा स्टेडियम में लोगों को संबोधित किया
    2. भारत के लिए अमेरिका के दिल में खास जगह है : ट्रम्प 
    3. हर कोई पीएम मोदी को प्यार करता है : ट्रम्प
    4. हर मिनट 12 लोग गरीबी रेखा के ऊपर जा रहे हैं : ट्रम्प 
    5. भारत सरकार की विभिन्न योजनाओं की ट्रम्प ने तारीफ़ की  
    6. ट्रंप ने कहा भारत में  हर साल 2,000 फिल्में बनती हैं. 
    7. यहां DDLJ और शोले जैसी फिल्में भी बनती हैं.
    8. यहां सचिन तेंदुलकर और विराट कोहली सरीखे क्रिकेट के बड़े खिलाड़ी हैं : ट्रम्प 
    9. भारत के हर गांव को आज बिजली मिल रही है : ट्रम्प 
    10. भारत की विविधता में ही एकता है : ट्रम्प 
    11. भारत की एकता पूरे विश्व के लिए एक मिसाल है.
    12. अमेरिका भारत के साथ कल (मंगलवार को) रक्षा समझौते करेगा : ट्रम्प 
    13. भारत अमेरिका एक साथ इस्लामिक आतंकवाद का सामना करेंगे :ट्रम्प 



      अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप  ने मोटेरा स्टेडियम में लोगों को संबोधित किया :-
      अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने मोटेरा स्टेडियम  (Motera Stadim )में लोगों को संबोधित किया. इस दौरान उन्होंने कहा कि भारत के लिए अमेरिका के दिल में खास जगह है. राष्ट्रपति ने कहा, 'हर कोई पीएम मोदी को प्यार करता है. आप सिर्फ गुजरात नहीं बल्कि पूरे देश का मान हैं.' ट्रंप ने कहा कि 'हर मिनट 12 लोग गरीबी रेखा के ऊपर जा रहे हैं.' भारत सरकार की विभिन्न योजनाओं का जिक्र करते हुए ट्रंप ने प्रधानमंत्री की तारीफ की. ट्रंप ने कहा, 'अमेरिका भारत को प्यार करता है, भारत की इज्जत करता है और अमेरिका हमेशा भारत का ईमानदार और निष्ठावान दोस्त रहेगा.' उन्होंने कहा कि मोटेरा का स्टेडियम बहुत ही खूबसूरत है और हम यहां लंबी यात्रा करके संदेश देने आए हैं कि हम भारत को प्यार करते हैं.


      ट्रम्प ने फिल्मो और खेल PAR भी बात की :-
      ट्रंप ने कहा भारत में  हर साल 2,000 फिल्में बनती हैं. यहां DDLJ और शोले जैसी फिल्में भी बनती हैं. कहा कि यहां सचिन तेंदुलकर और विराट कोहली सरीखे क्रिकेट के बड़े खिलाड़ी हैं. उन्होंने कहा कि भारत के हर गांव को आज बिजली मिल रही है. ट्रंप ने कहा समूची मानवता के लिए भारत एक उम्मीद है.हाउडी मोदी का जिक्र करते हुए ट्रंप ने कहा, '5 महीने पहले अमेरिका ने टेक्सास में एक विशाल फुटबॉल स्टेडियम में आपके महान प्रधानमंत्री का स्वागत किया और आज भारत ने अहमदाबाद में दुनिया के सबसे बड़े क्रिकेट स्टेडियम में हमारा स्वागत किया है.


      भारत को विविधता में  एकता वाला देश बताया :-
      होली के त्योहार का जिक्र करते हुए ट्रंप ने कहा कि अगले महीने भारत में रंगो का त्योहार है. यहां दीवाली मनाई जाती है. ईद भी मनाई जाती है. भारत की विविधता में ही एकता है. कहा कि , 'मोदी एक अद्भुत नेता हैं, भारत के लिए दिन-रात काम करते हैं. भारत की पूरे विश्व में इस बात के लिए तारीफ की जाती है कि यहां लाखों हिन्दू, मुस्लिम, सिख, जैन, ईसाई और यहूदी साथ-साथ प्रार्थना करते हैं। भारत की एकता पूरे विश्व के लिए एक मिसाल है.'


      मोटेरा में रक्षा समझौतों का जिक्र :-
      राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा कि अमेरिका भारत के साथ कल (मंगलवार को) रक्षा समझौते करेंगे. उन्होंने कहा कि अमेरिका और भारत एक साथ इस्लामिक आतंकवाद का सामना करेंगे और उसे हराएंगे. मोटेरा से पाकिस्तान को संदेश देते हुए ट्रंप ने कहा कि पाकिस्तान हर देश को अपनी सीमाओं पर नियंत्रण और सुरक्षित करने का हक है. अमेरिका और भारत अपनी सीमाओं और विचारधारा के लिए खड़े हैं. हमारी सरकार पाकिस्तान के साथ आतंकियों के खात्मे पर काम कर रही है.

      ऐसी तमाम खबर पढ़ने के लिए हमारे एप्प को अभी इनस्टॉल करे                                                            
      इस खबर को यूट्यूब पर वीडियो के माध्यम से देखने के लिए हमारे चैनल को सब्सक्राइब करे। 




      फेसबुक पर अपडेट पाने के लिए हमारे पेज को लिखे करे। 
                       


      आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 



      डोनाल्ड ट्रम्प के अलावा और कौन-कौन अमेरिकी राष्ट्रपति आया है भारत दौरे पर और क्या रहा उसका परिणाम ?

