Engहिंदी

Get App

हम राजनीती एवं इतिहास का एक अभूतपूर्व मिश्रण हैं.हम अपने धर्म की ऐतिहासिक तर्क-वितर्क की परंपरा को परिपुष्ट रखना चाहते हैं.हम विविध क्षेत्रों,व्यवसायों,सोंच और विचारों से हो सकते हैं,किन्तु अपनी संस्कृति की रक्षा,प्रवर्तन एवं कृतार्थ हेतु हमारा लगन और उत्साह हमें एकजुट बनाये रखता है.हम आपके विचारों के प्रतिबिंब हैं,आपकी अभिव्यक्ति के स्वर हैं,हम आपको निमंत्रित करते हैं,अपने मंच 'BharatIdea' पर,सारे संसार तक अपना निनाद पहुंचायें.

अपने कद को कम होता देख रातो रात पूरी बीजेपी को हिलाया राजनाथ सिंह ने और दिखाई अपनी ताकत ।




लोकसभा चुनाव में मिली प्रचंड बहुमत के साथ सत्ता में लौटी मोदी सरकार पूरे फॉर्म में दिख रही है। देश का काया-कल्प करने के इरादे से सरकार ने हाल ही में दो नई कैबिनेट कमेटियों का गठन किया है। लेकिन सूत्रों के हवाले से खबर है कि सरकार का उक्त फैसला संगठन पर भारी पड़ रहा है। सरकार के इस फैसले से पार्टी के वरिष्ठ नेता नाराज चल रहे हैं। जिसके बाद सरकार को अपने फैसले में बदलाव करना पड़ा है।




ऐतिहासिक बहुमत के साथ सत्ता में लौटी मोदी सरकार पर गृह मंत्री अमित शाह का दबदबा साफ दिख रहा है। कैबिनेट की नवगठित सभी आठ समितियों में अमित शाह गृह मंत्री के हैसियत से शामिल हैं। जबकि वरिष्ठ नेता व रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को सिर्फ दो कमेटियों में ही शामिल किया गया था। सरकार का फैसला इस ओर संकेत देता है कि मोदी की नई सरकार में राजनाथ की ताकत कम करने की कोशिश की जा रही है।




सूत्रों की माने तो सिर्फ दो कमेटियों में शामिल किए जाने से नाराज चल रहे राजनाथ ने इस्तीफे तक की पेशकश कर दी थी। जिससे घबराई सरकार ने 8 कैबिनेट कमेटियों में से छह में राजनाथ को शामिल करने का फैसले किया है। बता दें कि मोदी सरकार के पहले कार्यकाल के दौरान गृहमंत्री रहे राजनाथ सिंह को आर्थिक मामलों और सुरक्षा मामलों की कैबिनेट समितियों में शामिल किया गया था। हालांकि अब उन्हें संसदीय मामलों, राजनीतिक मामलों, निवेश और वृद्धि संबंधी समितियों के साथ-साथ रोजगार और कौशल विकास पर बनी कैबिनेट समिति में भी शामिल किया गया है।



Breaking News
Loading...
Scroll To Top