This is default featured slide 1 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.

This is default featured slide 2 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.

This is default featured slide 3 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.

This is default featured slide 4 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.

This is default featured slide 5 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.

वाशिंगटन में इमरजेंसी, चार की मौत, ट्रम सोशल मीडिया पर बैन

⚫ अमेरिका के वाशिंगटन में गुरुवार तड़के (भारतीय समयानुसार) डोनाल्ड ट्रंप के समर्थकों ने जमकर बवाल किया. 

⚫ हजारों की संख्या में प्रदर्शनकारी सीनेट में घुसे, यहां कब्जे की कोशिश की और हंगामा किया. 

⚫ अभी वाशिंगटन में हिंसा थम गई है, कर्फ्यू भी लगा दिया गया है. 

⚫ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत दुनिया के कई बड़े नेताओं ने हिंसा की निंदा की है.





चार लोगों की मौत, वाशिंगटन में इमरजेंसी :

वाशिंगटन पुलिस के मुताबिक, गुरुवार को हुई इस हिंसा में कुल चार लोगों की मौत हो गई है. इनमें से एक महिला की मौत पुलिस की गोली से हुई है. जब पूरे इलाके को खाली करवाया गया तो ट्रंप समर्थकों के पास बंदूकों के अलावा अन्य खतरनाक चीजें भी मौजूद थीं. अमेरिका के वाशिंगटन में हिंसा के बाद पब्लिक इमरजेंसी लगा दी गई है. वाशिंगटन के मेयर के मुताबिक, इमरजेंसी को 15 दिन के लिए बढ़ाया गया है.



अमेरिका में लगी इस्तीफों की झड़ी...

अमेरिकी संसद में हुए बवाल का असर अब दिखने लगा है. बड़ी संख्या में लोगों ने इस हिंसा की निंदा की है. हिंसा को लेकर ही गुरुवार को कई लोगों ने अपने इस्तीफे दिए. ट्रंप प्रशासन में व्हाइट हाउस डिप्टी प्रेस सेक्रेटरी सारा मैथ्यू ने अपना पद त्याग दिया. इसके अलावा मेलानिया ट्रंप की चीफ ऑफ स्टाफ स्टेफनी ग्रीशन ने भी हिंसा के विरोध में पद से इस्तीफा दिया. अब अमेरिका में डोनाल्ड ट्रंप को तुरंत पद से हटाने की कोशिश हो रही है. उनके कार्यकाल में अभी दो हफ्ते बचे हैं, लेकिन करीब दो दर्जन से अधिक डेमोक्रेट्स सीनेटर फिर से महाभियोग लाने की तैयारी में हैं.



ऐसी तमाम खबर पढ़ने और वीडियो के माध्यम से देखने के लिए हमारे पेज को अभी लाइक करे,कृपया पेज लाईक जरुर करे :- 




आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 


महिला ने रतन टाटा की गाड़ी का नंबर अपनी गाड़ी पर लिखा; रत्न टाटा को भेजा गया ई-चलान

⚫ मुंबई पुलिस ने टाटा संस के मानद चेयरमैन रतन टाटा की गाड़ी का नंबर अपनी कार पर लिखने को लेकर एक महिला कारोबारी के खिलाफ मामला दर्ज किया है। 

⚫ महिला कारोबारी द्वारा किए गए ट्रैफिक नियम उल्लंघन के लिए टाटा को ई-चालान भेजा गया था। 

⚫ महिला ने न्यूमरोलॉजी कारणों से अपनी कार की नंबर प्लेट को बदला था।





क्या है मामला :

मुंबई के एक दिलचस्प मामला सामने आया है। मुंबई में एक महिला रतन टाटा की कार की नंबर प्लेट का इस्तेमाल कर अपनी कार चला रही थी। इस बात का खुलासा तब हुआ जब मुंबई पुलिस ने ट्रैफिक तोड़ने पर देश के बड़े उद्योगपति रतन टाटा के यहां चालान पहुंचा दिया। पुलिस ने बताया कि आरोपी महिला अपनी कार पर रतन टाटा की कार की नंबर प्लेट इस्तेमाल कर रही थी। पुलिस के मुताबिक, महिला का कहना है कि उसे इस बात की जानकारी नहीं थी कि उसकी कार पर लगी नंबर प्लेट रतन टाटा की गाड़ी का ही नंबर है।



आरोपित महिला ने क्या कहा :