      मुख्य  बिंदु :-

      1. भारत आने वाले पहले अमेरिकी राष्ट्रपति का नाम डेविड आइजनहावर था.
      2. आइजनहावर 14 दिसंबर 1959 को भारत यात्रा पर आए थे.
      3. देश की राजधानी दिल्ली में आइजनहावर को 21 तोपों की पहली बार  सलामी दी गई थी.
      4. रिचर्ड निक्सन भारत आने वाले अमेरिका के दूसरे राष्ट्रपति थे .
      5. रिचर्ड निक्सन 31 जुलाई 1969 को भारत दौरे पर आए थे.
      6. आइजनहावर की तरह ही रिचर्ड निक्सन भी भारत के साथ अच्छे रिश्ते स्थापित करने में सफल नहीं हुए .
      7. 1971 के युद्ध में निक्सन ने पाकिस्तान का साथ दिया था.
      8. जिम्मी कार्टर भारत की यात्रा (1-3जनवरी, 1978) पर आने वाले तीसरे अमेरिकी राष्ट्रपति थे.
      9. जिम्मी कार्टर ने संसद को भी संबोधित किया था, उस वक्त भारत के प्रधानमंत्री जनता पार्टी के मोरारजी जी देसाई थे.
      10. जिम्मी कार्टर के नाम पर दिल्ली में एक गांव का नामकरण भी है .
      11. बिल क्लिंटन दो दशक बाद भारत की यात्रा पर आने वाले चौथे अमेरिकी राष्ट्रपति थे.
      12. 19-25 मार्च, 2000 के दौरान भारत यात्रा पर आए थे। 
      13. बिल क्लिंटन जब भारत दौरे पर आए थे, उस वक्त भारत के प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेई थे.
      14. जार्ज डब्ल्यू बुश भारत की यात्रा पर आने वाले पांचवें अमेरिकी राष्ट्रपति थे.
      15. जॉर्ज डब्ल्यू बुश के दौरे के वक्त भारत के प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह थे.
      16. जार्ज डब्ल्यू बुश  अपनी पत्नी लउरा बुश के साथ 1-3 मार्च, 2006 को भारत यात्रा पर आये थे.
      17. जॉर्ज बुश के दौरे को परमाणु करार के लिए याद किया जाता है.
      18. बराक ओबामा भारत की यात्रा करने वाले छठे अमेरिकी राष्ट्रपति थे.
      19. ओबामा ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत की स्थायी सदस्यता की तरफदारी की थी.
      20. ओबामा अमेरिका के इकलौते राष्ट्रपति हैं जिन्होंने भारत का दौरा दो बार किया है.
      21. आज भारत के दौरे पर अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप है.



        डेविड आइज़नहावर :-
        डोनाल्ड ट्रम्प की अमेरिका के राष्ट्रपति के रूप में पहली भारत यात्रा के तामझाम की चर्चा जोरों पर रहने के बीच अतीत में झांकने पर हमें अमेरिका के कई राष्ट्रपतियों की यात्राएं नजर आती हैं। यह सब लगभग साठ साल पहले तब शुरू हुआ था जब ड्वाइट डेविड आइज़नहावर द्विपक्षीय संबंधों को बल देने के लिए भारत की यात्रा करने वाले अमेरिका के पहले राष्ट्रपति बने थे। वह नौ-14 दिसंबर, 1959 को भारत यात्रा पर आए थे।राष्ट्रीय राजधानी पहुंचने पर उन्हें 21 तोपों की सलामी दी गयी थी। वह तत्कालीन राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद और प्रधानमं जवाहरलाल नेहरू से मिले थे।
        रिचर्ड निक्सन :-
        रिचर्ड निक्सन भारत की यात्रा (31 जुलाई-एक अगस्त, 1969) पर आने वाले दूसरे राष्ट्रपति थे। आइज़नहावर की तरह निक्सन की यात्रा कोई बड़ा संदेश नहीं दे पाई। वह एक दिन से भी कम समय यहां रहे और भारत को कुछ हासिल नहीं हुआ।1971 के बांग्लादेश मुक्ति संग्राम में निक्सन पाकिस्तान के पक्ष में रहे। 

        जिम्मी कार्टर:-
        जिम्मी कार्टर भारत की यात्रा (1-3जनवरी, 1978) पर आने वाले तीसरे अमेरिकी राष्ट्रपति थे। उनकी यात्रा से महज कुछ महीने पहले जनता पार्टी के मोरारजी देसाई देश के प्रधानमं। बने थे। तीन दिन की इस यात्रा के दौरान कार्टर ने संसद को संबोधित किया और वह दिल्ली के समीप एक गांव में गए।इस गांव के नाम उनके नाम पर रखा गया.

        बिल क्लिंटन
        बिल क्लिंटन दो दशक बाद भारत की यात्रा पर आने वाले चौथे अमेरिकी राष्ट्रपति थे। वह 19-25 मार्च, 2000 के दौरान भारत यात्रा पर आए थे। कई लोग इसे पासा पलटने के रूप में देखते हैं जिस दौरान बिल क्लिंटन और तत्कालीन प्रधानमंत्री।अटल बिहारी वाजपेयी ने द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत बनाने के लिए एक दिशा तय की।यह यात्रा ऐसे समय हुई जब अमेरिका 1999 के परमाणु परीक्षण और कारगिल युद्ध के बाद भारत पर प्रतिबंध लगा चुका था। सबसे महत्वपूर्ण बात है कि क्लिंटन की यात्रा भारत अमेरिका रणनीतिक एवं आर्थिक साझेदारी की शुरुआत को रेखांकित करती है।


        जार्ज डब्ल्यू बुश:-
        जार्ज डब्ल्यू बुश भारत की यात्रा पर आने वाले पांचवें अमेरिकी राष्ट्रपति थे। वह मनमोहन सिंह के प्रधानमंत्री के रूप में पहले कार्यकाल के दौरान अपनी पत्नी लउरा बुश के साथ 1-3 मार्च, 2006 को भारत यात्रा पर आये थे। बुश की इस यात्रा को परमाणु करार होने के लिए याद किया जाएगा।


        बराक ओबामा :-
        बराक ओबामा भारत की यात्रा करने वाले छठे अमेरिकी राष्ट्रपति थे। इस यात्रा से भारत अमेरिका रणनीतिक संबंधों को मजबूत होने का संदेश गया। वह दिल्ली के बजाय मुंबई पहुंचे। इसका उद्देश्य न केवल व्यापार बल्कि मुंबई हमले में मारे गए लोगों के परिवारों के साथ एकजुटता प्रदर्शित करना था। ओबामा ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत की स्थायी सदस्यता की तरफदारी की। उन्होंने 24-27 जनवरी, 2015 को फिर भारत की यात्रा की। वह भारत की दो बार यात्रा करने वाले अमेरिका के पहले राष्ट्रपति बने। इस बार वह गणतंत्र दिवस परेड के मुख्य अतिथि थे। 
        ऐसी तमाम खबर पढ़ने के लिए हमारे एप्प को अभी इनस्टॉल करे                                                            
        इस खबर को यूट्यूब पर वीडियो के माध्यम से देखने के लिए हमारे चैनल को सब्सक्राइब करे। 




        फेसबुक पर अपडेट पाने के लिए हमारे पेज को लिखे करे। 

                         


        आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 



        प्रशांत किशोर को क्यों निकाला गया था बीजेपी से, या फिर यूँ कहें क्यों छोरा था प्रशांत किशोर ने बीजेपी ?

        मुख्य  बिंदु :-

        1. प्रशांत किशोर ने  नीतीश कुमार को विकास के दावों पर दी थी चुनौती.
        2. प्रशांत किशोर बिहार चुनाव में बनना चाहते है किंग मेकर। 
        3. 2011 में जुड़े थे मोदी टीम से 
        4. प्रशांत किशोर हेल्थ प्रोफेशन में भी कर चुके है काम 
        5. प्रशांत किशोर पेपर प्रकाशित के जरिये एक कारोबारी की मदद से  मिले थे मोदी से 
        6. 2012  गुजरात चुनाव में कर चुके  है बीजेपी के लिए काम 
        7. 2014 के बीजेपी की प्रचंड जित में निभाई थी अहम् भूमिका 
        8. किशोर चाहते थे PMO में एंट्री 
        9. इसी वर्ष CAA पर पार्टी लाइन से अलग राय रखने के कारन निकाले गए थे JDU से 
        10. प्रशांत किशोर है अवसरवादी : बीजेपी नेता 



        विकास के मुद्दे पर प्रशांत किशोर ने दिया था नितीश को चैलेंज :-
        चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर (Prashant Kishore) ने बीते दिनों एक प्रेस वार्ता कर बिहार सरकार और मुखिया नीतीश कुमार  को चुनौती दी थी. उन्होंने राज्य सरकार और उसके द्वारा किये जा रहे विकास के दावों को भी खारिज किया था. CAA पर जनता दल युनाइटेड से अलग राय देने वाले किशोर को इसी साल जनवरी में पार्टी से निकाल दिया गया था. इसके बाद से ही वह नए सियासी घर की तलाश में हैं. माना जा रहा है कि इस साल होने वाले बिहार चुनाव 2020 (Bihar Election 2020) में वह नीतीश और बीजेपी के विरोध में गठबंधन बनाना चाह रहे हैं. इसी कड़ी में वह कई नेताओं से मुलाकात भी कर चुके हैं.


        किशोर चाहते थे PMO में एंट्री:-
        बिहार में जन्मे किशोर ने यूपी में पढ़ाई पूरी की. साल 2011 में टीम मोदी में एंट्री पाने वाले किशोर ने संयुक्त राष्ट्र के लिए हेल्थ प्रफेशनल के तौर पर अफ्रीकी देश चाड में काम कर चुके हैं. गुजरात (Gujarat) के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) की नजर उन पर तब गई जब उन्होंने गुजरात में कुपोषण के मुद्दे पर एक पेपर प्रकाशित किया था. साल 2011 में मोदी की किशोर से मुलाकात हुई और साल 2012 के गुजरात चुनाव में किशोर ने काम किया और फिर मोदी के करीब हो गए.साल 2014 में जब बीजेपी ने नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बनाया तब किशोर अपनी टीम के साथ दिल्ली आ गए और यहां से बीजेपी (BJP) के लिए वॉर रूम बना कर प्रचार प्रसार का जिम्मा संभाला. अंग्रेजी अखबार द संडे इंडियन एक्सप्रेस में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक, साल 2014 के लोकसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी की जीत के बाद किशोर चाहते थे कि उन्हें प्रधानमंत्री कार्यालय में एंट्री मिले.लेकिन उनके मनमुतबित काम ना होने के कारण पार्टी से थी नाराजगी 


        बीजेपी नेता ने प्रशांत किशोर को बताया अवसरवादी :-
        रिपोर्ट में दावा किया गया है कि किशोर की कंपनी I-PAC के अंदरूनी सूत्रों ने बताया कि वह (किशोर) सरकार में लैटरल एंट्री के समर्थक थे. उन्होंने ही इस बारे में प्रधानमंत्री को आइडिया दिया था. सूत्रों के हवाले से रिपोर्ट में दावा किया गया कि पीके अपनी टीम के साथ पीएमओ में एक टीम का नेतृत्व करतना चाहते थे, लेकिन ऐसा नहीं हो पाया. दावा किया गया है कि प्रधानमंत्री ने खुद इस योजना में दिलचस्पी दिखाई थी.भारतीय जनता पार्टी की गुजरात इकाई के एक वरिष्ठ नेता ने किशोर को महत्वाकांक्षी बताते हुए अवसरवादी तक कहा. बीजेपी नेता ने बताया - साल 2011 में एक रियल स्टेट कारोबारी ने नरेंद्र मोदी से किशोर की मुलाकात कराई थी, तब उन्हें इस बात की जानकारी नहीं थी कि किशोर की महत्वाकांक्षा है कि वह राजनीति में आगे बढ़ें. किशोर लंबे समय तक लोगों से चुनावी रणनीतिकार और एक कंपनी चलाने वाले शख्स के तौर पर मुलाकात करते हैं. उनका कोई सिद्धांत नहीं है. वह सिर्फ अवसरवादी हैं.'और
        एक्स्ट्रा ज्ञान  
        जहाँ तक अवसरवादी होने की बात है तो अवसरवादी लोग हमेशा पैसो को महत्वा देते है, न की राष्ट्र को. उदहारण की तौर पर नितीश कुमार  अवसरवादी है किन्तु क्षेत्र के हिसाब से अवसरवादी लोग अपनी चाल चलते है.नितीश कुमार कुर्सी के लोभ में अवसरवादी है तो प्रशांत किशोर पैसो के लिए अवसरवादी है जो पैसो के लिए पार्टियों का प्रचार करते है.


        ऐसी तमाम खबर पढ़ने के लिए हमारे एप्प को अभी इनस्टॉल करे                                                            
        इस खबर को यूट्यूब पर वीडियो के माध्यम से देखने के लिए हमारे चैनल को सब्सक्राइब करे। 




        फेसबुक पर अपडेट पाने के लिए हमारे पेज को लिखे करे। 
                         


        आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 



        मोदी की मौजूदगी में राष्ट्रगान की प्रस्तुति देंगे भारतीय अमेरिकी स्पर्श, 130 बार टूट चुकी हैं हड्डियां



        दोस्तों फिर से एक बार स्वागत है आपका भारत आईडिया में तो दोस्तों आज ही जिस विषय पर बात करने वाले हैं वह विषय है, मोदी की मौजूदगी में राष्ट्रगान की प्रस्तुति देंगे भारतीय अमेरिकी स्पर्श, 130 बार टूट चुकी हैं हड्डियां



        समाचार पढ़ने से पहले एक गुजारिस , हमारे फेसबुक पेज को  लाइक कर हमारे साथ जुड़े।







        ह्यूस्टन.हौसला बुलंद हो, तो कोई बाधा राह नहीं रोक सकती, 16 साल के स्पर्श शाह ने इस बात को साबित किया है। बीमारी के चलते स्पर्श की हड्डियां अब तक 130 बार टूट चुकी हैं। स्पर्श अब व्हीलचेयर पर ही रहते हैं। इतने विषम हालात के बावजूद स्पर्श का हौसला कमजोर नहीं पड़ा है। हाउडी मोदी कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मौजूदगी में स्पर्श राष्ट्रगान गाने जा रहे हैं।

        अमेरिका के न्यूजर्सी में रहने वाले स्पर्श शाह एक गायक और रैपर होने के साथ मोटिवेशनल स्पीकर भी हैं। स्पर्श शाह को जन्म से ही आस्टियोजेनेसिस इम्परफेक्टा बीमारी है। इस बीमारी में हड्डियां बेहद कमजोर हो जाती हैं। हलकी सी चोट से भी हड्डी टूट सकती है। गंभीर बीमारी के बावजूद स्पर्श ने हिम्मत नहीं हारी और संगीत का सफर जारी रखा। अब वह अमेरिका के मशहूर रैपर एमनेम की तरह एक अरब लोगों के सामने अपनी प्रतिभा दिखाना चाहते हैं। स्पर्श की जिंदगी पर 2018 में ब्रिटल बोन रैपर नाम की डॉक्यूमेंट्री भी बन चुकी है।


        हाउडी मोदी कार्यक्रम में प्रस्तुति देने को स्पर्श बेहद खास अवसर मानते हैं। सपर्श ने कहा-इतने सारे लोगों के सामने राष्ट्रगान गाना मेरे लिए बहुत बड़ी बात है। मैं भारत का राष्ट्रगान गाने के लिए उत्साहित हूं। मैंने पहली मोदीजी को मैडिसन स्क्वायर गार्डन में देखा था। मैं उनसे मिलना चाहता था, लेकिन मैं उन्हें केवल टीवी पर देख सका था। ईश्वर की कृपा से मैं अब मैं उनसे मिलने जा रहा हूं।

        धन्यवाद दोस्तों उम्मीद करता हूं यह वीडियो तथा वीडियो में दी गई जानकारी से आपने कुछ जानकारी हासिल की होगी. दोस्तों अगर यह वीडियो आप यूट्यूब चैनल पर देख रहे हैं तो हमारे चैनल को सब्सक्राइब करना ना भूलें तथा उसके बगल का घंटा दबाना भी ना भूले ताकि आपको हमारे आगे आने वाले वीडियोस की नोटिफिकेशंस मिलते रहे और अगर यह वीडियो आप फेसबुक पेज पर देख रहे हैं तो हमारे पेज को जरुर लाइक करें.



        मोदी ने इसरो चीफ को गले लगाया तो एंकर अंजना ओम कश्यप ने तोड़ा मौन, बोलीं...




        चंद्रयान-2 के लैंडर विक्रम को कोई नुकसान नहीं, संपर्क स्थापित करने की कोशिशें जारी: इसरोभारत के चंद्रयान-2 मिशन को शनिवार को एक बड़ा झटका लग गया था। चंद्रयान का लैंडर विक्रम चांद की सतह से बस 2 किमी दूर रहने के बाद भटक गया और उससे इसको का संपर्क भी टूट गया। इस खबर के आते ही वैज्ञानिकों और नेताओं के साथ पूरे देश में मायूसी छा गई थी क्योंकि भारत इतिहास रचते रचते चूक गया। हालांकि इस विफलता से हताश इसरो चीफ के सिवन को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गले लगा लिया। उनको गले लगाते ही एंकर अंजना ओम कश्यप ने चुप्पी तोड़ दी।

        समाचार पढ़ने से पहले एक गुजारिस , हमारे फेसबुक पेज को  लाइक कर हमारे साथ जुड़े। 



        शनिवार को जिस वक्त ये घटना घटी, उसके बाद से ही इसरो में मायूसी छा गई थी। हालांकि प्रधानमंत्री मोदी खुद ही वहां मौजूद थे और लगातार लैंडिंग पर नजर बनाए हुए थे। रात में तीन बजे जैसे ही उनको ये हैरान करने वाली खबर मिली, वो वहां से चले गए लेकिन सुबह फिर से इसरो केन्द्र पहुंचे। मोदी ने वहां पर परेशान दिख रहे इसरो चीफ को गले लगा लिया और ढांढस बंधाया। इतना ही नहीं उन्होंने इसको के प्रयास की तारीफ की और आगे बढ़ते रहने की सलाह दी।





        मोदी ने जैसे ही इसरो चीफ को गले लगाया, पूरे सोशल मीडिया में मोदी छा गए। मीडिया में भी इस फोटो को देखकर खलबली मच गई। इसी के बाद मशहूर एंकर अंजना ओम कश्यप ने इस पर अपनी चुप्पी तोड़ दी। अंजना ने फोटो पर मोदी की तारीफ करते हुए अपने ट्विटर पर लिखा कि जिन वैज्ञानिकों पर हिंद को नाज है, उन्हें मिला प्रधानमंत्री का साथ है। इतना ही नहीं अंजना ने वैज्ञानिकों को रामधारी सिंह दिनकर की एक कविता सुनाते हुए कहा कि सफलता और असफलता बस पड़ाव है, अंत नहीं है।

        आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 



        क्यों टूटा chandrayaan-2 का संपर्क इसरो ने बताएं यह कारण।




        इसरो का मिशन चंद्रयान-2 भले ही इतिहास नहीं बना सका लेकिन वैज्ञानिकों को देश सलाम कर रहा है. भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) के वैज्ञानिक पिछले काफी लंबे समय से दिन-रात एक करके इस मिशन को सफल बनाने में जुटे थे, जो आंखे बड़ी उत्सुकता से स्क्रीन पर मिशन चंद्रयान-2 के हर कदम को परख रही थी, वो अचानक उस वक्त ठिठक गईं जब लैंडर विक्रम से इसरो का संपर्क टूट गया.

        समाचार पढ़ने से पहले एक गुजारिस , हमारे फेसबुक पेज को  लाइक कर हमारे साथ जुड़े। 



        चंद्रयान-2' के लैंडर 'विक्रम' का चांद पर उतरते समय जमीनी स्टेशन से संपर्क टूट गया। सपंर्क तब टूटा जब लैंडर चांद की सतह से 2.1 किलोमीटर की ऊंचाई पर था। चंद्रयान-2 के बारे में अभी जानकारी का इंतजार है। इसरो के कंट्रोल रूम में वैज्ञानिक आंकड़ों का इंतजार कर रहे हैं। डाटा का अध्ययन अभी जारी है। इस बारे में जानकारी देते हुए इसरो चेयरमैन के. सिवन ने कहा, ''लैंडर 'विक्रम' को चंद्रमा की सतह पर लाने की प्रक्रिया सामान्य देखी गई, लेकिन बाद में लैंडर का संपर्क जमीनी स्टेशन से टूट गया।




        क्यों टूटा संपर्क, जानें क्या थीं कठिनाइयां:

        1- चन्द्रयान-2 जिस दक्षिणी ध्रुव पर लैंड करने वाला है वहां वो बहुत खराब सतह है, जहां गढ्ढे, धूल और बहुत सारे पत्थर हैं।

        2- इसके अलावा जब लैंडिग होगी तो प्रोपल्शन सिस्टम ऑन होने के कारण चंद्रमा की सतह से धूल उड़ेगी, जिसकी वजह से लैंडर के सोलर पैनल की पावर सप्लाई पर असर पड़ता है।

        3- यही नहीं धूल के कारण ऑनबोर्ड कम्प्यूटर सेंसर्स में भी प्रॉब्लम आ आती है।

        4- चांद के जिस हिस्से पर चन्द्रयान-2 लैंडिंग करने वाला था वहां सबसे ज्यादा अंधेरा रहता है।

        5- इसके अवाला चन्द्रयान-2 चांद के जिस दक्षिणी ध्रुव पर लैंड करना था वहां का मौसम भी परेशानियां खड़ा करने वाला होता है।



        आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 



        इसरो का साहस बने हौसला बढ़ाएं, यहां भेजिए अपना संदेश




        इसरो का मिशन चंद्रयान-2 भले ही इतिहास नहीं बना सका लेकिन वैज्ञानिकों को देश सलाम कर रहा है. भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) के वैज्ञानिक पिछले काफी लंबे समय से दिन-रात एक करके इस मिशन को सफल बनाने में जुटे थे, जो आंखे बड़ी उत्सुकता से स्क्रीन पर मिशन चंद्रयान-2 के हर कदम को परख रही थी, वो अचानक उस वक्त ठिठक गईं जब लैंडर विक्रम से इसरो का संपर्क टूट गया.

        समाचार पढ़ने से पहले एक गुजारिस , हमारे फेसबुक पेज को  लाइक कर हमारे साथ जुड़े। 



        देश वैज्ञानिकों का हौसला बढ़ा रहा है, आप भी वैज्ञानिकों की हिम्मत बढ़ाने के गवाह बन सकते हैं. साथ ही आप वैज्ञानिकों को शुभकामनाएं भी दे सकते हैंताकि देश की तरक्की के लिए दिन-रात एक करने वाले वैज्ञानिकों तक ये बात पहुंचे की देश का नागरिक इस ऐतिहासिक पल के दौरान उनके साथ हैं.


        प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी ट्वीट कर देश के वैज्ञानिकों को सलाम किया और उनकी हौसला अफजाई की. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद बेंगलुरु में इसरो के सेंटर में मौजूद रहे और वैज्ञानिकों की हिम्मत बढ़ाई.



        (आप नीचे कमेंट बॉक्स में भी अपने शुभकामनाएं पोस्ट कर सकते हैं.)



        मोदी जी के साथ वायरल हो रही इस बच्चे की तस्वीर में जाने यह बच्चा किसका है और कौन है?




        नमस्कार दोस्तों आप सबका स्वागत है भारत आइडिया के इस  नए संस्करण के समाचार लेख में। भारत आइडिया के पाठकों आज इस लेख में हम बात करेंगे उस तस्वीर के बारे में जिसको हमारे माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने शेयर किया है . हम जानेंगे कि आखिर उस तस्वीर में मोदी जी के साथ खेल रहा बच्चा कौन है .

        समाचार पढ़ने से पहले एक गुजारिस , हमारे फेसबुक पेज को  लाइक कर हमारे साथ जुड़े। 



        प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मंगलवार को अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर एक छोटे बच्चे के साथ तस्वीरें शेयर की हैं। तस्वीरों में बच्चा उनकी गोद में बैठा है और मेज पर रखी चॉकलेट और दूसरी चीजें उठाने की कोशिश कर रहा है। दूसरी तस्वीर में मोदी अपने नन्हें दोस्त को हवा में उछालकर बहलाते दिख रहे हैं। तस्वीरों को शेयर कर मोदी ने लिखा है कि ये बेहद खास दोस्त आज संसद में उनसे मिलने आया। 


        पीएम की इस बच्चे की कुछ घंटे के भीतर ही वायरल हो गई हैं। इन तस्वीरों को सोशल मीडिया यूजर खूब पसंद कर रहे हैं। ये छोटा बच्चा जिस तरह से पीएम की गोद में मस्ती कर रहा है, वो भी लोगों को खूब पसंद आ रहा है। लोग बच्चे को खूब दुआएं दे रहे हैं।





        सोशल मीडिया यूजर जहां बच्चे की पीएम के साथ मस्ती को पसंद कर रहे हैं तो वहीं लगातार ये भी सवाल कर रहे हैं कि ये बच्चा है कौन? दरअसल मोदी की ये खास दोस्त भाजपा के सांसद सत्यनारायण जटिया की पोती है। मंगलवार को जटिया के बेटे और बहू ससंद आए थे तो इसी दौरान उन्होंने मोदी से भी मुलाकात की। इस दौरान मोदी ने बच्चे के साथ वक्त बिताया।

        पीएम ने बच्चे के साथ खेलते हुए अपनी दो तस्वीरें शेयर कीं। वहीं ये बच्चा कौन है, इसकी डिटेल पीएम ने साझा नहीं की। भाजपा सांसद सत्यनारायण जटिया के परिवार के साथ मोदी की तस्वीर सामने आई तो बच्चे के बारे में पता चला।





        आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 



        पहली बार मोदी और योगी सरकार में हो गया टकराव, भाजपा में मची खलबली, जानें क्यों?




        नमस्कार दोस्तों आप सबका स्वागत है भारत आइडिया के इस  नए संस्करण के समाचार लेख में। भारत आइडिया के पाठकों आज इस लेख में हम मोदी जी और योगी जी के बारे में बात करेंगे जहां ये आमने सामने अगाए ।

        समाचार पढ़ने से पहले एक गुजारिस है, हमारे फेसबुक पेज को  लाइक कर हमारे साथ जुड़े। 



        भारतीय जनता पार्टी में अचानक एक बड़ा संकट आ खड़ा हुआ है। इससे पार्टी में हड़कंप मचा हुआ है। पहली बार ऐसा हुआ है कि किसी मुद्दे पर योगी आदित्यनाथ और नरेंद्र मोदी सरकार आमने-सामने आ गई हो। हालांकि मंगलवार को ऐसा ही हुआ जब संसद में मोदी सरकार के मंत्री ने योगी सरकार के खिलाफ ही बड़ा बयान दे दिया। आखिर वो मुद्दा कौन सा है, आइए जानते हैं।

        उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हों या भारत के पीएम नरेंद्र मोदी, दोनों के बीच कभी भी राजनीतिक टकराव नहीं होता है। सीएम योगी अपनी सरकार की सफलता का पूरा श्रेय मोदी को ही देते हैं। वहीं खुले दिल से उनकी तारीफ भी करते हैं। दूसरी ओर पीएम मोदी भी योगी की तारीफ करना किसी भी मौके पर नहीं भूलते हैं।




        पहली बार ऐसा हुआ है कि योगी और मोदी सरकार में टकराव हुआ है। जिस मुद्दे पर दोनों सरकारें आमने-सामने आई हैं वो मुद्दा ओबीसी आरक्षण का है। योगी सरकार ने प्रदेश की 17 ओबीसी जातियों को एससी में शामिल करने का आदेश दे दिया। इसके बाद से हड़कंप मच गया था। हालांकि मंगलवार को मोदी सरकार ने योगी आदित्यनाथ सरकार के उस फैसले को गैर-कानूनी करार दिया है।

        ओबीसी आरक्षण के फैसले पर राज्यसभा में केंद्रीय मंत्री थावर चंद गहलोत ने साफ कर दिया केन्द्र ने योगी सरकार से इस फैसले की वापसी की मांग की है। उन्होंने साफ कहा कि ये कानूनी रूप से उचित नहीं है। मंत्री बोले कि ये संसद का विशेष अधिकार है और विधिन मान्य भी नहीं है। ये जवाब उन्होंने बसपा सांसद सतीश चन्द्र मिश्रा की आपत्ति पर दिया।



        आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 



        नरेंद्र मोदी को चुना गया दुनिया का सबसे शक्तिशाली व्यक्ति, ट्रंप और पुतिन को पछाड़ा




        नमस्कार दोस्तों आप सबका स्वागत है भारत आइडिया के इस  नए संस्करण के समाचार लेख में। भारत आइडिया के पाठकों आज इस लेख में हम बात करेंगे मोदी जी के बारे में जिनको दुनिया का सबसे शक्तिशाली व्यक्ति चुना गया है।

        समाचार पढ़ने से पहले एक गुजारिस है, हमारे फेसबुक पेज को  लाइक कर हमारे साथ जुड़े। 



        प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारत के लिए अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर बड़ी खुशखबरी आई है. पीएम नरेंद्र मोदी को ब्रिटिश हेराल्ड के एक पोल में रीडर्स ने 2019 का दुनिया का सबसे ताकतवर शख्स चुना है. इस पोल में मोदी ने दुनिया के अन्य ताकतवर नेताओं जैसे व्लादिमीर पुतिन, डोनाल्ड ट्रंप और शी जिनपिंग को मात दी. नॉमिनेशन लिस्ट में दुनिया की 25 से ज्यादा हस्तियों को शामिल किया गया था और जज करने वाले पैनल एक्सपर्ट्स ने सबसे ताकतवर शख्स के तमगे के लिए 4 उम्मीदवारों का नाम सामने रखा. चयन प्रक्रिया का मूल्यांकन इन सभी आंकड़ों के व्यापक अध्ययन और रिसर्च पर आधारित था.

        वोटिंग के लिए आम प्रक्रिया का इस्तेमाल नहीं किया गया. ब्रिटिश हेराल्ड के रीडर्स को अनिवार्य वन टाइम पासवर्ड (ओटीपी) प्रोसेस के जरिए वोट करना था. हैरानी की बात है कि वोटिंग के दौरान साइट क्रैश भी हो गई क्योंकि वोटर्स अपनी पसंदीदा हस्ती को जिताने की कोशिश में जुटे थे.




        शनिवार को वोटिंग खत्म होने तक पीएम नरेंद्र मोदी को पोल में सबसे ज्यादा 30.9 प्रतिशत वोट मिले. वह अपने प्रतिद्वंदियों व्लादिमीर पुतिन, डोनाल्ड ट्रंप और शी जिनपिंग से काफी आगे थे. इस पोल में मोदी के बाद दूसरे सबसे ताकतवर शख्स रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन रहे, जिन्हें 29.9 प्रतिशत वोट मिले. वहीं 21.9 प्रतिशत लोगों ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को सबसे ताकतवर शख्स माना. इसके बाद चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग का नंबर आया, जिन्हें 18.1 प्रतिशत लोगों ने वोट दिया. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर ब्रिटिश हेराल्ड मैगजीन के जुलाई संस्करण के कवर पेज पर भी प्रकाशित की जाएगी. यह एडिशन 15 जुलाई को रिलीज होगा.




        आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 



        आठवले ने संसद में कहीं ऐसी बात की मोदी और सोनिया लगे खिलखिलाकर हसने, देखे वीडियो ।




        नमस्कार दोस्तों आप सबका स्वागत है भारत आइडिया के इस  नए संस्करण के समाचार लेख में। भारत आइडिया के पाठकों आज इस लेख में हम रामदास आठवले के बारे में जिन्होने संसद में कुछ ऐसा कहा कि पूरा संसद हसने लगे ।

        समाचार पढ़ने से पहले एक गुजारिस है, हमारे फेसबुक पेज को  लाइक कर हमारे साथ जुड़े। 



        राजस्थान के कोटा से बीजेपी (BJP) सांसद ओम बिड़ला (Om Birla) को लोकसभा (Lok Sabha) स्पीकर चुना गया है. बुधवार को उन्हें स्पीकर चुने जाने के बाद सभी पार्टी के नेताओं ने बधाई दी और वक्तव्य दिया. इस दौरान जिस नेता ने अपने भाषण से सबका ध्यान खींचा वो हैं रामदास अठावले (Ramdas Athawale). रामदास अठावले के भाषण पर पीएम मोदी (PM Narendra Modi) और यूपीए अध्यक्ष सोनिया (Sonia Gandhi) सहित सदन में मौजूद सभी नेता खिलखिलाकर हंस पड़े. हो भी क्यों न...अठावले ने बात ही ऐसी कही थी. 





        रामदास अठावले ने अपने भाषण के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) को उनके जन्मदिन पर बधाई भी दी. अठावले ने कहा, 'राहुल जी ने बहुत कोशिश की, लेकिन लोकतंत्र में लोग जो चाहते हैं उनकी सरकार बनती है. जब आपकी सत्ता थी, तो मैं आपके साथ था. चुनाव से पहले कांग्रेस वाले बोल रहे थे कि इधर आओ, लेकिन मैंने बोला मैं उधर आकर क्या करूंगा. मैंने हवा का रुख देखा था कि हवा मोदी जी के साथ है'. रामदास अठावले के इतना कहते ही पीएम मोदी, सोनिया गांधी और राहुल गांधी समेत तमाम नेता हंस पड़े.  



        आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 



        जानें कौन हैं ओम बिड़ला? पीएम मोदी ने उन पर कैसे खेला सबसे बड़ा दांव लोकसभा का अध्यक्ष बना के ?




        नमस्कार दोस्तों आप सबका स्वागत है भारत आइडिया के इस  नए संस्करण के समाचार लेख में। भारत आइडिया के पाठकों आज इस लेख में हम बात करेंगे मोदी जी के उस चाल के बारे में जो उन्होंने लोकसभा अध्यक्ष के लिए चला है ।

        समाचार पढ़ने से पहले एक गुजारिस है, हमारे फेसबुक पेज को  लाइक कर हमारे साथ जुड़े। 



        बीजेपी ने ओम बिड़ला को लोकसभा का नया अध्यक्ष बनाने का फैसला किया है। ओम राजस्थान के कोटा से बीजेपी सांसद हैं। वह मंगलवार (18 जून) को नामांकन दाखिल करेंगे। माना जा रहा है कि ओम बिड़ला के नाम की घोषणा करके पीएम मोदी ने लोगों को चौंका दिया है। बता दें कि इससे पहले बीजेपी ने 7 बार के सांसद वीरेंद्र कुमार को लोकसभा का प्रोटेम स्पीकर नियुक्त किया था। वीरेंद्र कुमार ने सोमवार को लोकसभा के सदस्यों को शपथ दिलाई थी।

        कौन हैं ओम बिड़ला
        राजस्थान के कोटा से वर्तमान सांसद ओम बिड़ला 3 बार राजस्थान विधान सभा के सदस्य भी रह चुके हैं। तब वह कोटा साउथ विधान सभा सीट से चुनाव लड़ते थे। बता दें कि ओम बिड़ला सामाजिक कार्यों के लिए कोटा में काफी मशहूर हैं। वह सामाजिक कार्यों में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेते हैं।




        राजस्थान सरकार में किए थे यह कारनामे: राजस्थान में वसुंधरा राजे की सरकार के दौरान ओम बिड़ला संसदीय सचिव बनाए गए थे। उन्होंने अपने कार्यकाल के दौरान गरीब, असहाय, गंभीर मरीजों को राज्य सरकार के माध्यम से 50 लाख की वित्तीय सहायता दिलाई थी। वहीं, अगस्त 2004 के दौरान कोटा के बाढ़ पीड़ितों की मदद करने के साथ-साथ उन्होंने राहत अभियान में राहत दल का नेतृत्व भी किया था।



        आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 



        मोदी सरकार ने लिया ऐसा फैसला, 3.6 करोड़ लोगों को होगा सीधा फायदा, जाने कैसे ।




        नमस्कार दोस्तों आप सबका स्वागत है भारत आइडिया के इस  नए संस्करण के समाचार लेख में। भारत आइडिया के पाठकों आज इस लेख में हम बात करेंगे मोदी सरकार के ऐसे फैसला के बारे में जिसमें , 3.6 करोड़ लोगों को होगा सीधा फायदा होगा ।




        समाचार पढ़ने से पहले एक गुजारिस है, हमारे फेसबुक पेज को  लाइक कर हमारे साथ जुड़े। 



        सरकार ने दिया तोहफा 
        मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का पहला आम बजट 5 जुलाई को पेश होने वाला है. इससे पहले सरकार की ओर से कई ऐसे फैसले लिए जा रहे हैं जिसका सीधा फायदा आम लोगों को मिलने वाला है. हाल ही में 'प्रधानमंत्री श्रमयोगी मानधन'' योजना पर मुहर लगाकर सरकार ने करीब 10 करोड़ असंगठित क्षेत्र के मजदूरों के लिए पेंशन योजना की शुरुआत की. अब कर्मचारी राज्य बीमा निगम (ESI)स्‍कीम में बदलाव कर 3 करोड़ से ज्‍यादा कर्मचारियों को बड़ा तोहफा दिया है. 




        स्वास्थ्य बीमा कार्यक्रम में होगा फायदा 
        दरअसल, केंद्र सरकार ने कर्मचारी राज्य बीमा निगम (ESI) के स्वास्थ्य बीमा कार्यक्रम में नियोक्ता (संस्‍था या कंपनी)और कर्मचारियों के कुल अंशदान को 6.5 फीसदी से घटाकर 4 फीसदी कर दिया है. सरकार के इस नए ऐलान के बाद नियोक्ता यानी कंपनी का अंशदान 3.25 फीसदी हो जाएगा. इससे पहले नियोक्ता को 4.75 फीसदी का अंशदान देना पड़ता था. 


        इसका मतलब यह हुआ कि ESI के स्वास्थ्य बीमा में नियोक्‍ता या कंपनी को पहले के मुकाबले अब 1.5 फीसदी कम योगदान देना होगा. इसी तरह कर्मचारी का अंशदान 1.75 फीसदी से घटाकर 0.75 फीसदी करने का फैसला किया गया है.




        आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 



        पाकिस्तान को जोरदार झटका देने की तैयारी में पीएम मोदी, एयर रूट बदलने के बाद अब उठाया यह कदम




        नमस्कार दोस्तों आप सबका स्वागत है भारत आइडिया के इस  नए संस्करण के समाचार लेख में। भारत आइडिया के पाठकों आज इस लेख में हम पाकिस्तान के बारे ने बात करने वाले है जिसमें पाकिस्तान को जोरदार झटका देने की तैयारी में पीएम मोदी, एयर रूट बदलने के बाद अब उठा सकते है ये कदम .

        समाचार पढ़ने से पहले एक गुजारिस है, हमारे फेसबुक पेज को  लाइक कर हमारे साथ जुड़े। 



        यात्रा के लिए अलग रूट  तय किया 
        शंघाई सहयोग संगठन (SCO) शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुरुवार को किर्गिस्तान की राजधानी बिश्केक पहुंचे हैं। एयरपोर्ट पर पीएम का भव्य स्वागत हुआ। इस यात्रा से पहले पीएम मोदी पाकिस्तान एयर स्पेस से होकर गुजरने वाले थे, हालांकि आखिरी समय में उनकी यात्रा के लिए अलग तय किया गया। इस रिपोर्ट में जानते हैं कि आखिर पीएम ने यात्रा के लिए अलग रूट क्यों चुना और वह किस रास्ते बिश्केक पहुंचे।

        इस रास्ते बिश्केक पहुंचे पीएम मोदी
        प्रधानमंत्री मोदी ने अपने गंतव्य के लिए तुर्किमेनिस्तान, उज्बेकिस्तान, तजाकिस्तान होकर गुजरने वाले रास्ते को चुना। इस तरह पीएम के विमान को पाकिस्तानी हवाई में घुसने की जरूरत नहीं पड़ी। बता दें कि इससे पहले भारतीय विदेश मंत्रालय ने पाकिस्तान से पीएम मोदी और विदेश मंत्री के लिए हवाई मार्ग खोलने का अनुरोध किया था। पाकिस्तान ने भी पीएम मोदी के विमान को पाक वायु सीमा से होकर गुजरने की इजाजत दे दी थी। लेकिन आखिरी पलों में विदेश मंत्रालय ने बताया कि पीएम पाक से होकर नहीं गुजरेंगे। विदेश मंत्रालय ने कहा था कि पीएम की यात्रा के लिए पहले से ही दो रूटों पर विचार किया जा रहा था और हर पहलू को ध्यान में रखते हुए सरकार ने फैसला किया किया कि वीवीआईपी विमान पाकिस्तान के बजाय इस रास्ते से गुजरेगा।




        इस कारण लिया गया फैसला
        भारत के इस फैसले पर भले ही कोई सीधा बयान सामने न आया हो, लेकिन अंदाजा लगाया जा रहा है कि ऐसा पुलवामा हमले और बालाकोट एयरस्ट्राइक के बाद दोनों देशों के रिश्तों में जारी तनाव के मद्देनजर किया गया है। बता दें कि जब भारत ने पाक से हवाई सीमा में यात्रा के लिए इजाजत का अनुरोध किया था, उस वक्त सोशल मीडिया पर इसका जमकर विरोध हुआ था।


        सिर्फ यहां हो सकता है पीएम मोदी-इमरान का आमना-सामना
        यही नहीं, पीएम की दो दिवसीय यात्रा के दौरान भी पाकिस्तानी पीएम इमरान खान से मुलाकात की कोई योजना नहीं है। इसके साथ ही पीएम ने बिश्केक में भी यह साफ किया कि अभी पाकिस्तान से बातचीत का माहौल नहीं है। पीएम मोदी ने कहा कि पाकिस्तान ने आतंकियों पर कोई ठोस कार्रवाई नहीं की है। इसलिए अभी पाक से बातचीत संभव नहीं। हालांकि, गुरुवार शाम को किर्गिस्तान की ओर से आयोजित किए जा रहे डिनर के दौरान दोनों नेताओं का आमना-सामना हो सकता है। इसके अलावा दोनों के बीच कुछ पलों की अनौपचारिक मुलाकात भी हो सकता है, जिसकी संभावना भारतीय विदेश मंत्रालय ने पहले ही जताई थी।



        आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे।