Engहिंदी

Get App

हम राजनीती एवं इतिहास का एक अभूतपूर्व मिश्रण हैं.हम अपने धर्म की ऐतिहासिक तर्क-वितर्क की परंपरा को परिपुष्ट रखना चाहते हैं.हम विविध क्षेत्रों,व्यवसायों,सोंच और विचारों से हो सकते हैं,किन्तु अपनी संस्कृति की रक्षा,प्रवर्तन एवं कृतार्थ हेतु हमारा लगन और उत्साह हमें एकजुट बनाये रखता है.हम आपके विचारों के प्रतिबिंब हैं,आपकी अभिव्यक्ति के स्वर हैं,हम आपको निमंत्रित करते हैं,अपने मंच 'BharatIdea' पर,सारे संसार तक अपना निनाद पहुंचायें.

राजनाथ के रक्षामंत्री बनते ही आ गए सेना के अच्छे दिन, दे दिया ये बड़ा आदेश




नमस्कार दोस्तों आप सबका स्वागत है भारत आइडिया के इस  नए संस्करण के समाचार लेख में। भारत आइडिया के पाठकों आज इस लेख में हम राजनाथ सिंह के ऊपर चर्चा करने वाले है जिनको बीजेपी में एक बड़ी जिम्मेवारी दी गई है और इसके साथ ही राजनाथ सिंह ने अपनी जिम्मदारियों को बखूबी निभाया है और सेना के लिए बरा फैसला लिया है ।




एक गुजारिस है, हमारे फेसबुक पेज को  लाइक कर हमारे साथ जरूर जुड़े। 



भारतीय जनता पार्टी में नरेंद्र मोदी के बाद नंबर दो की जगह पर अक्सर राजनाथ सिंह का नाम लिया जाता है। वो पिछले कार्यकाल में गृहमंत्री बनाए गए थे और उन्होंने मंत्रालय संभालते हुए दमदार फैसले लिए थे। हालांकि इस बार वो रक्षा मंत्रालय संभाल रहे हैं। लेकिन यहां पर भी वो अपना असर दिखाने लगे हैं। राजनाथ सिंह ने जवानों के लिए दमदार फैसला ले लिया है। जनसत्ता न्यूज वेबसाइट के मुताबिक उन्होंने जवानों के लिए बड़ा आदेश दे दिया है।

देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह जमीनी स्तर के नेता हैं। उनका जन्म 10 जुलाई 1951 को यूपी के चंदौली जिले में हुआ था। गोरखपुर से पढ़ाई पूरी करने के बाद वो अध्यापन कार्य करते थे। हालांकि इसके बाद उन्होंने राजनीति में कदम रखा और तरक्की करते गए। वो यूपी के सीएम से लेकर भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष तक रहे हैं। वहीं देश के गृहमंत्री बनने के बाद इस सरकार में रक्षा मंत्री बनाए गए हैं। 




राजनाथ सिंह ने पद संभालते ही अफसरों को संदेश दे दिया था कि सैन्य कल्याण के मामले उनकी प्राथमिकता में रहेंगे। इसी वजह से उन्होंने बड़ा फैसला लेते हुए शांत क्षेत्र में तैनात सैनिकों के मुफ्त राशन की योजना को दोबारा बहाल करने का आदेश दे दिया। इस योजना को साल 2017 में रोक दिया गया था और भत्ते के रूप में 96 रुपए दिए जा रहे थे। राजनाथ ने पद संभालने के बाद इस मुद्दे पर खुद फोकस किया और योजना को दोबारा बहाल कर दिया।



आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 



Breaking News
Loading...
Scroll To Top