महिला ने पुलिस को बताया कि किसी ज्योतिष ने उन्हें अपनी कार के लिए विशेष नंबर प्लेट के इस्तेमाल की सलाह दी थी, इसलिए महिला उस नंबर प्लेट का इस्तेमाल कर रही थी। पुलिस ने बताया कि यह मामला रात का था और आरोपी महिला थी, इसलिए महिला को तुरंत थाने नहीं बुलाया गया। महिला को बुधवार को पूछताछ के लिए बुलाया गया और महिला की गिरफ्तारी की काफी उम्मीदें हैं। पुलिस ने आरोपी महिला के खिलाफ आईपीसी की धारा 420 और 465 का मामला दर्ज किया है। पुलिस ने बताया कि रतन टाटा पर ट्रैफिक उल्लंघन का जुर्माना लगाया गया था लेकिन उन्होंने कोई ट्रैफिक नियम नहीं तोड़ा था।



ऐसी तमाम खबर पढ़ने और वीडियो के माध्यम से देखने के लिए हमारे पेज को अभी लाइक करे,कृपया पेज लाईक जरुर करे :- 




आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 


कोर्ट ने माना ताहिर हुसैन और उमर ख़ालिद ने मिलकर रची थी दिल्ली हिंसा की साजिश

⚫दिल्ली की एक अदालत के अनुसार, प्रथम दृष्टया इस बात के पर्याप्त आधार हैं कि पूर्व जेएनयू छात्र उमर खालिद और निलंबित 'आप' पार्षद ताहिर हुसैन ने उत्तर-पूर्वी दिल्ली दंगों के दौरान मिलकर साज़िश रची थी। 

⚫दिल्ली की एक अदालत ने मंगलवार को कहा कि यह प्रदर्शित करने के लिए प्रथमदृष्टया उपयुक्त आधार हैं कि पूर्व छात्र नेता उमर खालिद, ताहिर हुसैन और अन्य ने उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हुए दंगों के दौरान षड्यंत्र रचे थे। अदालत ने मामले में पूरक आरोपपत्र का संज्ञान लेते हुए यह टिप्पणी की।

⚫बकौल मुख्य मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट दिनेश कुमार, फरवरी में हुए दंगों से संबंधित मामले में खालिद के खिलाफ कार्रवाई के लिए पर्याप्त सामग्री है।



क्या कहा मैजिस्ट्रेट ने :

मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट दिनेश कुमार ने कहा कि पिछले वर्ष फरवरी में खजूरी खास इलाके में सांप्रदायिक हिंसा से जुड़े मामले में खालिद के खिलाफ कार्यवाही आगे बढ़ाने के लिए पर्याप्त सामग्री उपलब्ध है। अदालत ने कहा कि एक गवाह का बयान यह प्रदर्शित करने के लिए पर्याप्त है कि उस वक्त खालिद, ताहिर हुसैन के कथित संपर्क में था। हुसैन पर मुख्य षड्यंत्रकारी होने का आरोप है जिसने दंगे भड़काए और लोगों से लूटपाट करने तथा संपत्तियों को जलाने के लिए भीड़ को उकसाया।




किस आधार पर माना आरोपी :

अदालत ने कहा कि अभियोजन ने गवाह राहुल कसाना के बयानों का जिक्र किया है और उसने सीआरपीसी की धारा 161 (पुलिस द्वारा जांच) के तहत बयान दर्ज कराए हैं, जिसमें उसने कहा है कि उस वक्त वह हुसैन के वाहन चालक के रूप में काम कर रहा था। अदालत ने कहा कि उसके बयान के मुताबिक कसाना ने आरोपी हुसैन को संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के खिलाफ प्रदर्शन करने वाले लोगों और इसमें हिस्सा लेने वाले लोगों को कथित तौर पर पैसे बांटते देखा था।



200 से ज्यादा लोग मारे गए थे दंगे में :

अदालत ने जांच अधिकारी को निर्देश दिया कि संबंधित जेल अधीक्षक के माध्यम से पूरक आरोपपत्र की एक प्रति खालिद को दी जाए। संशोधित नागरिकता कानून के समर्थकों और विरोधियों के बीच पिछले वर्ष 24 फरवरी को उत्तर-पूर्वी दिल्ली में सांप्रदायिक हिंसा भड़क गई थी। इसमें 53 लोगों की मौत हो गई और करीब 200 व्यक्ति जख्मी हो गए थे।



ऐसी तमाम खबर पढ़ने और वीडियो के माध्यम से देखने के लिए हमारे पेज को अभी लाइक करे,कृपया पेज लाईक जरुर करे :- 




आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 


प्रणब की किताब में दावा- भारत में मिलना चाहता था नेपाल, किंतु नेहरू ने ठुकराया था प्रस्ताव

प्रणब मुखर्जी ने पंडित जवाहर लाल नेहरू को लेकर चौंकाने वाला दावा किया है। 

⚫प्रणब मुखर्जी ने दावा किया है कि नेहरू ने नेपाल को भारत में विलय करने के प्रस्ताव को खारिज कर दिया था। 

⚫पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने अपनी बहुचर्चित ऑटोबायोग्राफी ‘द प्रेसिडेंशियल ईयर्स’ में दावा किया है कि पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने नेपाल के भारत में विलय करने के राजा त्रिभुवन बीर बिक्रम शाह के प्रस्ताव को ठुकरा दिया था।

⚫उन्होंने यह भी कहा कि अगर उनकी जगह इंदिरा होतीं तो शायद ऐसा नहीं करतीं।




क्या लिखा प्रणब मुखर्जी ने :-

ऑटोबायोग्राफी ‘द प्रेसिडेंशियल ईयर्स’ के चैप्टर 11 'माई प्राइम मिनिस्टर्स: डिफरेंट स्टाइल्स, डिफरेंट टेम्परमेंट्स' शीर्षक के तहत प्रणब मुखर्जी ने लिखा है कि, 'नेहरू ने बहुत कूटनीतिक तरीके से नेपाल से निपटा। नेपाल में राणा शासन की जगह राजशाही के बाद हरू ने लोकतंत्र को मजबूत करने अहम भूमिका निभाई। दिलचस्प बात यह है कि नेपाल के राजा त्रिभुवन बीर बिक्रम शाह ने नेहरू को सुझाव दिया था कि नेपाल को भारत का एक प्रांत बनाया जाए। लेकिन नेहरू ने इस प्रस्ताव को अस्वीकार कर दिया।' उनका कहना है कि नेपाल एक स्वतंत्र राष्ट्र है और उसे ऐसा ही रहना चाहिए। वह आगे लिखते हैं कि अगर इंदिरा गांधी उनकी जगह होतीं, तो शायद वह अवसर का फायदा उठातीं, जैसा कि उन्होंने सिक्किम के साथ किया था।


ऐसी तमाम खबर पढ़ने और वीडियो के माध्यम से देखने के लिए हमारे पेज को अभी लाइक करे,कृपया पेज लाईक जरुर करे :- 




आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 


UP में सरकार लापरवाह : वाराणसी में साइकिल से कोरोना वैक्सीन लेकर पहुंचे अस्पताल

यूपी के सभी जिलों में प्रशिक्षित वैक्सीनेटर्स के माध्यम से कोविड वैक्सीन का ड्राई रन (मॉक ड्रिल) मंगलवार को शुरू हाे गया। इस दौरान वाराणसी में तैयारियों की पोल उस समय खुली जब कर्मचारी वैक्सीन को साइकिल पर लेकर अस्पताल पहुंचे। जहां पर वैक्सीन रखे जाने की बात कही जा रही है हालांकि वहां पुलिस की तैनाती जरूर की गई थी लेकिन वैक्सीन को अस्पताल तक पहुंचाने की पूरी तैयारी नहीं की गई। चौकाघाट कोरोना वैक्सीन केंद्र से वैक्सीन महिला अस्पताल साइकिल से पहुंचाई गई। वहीं महिला अस्पताल में जब वैक्सीन पहुंची तो वहां भी तैयारी नहीं थी। वैक्सीन आने के बाद वहां पर मेज आदि व्यवस्थित किए गए।




क्या कहा प्रशासन ने :-

साइकिल से वैक्सीन के बारे में पूछने पर वाराणसी के सीएमओ डॉ वीबी सिंह का कहना है पांच केंद्रों पर वैन से वैक्सीन गई है। केवल महिला अस्पताल में साइकिल  से वैक्सीन कैरियर लेकर आया है।  हर जिले में 6-6 स्थानों पर वैक्सीनेशन के लिए ड्राई रन आयोजित हो रहे हैं। ड्राई रन के दौरान किसी को भी कोई वैक्सीन नहीं लगाई जा रही है बल्कि केवल वैक्सीन लगाने का मॉक ड्रिल किया जा रहा है। इसके बाद बावजूद कई जिलों में अलग-अलग अव्यवस्था देखने को मिली।



वैक्सिन लगने की प्रक्रिया क्या है :

सभी जिलों में ड्राई रन मुख्य रूप से पांच चरणों में है। पहले चरण में वैक्सीन लगवाने वाले का आइडेंटिफिकेशन, उसके बाद उसके लिए वैक्सिन की वायल लगाने वाले स्वास्थ्यकर्मी को देना फिर वैक्सीन लगवाने वाले की आईडी लॉग इन करना और उसके बाद उन्हें वैक्सीन लगाना। वैक्सीनेशन के बाद वैक्सीन लगवाने वाले को एक वैक्सीनेशन कार्ड दिया जाएगा। इस कार्ड में जिस दिन वैक्सीनेशन हुआ, उस दिन का  विवरण और अगले 28वें दिन लगने वाली दूसरी डोज़ की तारीख अंकित होगी। वैक्सीनेशन के बाद प्रत्येक व्यक्ति को 30 मिनट तक ऑब्जरवेशन में रखा जाएगा।



ऐसी तमाम खबर पढ़ने और वीडियो के माध्यम से देखने के लिए हमारे पेज को अभी लाइक करे,कृपया पेज लाईक जरुर करे :- 




आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 


दिल्ली विधानसभा चुनाव के नतीजे के दो दिन बाद गृह मंत्री अमित शाह का बयान आया है.

दिल्ली विधानसभा चुनाव के नतीजे के दो दिन बाद गृह मंत्री अमित शाह का बयान आया है. एक कार्यक्रम में अमित शाह ने कहा कि बहुत सारे दलों के लिए चुनाव सरकार बनाने और गिराने के लिए होते हैं. लेकिन भाजपा एक विचारधारा पर आधारित पार्टी है, हमारे लिए चुनाव हमारी विचारधारा को बढ़ाने का जरिया है. सिर्फ हार-जीत के लिए हम चुनाव नहीं लड़ते.


 

हार जित के लिए है, चुनाव नहीं लड़ते:-
विधानसभा चुनाव के नतीजे के दो दिन बाद गृह मंत्री अमित शाह का बयान आया है. एक कार्यक्रम में अमित शाह ने कहा कि बहुत सारे दलों के लिए चुनाव सरकार बनाने और गिराने के लिए होते हैं. लेकिन भाजपा एक विचारधारा पर आधारित पार्टी है, हमारे लिए चुनाव हमारी विचारधारा को बढ़ाने का जरिया है. सिर्फ हार-जीत के लिए हम चुनाव नहीं लड़ते.



सबको अपनी राय रखने का हक:-
गृह मंत्री शाह ने कहा कि चुनाव में गोली मारने का बयान उचित नहीं था तो राहुल गांधी के डंडे मारने वाला बयान भी ठीक नहीं था. मुद्दा आज भी ये है कि किसी का विरोध किस प्रकार से और किस चीज के लिए होना चाहिए. उन्होंने कहा कि जिस तरह से शाहीन बाग का समर्थन करने वालों को अपने विचार रखने का अधिकार है. उसी प्रकार से हमें भी हमारे विचार व्यक्त करने का अधिकार है और हमने वो किया.



यहां पोस्ट देखे :-
मंत्री ने कहा कि हमारा मन शुद्ध है और हम शुद्ध मन से काम करते हैं. हमने कभी भी धर्म के आधार पर भेदभाव नहीं किया है. मैं आज भी देश को बताना चाहता हूं कि CAA में ऐसा कोई भी प्रावधान नहीं है, जो देश के मुस्लिमों की नागरिकता ले सकता हो.शाह ने कहा कि कश्मीर में स्थिति सामान्य है. कोई भी वहां जा सकता है, लेकिन कोई वहां भड़काने वाले भाषण करेगा तो सरकार को कदम उठाने पड़ेंगे. उन्होंने कहा कि अभी कोई भी वहां जाए हम सबको परमिशन दे रहे हैं. सिर्फ वहां के कुछ नेता कुछ प्रावधानों के तहत अभी नजरबंद हैं.



SC/ST मुद्दे पर कांग्रेस को ठहराया:-
अमित शाह ने कहा कि मैं पूरे देश की जनता और विशेषकर SC/ST समुदाय के अपने भाई-बहनों को बताना चाहता हूं कि ये जो प्रस्ताव सुप्रीम कोर्ट में चर्चा में आया, वो कांग्रेस की उत्तराखंड सरकार ने किया था, भाजपा ने नहीं. आरक्षण के लिए वो स्टैंड कांग्रेस की सरकार का था, भाजपा की सरकार का नहीं.


ऐसी तमाम खबर पढ़ने और वीडियो के माध्यम से देखने के लिए हमारे पेज को अभी लाइक करे,कृपया पेज लाईक जरुर करे :- 




आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 


दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने उत्तर पूर्वी दिल्ली में हुए दंगो पर की करवाई

बरी खबर, थोड़े में ज्यादा, समय की बचत :-

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल (Delhi CM Arvind Kejriwal) ने उत्तर पूर्वी दिल्ली (North East Delhi) पर बयां देते हुए कहा है की  वहां ( North East Delhi) 4 उपमंडल (sub-divisions ) हैं। वहां आम तौर पर 4 एसडीएम (SDMs) होते थे, लेकिन अब हमने वहां 18 एसडीएम (SDMs) नियुक्त किए हैं। वे जनता के बीच जा रहे हैं और उनसे बात कर रहे हैं और  हम बड़े पैमाने पर भोजन वितरित कर रहे हैं। 



    ऐसी तमाम खबर पढ़ने और वीडियो के माध्यम से देखने के लिए हमारे एप्प को अभी इनस्टॉल करे और हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करे:-
      





    आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 


    मानव अधिकार परिषद (Human Rights Council) के 43 वें सत्र(43rd Session) में भारत का कड़ा जवाब पकिस्तान को

    बरी खबर, ज्यादा खबर, समय का बचत  :-

    मानव अधिकार परिषद (Human Rights Council)  के 43 वें सत्र(43rd Session) में एजेंडा आइटम 2 के तहत भारत द्वारा प्रतिक्रिया  देने का अधिकार: भारत को बदनाम करने के लिए अंतर्राष्ट्रीय समुदाय ( international community ) को पाकिस्तानी ( Pakistan') उन्मादपूर्ण प्रतिक्रियाओं से गुमराह नहीं किया जा सकता है। दुनिया को पाक के मानवाधिकारों के रिकॉर्ड के बारे में पता है और एक कड़ा नियंत्रण इसे छिपा नहीं सकता है.



      ऐसी तमाम खबर पढ़ने और वीडियो के माध्यम से देखने के लिए हमारे एप्प को अभी इनस्टॉल करे और हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करे:-
        





      आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 


      सलमान खुर्शीद, कांग्रेस नेता का दिल्ली दंगो पर बरा बायन आया है , जाने क्या कहा उन्होंने .

      समाचार के मुख्य बिंदु :-

      सलमान खुर्शीद, कांग्रेस: मुझे लगता है कि इस समय एक-दूसरे पर चिल्लाना और आग जोड़ना स्पष्ट रूप से जवाब नहीं है। पहली जिम्मेदारी मानवीय सहायता लाना और यह सुनिश्चित करना है कि जहां कहीं भी आग लगी है, उसे जल्दी और प्रभावी रूप से धोया जाना चाहिए।



        ऐसी तमाम खबर पढ़ने और वीडियो के माध्यम से देखने के लिए हमारे एप्प को अभी इनस्टॉल करे और हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करे:-
          





        आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 


        दिल्ली हिंसा पर सुनवाई टली,कपील मिश्रा पर बेबुनियाद आरोप, पढ़े पूरी खबर

        समाचार के मुख्य बिंदु :-

        1. दिल्ली हिंसा मामले में दिल्ली हाईकोर्ट में सुनवाई शुरू हो गई है.
        2. दिल्ली पुलिस ने जवाब दाखिल करने के लिए समय मांगा है.
        3. हाई कोर्ट ने दिल्ली पुलिस को 13 अप्रैल तक का समय दे दिया है.
        4. हाई कोर्ट ने गृह मंत्रालय को दिल्ली हिंसा मामले में पक्षकार बनाए जाने की दलील को मंजूरी दी.
        5. केंद्र और दिल्ली पुलिस के वकील सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा भड़काऊ बयानों पर नहीं हो सकती करवाई.
        6. याचिकाकर्ता केवल तीन भड़काऊ बयानों को चुनकर कार्रवाई की मांग नहीं कर सकता.
        7. इन तीन हेट स्पीच के अलावा कई और हेट स्पीच है, जिसको लेकर शिकायत दर्ज कराई गई.
        8. हम हिंसा को नियंत्रित करने की पूरी कोशिश कर रहे हैं : तुषार मेहता.
        9. केंद्र को पक्षकार बनाया जाए या नहीं ये कोर्ट को तय करना है, याचिकाकर्ता को नहीं : तुषार मेहता.
        10. कल तक हमने 11 और आज 37 एफआईआर दर्ज किया. कुल 48 एफआईआर दर्ज किए गए है : तुषार मेहता.


          दिल्ली  हिंसा मामले में दिल्ली हाईकोर्ट में सुनवाई  शुरू हो गई है:-
          दिल्ली( Delhi)  हिंसा मामले में दिल्ली हाईकोर्ट(Delhi High Court) में सुनवाई शुरू हो गई है. दिल्ली पुलिस(Delhi Police) ने कोर्ट में अपना जवाब दाखिल करने के लिए समय मांगा है. इस पर हाई कोर्ट ने 13 अप्रैल तक का समय दे दिया है. तब तक केंद्र सरकार(central government) को भड़काऊ भाषण पर रिपोर्ट सौंपनी होगी. अब मामले की अगली सुनवाई 13 अप्रैल को होगी. इसके साथ ही हाई कोर्ट(Delhi High Court) ने केंद्र सरकार यानी गृह मंत्रालय(Ministry of Home Affairs) को दिल्ली हिंसा मामले में पक्षकार बनाए जाने की दलील को मंजूरी दी.केंद्र और दिल्ली पुलिस के वकील सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता(Solicitor General Tushar Mehta) ने कहा कि कल कोर्ट ने आदेश जारी कर जवाब मांगा था कि जो भड़काऊ बयान दिए गए थे उनपर करवाई की जाए, जबकि ये बयान 1-2 महीने पहले दी गई. याचिकाकर्ता(The petitioner ) केवल तीन भड़काऊ बयानों को चुनकर कार्रवाई की मांग नहीं कर सकता.

          हम हिंसा को नियंत्रित करने की पूरी कोशिश कर रहे हैं : तुषार मेहता :-
          सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता(Solicitor General Tushar Mehta) ने कहा कि हमारे पास इन तीन हेट स्पीच के अलावा कई और हेट स्पीच( hate speech) है, जिसको लेकर शिकायत दर्ज कराई गई. याचिकाकर्ता(The petitioner) ने चुनिंदा सिर्फ तीन वीडियो का हवाला दिया है. एक जनहित याचिका में ऐसा नहीं होता. केंद्र (Center) को पक्षकार बनाया जाए या नहीं ये कोर्ट(court ) को तय करना है, याचिकाकर्ता(The petitioner) को नहीं. हम हिंसा को नियंत्रित करने की पूरी कोशिश कर रहे हैं.केंद्र की इस दलील पर याचिकाकर्ता की ओर से बोले वकील कोलिन गोंजाल्विश(Colin Gonzalvish) ने कहा कि सबसे पहले आज ही सभी के खिलाफ एफआईआर(FIRs ) दर्ज हों, फिर फटाफट गिरफ्तारी भी हो..


          हमारे पास कई और क्लिप्स:-
          तुषार मेहता(Tusshar Mehta) ने कहा कि मौजूदा माहौल इस बात के लिए उपयुक्त नहीं है कि हम चुनिंदा तरीके से उन्हीं तीन वीडियो ( बीजेपी नेताओं कपिल मिश्रा, अनुराग ठाकुर और प्रवेश वर्मा की स्पीच) (Speeches by BJP leaders Kapil Mishra, Anurag Thakur and Pravesh Verma) को देखे. इस पर चीफ जस्टिस डीएन पटेल(Chief Justice DN Patel) ने पूछा कि 11 एफआईआर दर्ज की गई हैं ? जवाब देते हुए सॉलीसिटर जनरल तुषार मेहता(Solicitor General Tushar Mehta ) ने कहा कि कल तक हमने 11 और आज 37 एफआईआर दर्ज किया. कुल 48 एफआईआर दर्ज किए गए है. याचिकाकर्ता इस पर एफआईआर चाहता है कि कपिल मिश्रा( Kapil Mishra ) ने ऐसा किया या वारिस पठान ने ऐसा किया. मौत या आगजनी या लूटपाट होने पर हमें एफआईआर(FIR) दर्ज करनी होती है. अन्य मुद्दों में समय लगता है.


          ऐसी तमाम खबर पढ़ने और वीडियो के माध्यम से देखने के लिए हमारे एप्प को अभी इनस्टॉल करे और हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करे:-

            





          आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 


          दिल्ली में आईपीएस अफसरों पर गिरी गाज अब तक 5 का तबादला...............

          समाचार के मुख्य बिंदु :-

          1. दिल्ली में सोमवार को हुई हिंसा में अब तक कुल 22 लोगों की मौत हो चुकी है.
          2. पांच आइपीएस अफसरों(IPS officers) का तबादला कर दिया गया है.
          3. कोर्ट  ने बुधवार को हिंसा पर दायर याचिका पर कहा कि दिल्ली में एक और 1984 नहीं होनें देंगे.
          4. हाई कोर्ट ने कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री हिंसा प्रभावित इलाकों में दौरा करें .
          5. संजय भाटिया DCP सेंट्रल बनाए गए है.
          6. नरेंद्र मोदी ने भाईचारा बनाए रखने की अपील की.


            5 आईपीएस अफसरों का हुआ तबादला :-
            दिल्ली (Delhi) में सोमवार को हुई हिंसा में अब तक कुल 22 लोगों की मौत हो चुकी है. इस बीच दिल्ली पुलिस(Delhi Police) ने बड़ा कदम उठाते हुए पांच आइपीएस अफसरों(IPS officers) का तबादला कर दिया है। इससे पहले दिल्ली हाई कोर्ट (Delhi High Court) ने बुधवार (on Wednesday) को हिंसा पर दायर याचिका पर कहा कि दिल्ली (Delhi) में एक और 1984 नहीं होनें देंगे। वहीं, उत्तर पूर्वी दिल्ली (North East Delhi) में हिंसा को लेकर हाई कोर्ट (Delhi High Court) ने कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री (Chief Minister and the Deputy Chief Minister) हिंसा प्रभावित इलाकों में दौरा करें और लोगों में विश्वास जगाएं। आपको बता दें संजय भाटिया DCP सेंट्रल बनाए गए है।

            और भी लोगो के हुए तबादले :-
            इन तीन के अलावा इंदिरा गांधी हवाई अड्डे ( Indira Gandhi Airport) पर तैनात डीसीपी ( DCP) संजीव भाटिया की पोस्टिंग डीसीपी  (Central District) के तौर पर की गई है। कमिश्नर ऑफ पुलिस (Commissioner of Police) के स्टाफ ऑफिसर राजीव रंजन को आईजीआई एयरपोर्ट ( IGI Airport) का डीसीपी नियुक्त किया गया।



            नरेंद्र मोदी ने भाईचारा  बनाए रखने की अपील की
            दिल्ली (Delhi) में फैली हिंसा के तीन दिन बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi)ने भी ट्वीट किए। उन्होंने लोगों से भाईचारा (brotherhood) बनाए रखने की अपील की। मोदी ने कहा कि यह जरूरी है कि इस वक्त हर जगह शांति हो और सामान्य स्थिति जल्द से जल्द कायम हो।बता दें कि 23 फरवरी से फैली इस हिंसा में अब तक 27  से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। 250 से ज्यादा घायल हैं। दिल्ली  (Delhi) के जाफराबाद, मौजपुर, चांदपुर ( Zafarabad, Maujpur, Chandpur) समेत उत्तर-पूर्वी दिल्ली में पुलिस को उपद्रवियों को देखते ही गोली मारने का आदेश भी दिया गया है।


            ऐसी तमाम खबर पढ़ने और वीडियो के माध्यम से देखने के लिए हमारे एप्प को अभी इनस्टॉल करे और हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करे:-
              





            आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 


            Delhi Violence Breaking : दिल्ली दंगो से जुड़ी अब तक की 7 TRENDING खबर

            समाचार के मुख्य बिंदु :-

            1. Delhi Violence: हिंसा में अब तक 27 लोगों की मौत, फटकार के बाद आज हाई कोर्ट में जवाब देगी पुलिस :-
            2. Delhi Violence: NSA डोभाल ने दी शाह को रिपोर्ट, दो घंटे की बैठक के बाद बोले- सब शांत है :-
            3. उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हिंसा को लेकर 106 लोग गिरफ्तार, 18 एफआईआर दर्ज :-
            4. हिंसा पीड़ितों को हर तरह की मदद पहुंचाएं: दिल्ली के गुरुद्वारों से अकाल तख्त जत्थेदार :-
            5. रजनीकांत ने दिल्ली हिंसा को बताया गृह मंत्रालय और खुफिया तंत्र की नाकामी :-
            6. दिल्ली से मुंबई ने लिया सबक, आजाद मैदान के अलावा कहीं प्रदर्शन की इजाजत नहीं :-
            7. दिल्ली पुलिस को राजनीतिक आकाओं के आदेश का इंतज़ार नहीं करना चाहिए था: पूर्व यूपी डीजीपी :-



            Delhi Violence: हिंसा में अब तक 27 लोगों की मौत, फटकार के बाद आज हाई कोर्ट में जवाब देगी पुलिस :-Delhi Violence: दिल्ली हिंसा में अब तक 27 लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं, दिल्ली पुलिस के लिए गुरुवार का दिन अहम होने वाला है. पुलिस को नेताओं का भड़काऊ वीडियो देखने के बाद गुरुवार को कोर्ट में जवाब देना है.
            Delhi Violence: NSA डोभाल ने दी शाह को रिपोर्ट, दो घंटे की बैठक के बाद बोले- सब शांत है :- अजीत डोभाल ने बुधवार को हिंसा प्रभावित इलाकों का दौरा किया और लोगों से बातचीत की. इसके बाद उन्होंने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के साथ बैठक की और हालात की जानकारी दी.
            उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हिंसा को लेकर 106 लोग गिरफ्तार, 18 एफआईआर दर्ज :-दिल्ली पुलिस ने बताया है कि उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हुई हिंसा के मामले में 106 लोगों को गिरफ्तार किया गया है और 18 एफआईआर दर्ज की गई हैं। वहीं, बुधवार को हिंसा की घटना रिपोर्ट नहीं हुई है और उत्तर-पूर्वी दिल्ली से पीसीआर कॉल में भी कमी आई है। साथ ही, पुलिस ने 2 हेल्पलाइन नंबर भी जारी किए हैं।
            हिंसा पीड़ितों को हर तरह की मदद पहुंचाएं: दिल्ली के गुरुद्वारों से अकाल तख्त जत्थेदार :- दिल्ली में हिंसा को देखते हुए अकाल तख्त के जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने बुधवार को दिल्ली के सभी गुरुद्वारों से कहा है कि वह हिंसा पीड़ितों को हर तरह की मदद पहुंचाएं। उन्होंने हिंसा की निंदा करते हुए एक प्रेस नोट जारी किया जिसमें लिखा है, "मदद मांगने वाले किसी भी पीड़ित की देखभाल करना सिख धर्म सिद्धांत है।"

            रजनीकांत ने दिल्ली हिंसा को बताया गृह मंत्रालय और खुफिया तंत्र की नाकामी :-रजनीकांत ने कहा कि ये खुफिया एजेंसियों की विफलता है और इससे साबित होता है कि गृह मंत्रालय भी इस घटना के मामले में फेल साबित हुआ है. प्रदर्शन और प्रोटेस्ट्स शांतिपूर्वक तरीके से हो सकते हैं लेकिन हिंसक अंदाज में नहीं. अगर हिंसा भड़कती है तो फिर उससे सख्ती से निपटने की जरुरत है.
            दिल्ली से मुंबई ने लिया सबक, आजाद मैदान के अलावा कहीं प्रदर्शन की इजाजत नहीं :-मुंबई में प्रदर्शन करने के लिए जो लोग या ग्रुप योजना बना रहे हैं, उनके लिए मुंबई पुलिस ने सख्त संदेश जारी किया है. मुंबई पुलिस के मुताबिक आज़ाद मैदान के अलावा मुंबई के किसी भी और हिस्से में प्रदर्शन करने की इजाज़त नहीं दी जाएगी.

            दिल्ली पुलिस को राजनीतिक आकाओं के आदेश का इंतज़ार नहीं करना चाहिए था: पूर्व यूपी डीजीपी :- उत्तर प्रदेश के पूर्व डीजीपी विक्रम सिंह ने दिल्ली हिंसा को लेकर कहा है कि दिल्ली पुलिस को राजनीतिक आकाओं के आदेश का इंतज़ार नहीं करना चाहिए था। उन्होंने प्रकाश सिंह बनाम भारत सरकार केस में सुप्रीम कोर्ट के फैसले का ज़िक्र करते हुए कहा, "अब देश को ऐसे पुलिसबल की ज़रूरत है...जो अनुचित राजनीतिक हस्तक्षेप से प्रभावित ना हो।"


            ऐसी तमाम खबर पढ़ने और वीडियो के माध्यम से देखने के लिए हमारे एप्प को अभी इनस्टॉल करे और हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करे:-
              





            आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 


            ब्रेकिंग न्यूज़ : मनीष सिसोदिया का उत्तर पूर्वी दिल्ली पर आया बरा बयान पढ़े क्या कहा सिसोदिया ने

            ब्रेकिंग न्यूज़ :-
            दिल्ली में हिंसा को लेकर उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा है, "कई जगह अफवाह फैलाने का काम हो रहा है।" उन्होंने कहा, "जब तक कोई घटना आप अपनी आंखों से नहीं देखते...तब तक न तो ऐसी बातों पर यकीन करें...न ही इस तरह के मेसेज किसी को वॉट्सऐप पर भेजें...ऐसे नाज़ुक समय पर सबसे बड़ा योगदान अफवाहें ना फैलाना है।"



              इस खबर को यूट्यूब पर वीडियो के माध्यम से देखने के लिए हमारे चैनल को सब्सक्राइब करे। 




              फेसबुक पर अपडेट पाने के लिए हमारे पेज को लिखे करे। 
                               


              आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 



              दिल्ली पुलिस ने दिए ताजा रिपोर्ट 186 घायल जाने नफरती ताकतों ने ली अब तक कितनो की जान

              ब्रेकिंग न्यूज़  
              दिल्ली पुलिस ने मंगलवार को बताया कि सीएए विरोधियों व समर्थकों के बीच हिंसा में अब तक एक हेड कॉन्स्टेबल समेत 10 लोगों की मौत हो चुकी है।बकौल पुलिस, हिंसा में 186 लोग घायल हुए हैं जिनमें एक डीसीपी और दो आईपीएस अधिकारी समेत 56 पुलिसकर्मी भी शामिल हैं। वहीं, पुलिस तनावग्रस्त इलाकों में मार्च कर रही है।


              Delhi Police PRO MS Randhawa on violence in North East Delhi: 56 police personnel injured, head constable Rattan Lal has lost his life, DCP Shahdara also suffered head injuries; 130 civilians injured 

              ऐसी तमाम खबर पढ़ने के लिए हमारे एप्प को अभी इनस्टॉल करे                                                          
              इस खबर को यूट्यूब पर वीडियो के माध्यम से देखने के लिए हमारे चैनल को सब्सक्राइब करे। 




              फेसबुक पर अपडेट पाने के लिए हमारे पेज को लिखे करे। 
                               


              आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे।