Hello, Welcome To BharatIdea, An Idea To Make Our Country Vishwa-Guru


...
Search Of Useful Contents

test

test

...
Editing And Coding

Test.

Test.

...
Publish On Social Media

Test.

Test.

...
...
...
...
...

नमस्कार दोस्तों आप सब का स्वागत है आपके अपने समाचार स्त्रोत BharatIdea में। आपके मन में ये सवाल जरूर उठ रहा होगा की आखिर BharatIdea किन विषयो पर समाचार देता है, और क्यूँ देता है। तो आइये जानते है भारत आईडिया के मूल सिधान्तो और इसको बनाने के पीछे कारणों को?

BharatIdea बनाने की जरुरत क्यूँ परी:
दोस्तों समय के साथ अगर हम देखे तो हमारे राष्ट्र ने काफी अक्रान्ताओ के आक्रमण को झेला है। इतने हमलो के बाद भी हमने चिंतन नहीं किया और आज ऐसा वक़्त आ गया है की हम अपनी संस्कृति को छोर पश्चिमी संस्कृति को अपना रहे है।BharatIdea के शोध के अनुसार भारत में जितने भी लोग रहते है उनमे से मात्र ऐसे 10% लोग ही ऐसे है जिनको अपने देश की संस्कृति तथा राजनीती से मतलब है और बाकियों का ये मानना है की देश बरसो से चला आ रहा है और आगे भी चलता ही रहेगा। वो लोग जो सोचते है की भारत वर्ष वर्षो से चला आ रहा है और आगे भी चलता ही रहेगा तो मै उनके लिए कुछ पंक्तिया कहना चाहूंगा,

हमने पूछा इस देश का क्या होगा, वो बोले देश तो बर्षो से चल रहा और आगे भी चलता रहेगा, कल आपको ढूंढना पड़ेगा की देश कहाँ है और वो कहेंगे ढूंढते रहिये देश तो हमारी जेब में परा है क्या देश हमारी जेब से बरा है।

BharatIdea इन्ही कारणों से निकला एक गुस्से और बगावत का नतीजा है।BharatIdea की बस एक ही इक्षा और ख्वाहिस है की इस देश का युवा वर्ग अपने देश के उज्वल भविष्य के लिए काम करे ना की खुद के स्वार्थ के लिए।देश का युवा एक ही शर्त पर अपने देश हित के लिए काम कर पायेगा जब उसको अपने देश की संस्कृति और राजनीती की समझ हो अन्यथा नेता युवाओ को बेवकूफ बना कर इस देश की संस्कृति का नास करते रहेंगे और आपस में सब को लड़वाते रहेंगे जिससे उनका फायदा हो न की देश के भविष्य का। आपकी राजनीती और संस्कृति समझ को बढ़ाने में BharatIdea आपकी पूरी मदद करेगा अपने लेखो के द्वारा ताकि आप अपना एक महत्वपूर्ण योगदान दे सके देश के उज्जवल भविष्य के लिए।

BharatIdea का लक्ष्य क्या है:
BharatIdea का सिर्फ और सिर्फ एक ही लक्ष्य है, AN IDEA TO MAKE OUR COUNTRY VISHWA-GURU, हयात लेके चलो, कायनात लेके चलो...चलो तो ऐसे चलो की देश को विश्व गुरु बनाने की राह पर चलो। भारत आईडिया किस प्रकार के समाचार प्रकशित किये जाते है। BharatIdea आपको हर तरह की समाचार देगा जैसे की :
राजनीती से जुड़ी खबरे।
झूठी खबरों की सच्चाई बताना।
इतिहास से जुड़ी खबरे।
महापुरषो की जीवनी के बारे में चर्चा।
सेना से जुड़ी खबरे।
खेल से जुडी खबरे।
विज्ञान से जुड़ी खबरे।
अजब गजब तथ्यों से जुड़ी खबरे।
अंतरष्ट्रीय खबर।
संगठन से जुड़ी खबरे
जमीनी स्तर की खबरों की जानकारी देना।

BharatIdea की खबरों से आप क्या सिख सकते है :
जैसा की ऊपर आप पढ़ चुके है की BharatIdea एक ऐसा समाचार का स्त्रोत है जहाँ आप अपनी जानकारियों को मजबूत कर सकते है। जो लोग अपनी संस्कृति को समय के आभाव में या राजनीती समझ को मजबूत नहीं कर पा रहे है वो लोग BharatIdea पर अपनी इन कमजोरियों को दूर कर अपने देश को पूर्ण रूप से जान और समझ सकते है तथा समाज में चौर होकर बोल सके की हाँ मै भी जानता हु अपने देश की संस्कृति को, राजनीती को और तो और आप भी सामजिक चर्चाओं में बढ़ चढ़ कर हिस्सा ले सकते है।

BharatIdea की भविष्य की रणनीति क्या है :
ज्यादा से ज्यादा लोगो तक हर तरह की खबर पहुँचाना।
पॉकेट महाभारत का वितरण।
पॉकेट रामायण का वितरण।
पॉकेट अर्थशात्र का वितरण।
रोजगार पैदा करना।
पिछड़े तथा गरीबो के लिए काम करना।
स्वच्छ भारत के लिए जमीनी स्तर पर काम।
भारत की संस्कृति का पताका लहराना।
झूठी खबर का पर्दाफास करना।
भारतवर्ष को विश्व गुरु बनाने में योगदान देना।

Forest

Stay informed With Us


We understand you don’t have time to go through long news articles everyday. So we cut the clutter and deliver them, in 60-word shorts. Short news for the mobile generation.


Loading...

All Rights Reservd To BharatIdea

This is default featured slide 1 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.

This is default featured slide 2 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.

This is default featured slide 3 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.

This is default featured slide 4 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.

This is default featured slide 5 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.

My Sticky Gadget

Showing posts with label USA. Show all posts
Showing posts with label USA. Show all posts

छोटे बच्चो और मेलानिया ट्रंप की ये तश्वीरे आपका दिल जित लेंगी

मुख्य  बिंदु :-
  1. सर्वोदय विद्यालय पहुंचीं अमेरिका की फर्स्ट लेडी मेलानिया ट्रंप की एक तस्वीर सामने आई है.
  2. विद्यालय में 'हैप्पीनेस क्लास' का कार्यक्रम आयोजित किया गया था फर्स्ट लेडी के लिए 
  3. इस कार्यक्रम में वो एक छात्र को गले लगा रही है और यही तश्वीर वायरल हुई है.
  4. छात्र-छात्राओं ने मेलानिया को खुद की बनाई हुई मधुबनी पेंटिंग्स भी उपहार में दी.
  5. मेलानिया ने इस दौरान कहा, "पारंपरिक नृत्य प्रदर्शन से मेरा स्वागत करने के लिए धन्यवाद.



    मेलानिया ट्रंप ने आज दिल्ली के नानकपुरा स्थिति एक सरकारी स्कूल का दौरा किया:-
    अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की पत्नी मेलानिया ट्रंप आज दिल्ली के नानकपुरा स्थिति एक सरकारी स्कूल का दौरा किया. इस दौरान बच्चों ने मेलानिया को बिहार के फेमस मधुबनी पेंटिंग से बनी कई कलाकृति गिफ्ट किया. गिफ्ट को देख वह काफी खुश हुई और उसके बारे में मौजूद लोगों से जानकारी दी. 


    मौजूद लोगो को नमस्ते भी बोला :-
    हैप्पीनेस क्लास' का देखने के बाद मेलानिया ट्रंप ने मौजूद लोगों को नमस्‍ते बोली. इस दौरान उनका सांस्‍कृति नृत्‍य के साथ इस शानदार स्‍वागत किया गया. स्कूल के बच्चों से उन्होंने बातचीत की और पढ़ाया भी. मेलानिया ने कहा कि  हैपीनेस शब्द प्रेरणा देने वाला है. पूरी दुनिया में ऐसे कार्यक्रम होने चाहिए.मेलानिया करीब एक घंटे तक स्कूल में रही. इस दौरान बच्चों के कार्यक्रम देखती रही और मुस्कुराती रही है. इस दौरान सुरक्षा के कड़े इंतेजाम थे. बता दें कि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भारत के दो दिवसीय दौरे पर आए हैं. आज उनके दौरे का अंतिम दिन हैं. पहले दिन वह अहमदाबाद में नमस्ते ट्रंप में सवा लाख लोगों को संबोधित किए. फिर आगरा में जाकर दोनों ने ताजमहल को देखा. ट्रंप के साथ बेटी और दामाद भी दौरे पर आए हैं. 


    देखे इस कार्यक्रम की कुछ बेहतरीन तश्वीरे :-
     






    ऐसी तमाम खबर पढ़ने के लिए हमारे एप्प को अभी इनस्टॉल करे                                                            
    इस खबर को यूट्यूब पर वीडियो के माध्यम से देखने के लिए हमारे चैनल को सब्सक्राइब करे। 




    फेसबुक पर अपडेट पाने के लिए हमारे पेज को लिखे करे। 
                     


    आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 



    ट्रम्प ने इस्लामिक आतंकवाद के चेहरे पर जरा तमाचा कहा एक साथ लड़ेंगे इस्लामिक आतंकवाद से

    मुख्य  बिंदु :-
    1. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप  ने मोटेरा स्टेडियम में लोगों को संबोधित किया
    2. भारत के लिए अमेरिका के दिल में खास जगह है : ट्रम्प 
    3. हर कोई पीएम मोदी को प्यार करता है : ट्रम्प
    4. हर मिनट 12 लोग गरीबी रेखा के ऊपर जा रहे हैं : ट्रम्प 
    5. भारत सरकार की विभिन्न योजनाओं की ट्रम्प ने तारीफ़ की  
    6. ट्रंप ने कहा भारत में  हर साल 2,000 फिल्में बनती हैं. 
    7. यहां DDLJ और शोले जैसी फिल्में भी बनती हैं.
    8. यहां सचिन तेंदुलकर और विराट कोहली सरीखे क्रिकेट के बड़े खिलाड़ी हैं : ट्रम्प 
    9. भारत के हर गांव को आज बिजली मिल रही है : ट्रम्प 
    10. भारत की विविधता में ही एकता है : ट्रम्प 
    11. भारत की एकता पूरे विश्व के लिए एक मिसाल है.
    12. अमेरिका भारत के साथ कल (मंगलवार को) रक्षा समझौते करेगा : ट्रम्प 
    13. भारत अमेरिका एक साथ इस्लामिक आतंकवाद का सामना करेंगे :ट्रम्प 



      अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप  ने मोटेरा स्टेडियम में लोगों को संबोधित किया :-
      अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने मोटेरा स्टेडियम  (Motera Stadim )में लोगों को संबोधित किया. इस दौरान उन्होंने कहा कि भारत के लिए अमेरिका के दिल में खास जगह है. राष्ट्रपति ने कहा, 'हर कोई पीएम मोदी को प्यार करता है. आप सिर्फ गुजरात नहीं बल्कि पूरे देश का मान हैं.' ट्रंप ने कहा कि 'हर मिनट 12 लोग गरीबी रेखा के ऊपर जा रहे हैं.' भारत सरकार की विभिन्न योजनाओं का जिक्र करते हुए ट्रंप ने प्रधानमंत्री की तारीफ की. ट्रंप ने कहा, 'अमेरिका भारत को प्यार करता है, भारत की इज्जत करता है और अमेरिका हमेशा भारत का ईमानदार और निष्ठावान दोस्त रहेगा.' उन्होंने कहा कि मोटेरा का स्टेडियम बहुत ही खूबसूरत है और हम यहां लंबी यात्रा करके संदेश देने आए हैं कि हम भारत को प्यार करते हैं.


      ट्रम्प ने फिल्मो और खेल PAR भी बात की :-
      ट्रंप ने कहा भारत में  हर साल 2,000 फिल्में बनती हैं. यहां DDLJ और शोले जैसी फिल्में भी बनती हैं. कहा कि यहां सचिन तेंदुलकर और विराट कोहली सरीखे क्रिकेट के बड़े खिलाड़ी हैं. उन्होंने कहा कि भारत के हर गांव को आज बिजली मिल रही है. ट्रंप ने कहा समूची मानवता के लिए भारत एक उम्मीद है.हाउडी मोदी का जिक्र करते हुए ट्रंप ने कहा, '5 महीने पहले अमेरिका ने टेक्सास में एक विशाल फुटबॉल स्टेडियम में आपके महान प्रधानमंत्री का स्वागत किया और आज भारत ने अहमदाबाद में दुनिया के सबसे बड़े क्रिकेट स्टेडियम में हमारा स्वागत किया है.


      भारत को विविधता में  एकता वाला देश बताया :-
      होली के त्योहार का जिक्र करते हुए ट्रंप ने कहा कि अगले महीने भारत में रंगो का त्योहार है. यहां दीवाली मनाई जाती है. ईद भी मनाई जाती है. भारत की विविधता में ही एकता है. कहा कि , 'मोदी एक अद्भुत नेता हैं, भारत के लिए दिन-रात काम करते हैं. भारत की पूरे विश्व में इस बात के लिए तारीफ की जाती है कि यहां लाखों हिन्दू, मुस्लिम, सिख, जैन, ईसाई और यहूदी साथ-साथ प्रार्थना करते हैं। भारत की एकता पूरे विश्व के लिए एक मिसाल है.'


      मोटेरा में रक्षा समझौतों का जिक्र :-
      राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा कि अमेरिका भारत के साथ कल (मंगलवार को) रक्षा समझौते करेंगे. उन्होंने कहा कि अमेरिका और भारत एक साथ इस्लामिक आतंकवाद का सामना करेंगे और उसे हराएंगे. मोटेरा से पाकिस्तान को संदेश देते हुए ट्रंप ने कहा कि पाकिस्तान हर देश को अपनी सीमाओं पर नियंत्रण और सुरक्षित करने का हक है. अमेरिका और भारत अपनी सीमाओं और विचारधारा के लिए खड़े हैं. हमारी सरकार पाकिस्तान के साथ आतंकियों के खात्मे पर काम कर रही है.

      ऐसी तमाम खबर पढ़ने के लिए हमारे एप्प को अभी इनस्टॉल करे                                                            
      इस खबर को यूट्यूब पर वीडियो के माध्यम से देखने के लिए हमारे चैनल को सब्सक्राइब करे। 




      फेसबुक पर अपडेट पाने के लिए हमारे पेज को लिखे करे। 
                       


      आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 



      झुग्गी झोपड़ियों को छिपाने के लिए चल रहा है गुजरात में काम ताकि दौरे में डोनाल्ड ट्रम्प को पता न चले

      मुख्य  बिंदु :-
      • 24 फरवरी को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप आ रहे हैं भारत.
      • इंदिरा ब्रिज से जुड़ने वाली सड़क पर हो रहा है एक दीवार का निर्माण.
      • इंदिरा ब्रिज से जुड़ने वाली सड़क से हो सकता है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और डोनाल्ड ट्रंप का काफिला गुजरे.
      • काफिले के रास्ते में तकरीबन 500 झुग्गी झोपड़ियों को दीवार के जरिए छिपाया जा रहा है.
      • सौंदर्यीकरण के तहत चल रहा है कार्य.
      • 2017 में भी जापान के प्रधानमंत्री के आने से पहले हुआ था सौंदर्यीकरण का कार्य



      24 फरवरी को डोनाल्ड ट्रंप आ रहे हैं भारत:-
      गुजरात का अहमदाबाद नगर निगम (एएमसी) सरदार वल्लभभाई पटेल अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे को इंदिरा ब्रिज से जोड़ने वाली सड़क के साथ एक दीवार का निर्माण कर रहा है। भारत दौरे पर आ रहे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प 24 फरवरी को अहमदाबाद आने वाले हैं। संभावना जताई जा रही है अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रोड शो के लिए जिस मार्ग पर जाएंगे, उसी के बीच यह इलाका आता है। इस रास्ते के किनारे 500 झुग्गियां हैं। कहा जा रहा है कि ट्रम्प को यहां की झुग्गियां न दिखाई दे, इसलिए नगर निगम 7 फीट ऊंची लंबी दीवार खड़ा कर रहा है।यह अहमदाबाद हवाई अड्डे से गांधीनगर की ओर जाने वाले रास्ते में है। मोटेरा में हवाई अड्डे और सरदार पटेल स्टेडियम के आसपास सौंदर्यीकरण अभियान के तहत दीवार का निर्माण किया जा रहा है।


      6 से 7 फीट ऊंची दीवार की जा रही है खड़ी:-
      एएमसी के एक अधिकारी ने बताया, “करीब 600 मीटर की दूरी पर स्थित स्लम क्षेत्र को कवर करने के लिए 6-7 फीट ऊंची दीवार खड़ी की जा रही है। इसके बाद पौधारोपण अभियान चलाया जाएगा।” दशकों पुराने देव सरन या सरनियावास स्लम एरिया में 500 से ज्यादा झुग्गियां हैं और करीब 2500 लोग यहां रहते हैं। एएमसी सौंदर्यीकरम अभियान के तहत साबरमती रिवरफ्रंट स्ट्रेच इलाके में खजूर के पौधे लगा रही है।


      2017 में भी किया गया था ऐसा ही कार्य:-
      इसी तरह का सौंदर्यीकरण साल 2017 में अभियान जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे और उनकी पत्नी आकी आबे के दो दिवसीय गुजरात दौरे के दौरान किया गया था। वे 12वें भारत-जापान वार्षिक सम्मेलन में हिस्सा लेने आए थे।

      ऐसी तमाम खबर पढ़ने के लिए हमारे एप्प को अभी इनस्टॉल करे                                                            
      इस खबर को यूट्यूब पर वीडियो के माध्यम से देखने के लिए हमारे चैनल को सब्सक्राइब करे। 




      फेसबुक पर अपडेट पाने के लिए हमारे पेज को लिखे करे। 
                       


      आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 



      शर्मनाक अमेरिकी पब ने टॉयलेट में लगाई हिंदू देवी देवताओं की तस्वीर बाद में मांगी माफी.



      क्या है मामला:
      जी हां दोस्तों आपने सही सुना जैसा कि आप सब को पता है आए दिन दूसरे देश तथा दूसरे धर्म के लोग सत्य सनातन धर्म का बिना आधार मजाक बनाते रहते हैं और उसी क्रम में फिर से एक बार अमेरिका में सत्य सनातन धर्म के देवी देवताओं का मजाक बनाया गया है. अक्सर पश्चिमी देशों में यह देखा गया है कि शौचालय में सीटों पर भगवान गणेश की तस्वीर तथा जूतों पर अराधनिए भगवान श्री राम की तस्वीर दर्शाई जाती रही है.

      हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे। 

      न्यूयॉर्क में सत्य सनातन धर्म का किया गया अपमान:
      दरअसल न्यूयॉर्क के एक पब से ऐसी घटना सामने आई है जो कि बेहद ही शर्मनाक है. पूरी जानकारी के लिए आपको बताना चाहेंगे कि, अंकिता शर्मा जो कि एक भारतीय हैं और फिलहाल के लिए उनका निवास स्थान अमेरिका का न्यूयॉर्क शहर है . अंकिता वीकेंड की पार्टी के लिए शनिवार को एक पब में गई हुई थी और उसी दौरान वो फ्रेश होने के लिए उस पब की वीआईपी बाथरूम में गई जहां पर उन्होंने उस बाथरूम की टाइल्स पर सत्य सनातन धर्म के हिंदू देवी देवताओं की तस्वीर जड़ी हुई देखी जिसके बाद वह गुस्से से तिलमिला गई.




      इस घटना के बाद पब के मालिक ने मांगी माफी :
      इस घटना के बाद अंकिता ने एक पोस्ट के जरिए पत्र लिखते हुए लिखा कि मैं बीते महीने एक पब में गई थी जहां पर मुझे बीआईपी बाथरूम में सत्य सनातन धर्म के हिंदू देवी देवताओं की तस्वीर जड़ी हुई दिखी, दीवारों पर भगवान गणेश, माता सरस्वती, माता काली तथा भगवान शिव जैसे हिंदू देवी देवताओं की छवियां लगी हुई थी जिसके लिए पब के मालिक को माफी मांगते हुए उन तस्वीरों को तुरंत से तुरंत हटाना चाहिए. इस पोस्ट के वायरल होने के बाद पब के मालिक ने माफी मांगते हुए उन तस्वीरों को जल्द से जल्द हटाने की बात कही है.




      फेसबुक के पास है आपकी लोकेशन हिस्ट्री, ऐसे देखें और डिलीट करें

      नमस्कार दोस्तों आप सभी का स्वागत है भारत आइडिया में, आज हम बात करने जा रहे हैं फेसबुक के बारे में। आप लोकेशन हिस्ट्री देख सकते हैं डिलीट कर सकते हैं और फेसबुक का ऐसा करने यानि लोकेशन ट्रैक करने से भी रोक सकते हैं।


      सोशल मीडिया वेबसाइट पर आप की लोकेशन हिस्ट्री स्टोर हो सकती है। अगर आपने परमिशन दिया है तो और लोकेशन ऑन है तो फेसबुक पेज पर आपको खुद यह पता चलेगा कि आप कब कहां थे। सालो पहले की भी जानकारी यहां मिल सकती है।

      अगर आपके स्मार्ट फोन में फेसबुक का ऐप इंस्टॉल है तो ज्यादा चांस है कि लोकेशन स्टोर हो।

      फेसबुक के मुताबिक अगर आपने एप में लोकेशन हिस्ट्री ऑन की है, तो कंपनी आपकी लोकेशन हिस्ट्री स्टोर करती है। आप ऐप यूज करें या ना करें इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। अगर फेसबुक एप में लोकेशन ऑन की है,तो आप की लोकेशन की जानकारी फेसबुक को मिलती है और स्टोर होती है।

      लोकेशन हिस्ट्री देखने का प्रोसेस ये है:

      ब्राउज़र में पहले फेसबुक लॉगिन करें सेटिंग्स में जाकर लोकेशन पर क्लिक करें यहां व्यू योर लोकेशन हिस्ट्री का ऑप्शन हैं। इसे क्लिक करने पर फिर से पासवर्ड एंटर करने को कहा जाएगा। यहां आप दिन,महीने,साल सेलेक्ट करके मैप्स पर लोकेशन देख सकते हैं। अगर तब लोकेशन ऑन किया था, तो यह पता चल जाएगा कि आप किस दिन कहां थे। यहां टाइम भी दिखता है और यह भी देख सकते हैं कि किसी खास लोकेशन पर आपने कितना समय बिताया है।

      मोबाइल एप में लोकेशन हिस्ट्री देखने के लिए फेसबुक की सेटिंग्स में जाना है। यहां लोकेशन का ऑप्शन मिलेगा और यहां भी ऐसा ही प्रोसेस है जैसा वेब पर।

      अपनी लोकेशन हिस्ट्री कैसे डिलीट करें 

      अगर आप फेसबुक पर से अपनी लोकेशन हिस्ट्री डिलीट करना चाहते हैं , तो इसके लिए लोकेशन पेज के टॉप राइट कॉर्नर में जाकर डिलीट ऑल लोकेशन हिस्ट्री पर क्लिक करें। अगर आप चाहे तो किसी खास दिन की लोकेशन हिस्ट्री डिलीट कर सकते हैं। इसके लिए मेन्यू बटन के बगल से डेट सेलेक्ट कर ले और यहां से डिलीट दिस डे का ऑप्शन चुनें।

      फेसबुक लोकेशन को ऐसे करें ऑफ 

      फेसबुक सेटिंग्स में जाकर यहां अकाउंट सेटिंग्स पर क्लिक करें यहां लोकेशन सेक्शन में जाकर लोकेशन हिस्ट्री ऑफ कर दें लोकेशन ऑफ करने के बाद आप फेसबुक के कुछ फीचर्स यूज नहीं कर पाएंगे।

       इनमें वाईफाई ढूंढने और नियर बाय फ्रेंड्स फीचर्स है, फेसबुक का कहना है कि लोकेशन के आधार पर वह यूजर्स को सटीक विज्ञापन देता है।

      संपादक:आशुतोष उपाध्याय

      हिंदू सांसद 2020 में लड़ेगी अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव, पढ़े कौन है वो.


      नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका भारत आइडिया में तो, दोस्तों आज हम बात करने वाले हैं उस हिंदू सांसद के बारे में जो शायद 2020 में लड़ सकती हैं अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव.

      हिंदू सांसद 2020 में लड़ेगी अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव, पढ़े कौन है वो.

      क्या है खबर:
      जी हां दोस्तों आपने सही सुना अमेरिकी संसद में हवाई से पहली हिंदू सांसद तुलसी गबार्ड के करीबी सूत्रों का कहना है कि वह 2020 में अमेरिकी राष्ट्रपति पद के चुनाव में लड़ने पर विचार कर रही हैं .शुक्रवार को लॉस एंजिल्स में एक मेडट्रॉनिक सम्मेलन में भारतीय मूल की अमेरिकी डॉक्टर संपत शिवांगी ने 37 साल की तुलसी गबार्ड का परिचय कराते हुए कहा कि वह 2020 में अमेरिका की अगली राष्ट्रपति हो सकती है. इस संक्षिप्त परिचय के बाद लोगों ने खड़े होकर तालियों की गड़गड़ाहट से इस खबर का स्वागत किया लेकिन  तुलसी गबार्ड ने सभा को संबोधित करते हुए ना तो इस खबर की पुष्टि की और ना ही खंडन किया जिसके मद्देनजर यह कयास लगाए जा रहे हैं कि शायद ऐसा हो सकता है कि तुलसी 2020 में  अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव लड़े.


      अगले वर्ष तक इसकी पुष्ठि की जा सकती है :
      तुलसी के करीबी तथा चिंतन प्रणाली से वाकिफ लोगों ने बताया कि इस बात पर कोई फैसला क्रिसमस से पहले किया जा सकता है लेकिन इसका यह मतलब नहीं है कि उसकी कोई औपचारिक घोषणा भी की जाए क्योंकि इसे अगले साल तक लंबित रखा जा सकता है. वही मिल रही खबर के जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है कि 2020 के चुनाव के लिए प्रभावशाली अभियान खड़ा करने के लिए तुलसी और उनकी टीम खामोशी से संभावित दानदाताओं से संपर्क कर रही हैं .इन दानदाताओं में एक बड़ी संख्या भारतीय मूल के अमेरिकियों की भी है.

      कारगिल वॉर में कौन था साथी कौन था विरोधी ?

      नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका भारत आइडिया में, तो दोस्तों आज हम बात करने वाले हैं कारगिल युद्ध के बारे में कि इस युद्ध में कौन था हमारे साथ और कौन था हमारे विरोध में.

      कारगिल वॉर में कौन था साथी कौन था विरोधी ?

      इजराइल की दोस्ती:
      दोस्तों मैं आपको बताना चाहूंगा 3 मई 1999 को 5000 पाकिस्तानी सैनिकों ने अचानक कश्मीर के कारगिल में घुसपैठ कर दी थी, जिसके बाद 8 मई 1999 से लेकर 14 मई 1999 तक भारत और पाकिस्तान के बीच भीषण युद्ध चला था. जिसे दुनिया कारगिल युद्ध के नाम से जानती है. आज हम आपको इस लेख में बताने वाले हैं कि किस देश ने कारगिल युद्ध में हमारा साथ दिया था और किस देश ने हमारा विरोध किया था.


      अमेरिका था पाकिस्तान के साथ:
      कारगिल युद्ध में इजरायल ने भारत की सहायता ना की होती तो शायद भारत के लिए यह युद्ध जीत पाना आसान ना होता, इजरायल ने ना सिर्फ भारत को मानव रहित विमान उपलब्ध कराएं बल्कि अपनी सेटेलाइट की मदद से पाकिस्तान के सैन्य ठिकानों की तस्वीर भी उपलब्ध कराई.आपको बता दें कि अमेरिका और इजरायल को काफी अच्छा दोस्त माना जाता है, कारगिल युद्ध में अमेरिका पाकिस्तान के साथ था इसलिए उसने इजराइल पर भारत की सहायता ना करने का दबाव भी बनाया था लेकिन इजराइल ने सभी दबाव को प्रतिबंधों को दरकिनार कर भारत की सहायता की थी.


      अमेरिका का जवाब इजराइल:
      इस युद्ध में पाकिस्तान अमेरिका की हारपून मिसाइलों का उपयोग कर रहा था जिसका भारतीय सेना के पास कोई जवाब नहीं था तब इजराइल ने लेजर गाइडेड मिसाइल के साथ साथ भारतीय वायु सेना को मिराज 2000H जैसे युद्धक विमान भी उपलब्ध करवाए थे.इसके अलावा इजरायल ने भारत को बोफोर्स तोप में इस्तेमाल हो सकने योग्य गोला बारूद भी उपलब्ध करवाए थे जिसके बाद भारत पाकिस्तान पर काफी भारी पड़ा था.


      और भी देश थे भारत के साथ:
      इजराइल के अलावा रूस, जापान, जर्मनी ऑस्ट्रेलिया जैसे देशों ने भारत का प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से सहायता की थी जबकि अमेरिका, चीन, तुर्की अरब देशों ने पाकिस्तान की मदद की थी.


      संपादक : विशाल कुमार सिंह

      रूसी नियंत्रित इलाके क्रीमिया में हुई गोलीबारी में १९ की मौत कई घायल

      नमस्कार दोस्तों आप सभी का स्वागत है भारत आइडिया में, रूस के कब्जे वाले क्रीमिया के एक टेक्निकल कॉलेज में हुई गोलीबारी में कम से कम १९ लोगों की मौत हो गई और कई लोग घायल हुए हैं।

      रूसी नियंत्रित इलाके क्रीमिया में हुई गोलीबारी में १९ की मौत कई घायल

      रूसी नियंत्रित क्षेत्र क्रीमिया के कॉलेज में ही गोलीबारी में कम से कम १९ लोगों की मौत हो गई, सूत्रों के अनुसार हमलावर ने गोलीबारी शुरू करने से पहले एक बम विस्फोट भी किया था ,लेकिन कई प्रत्यक्षदर्शियों ने एक से अधिक धमाकों की आवाज सुनी बाद में हमलावर ने खुद को भी गोली मार ली।

      घटना के संबंध में जानकारी अभी परत दर परत ही बाहर आ रही है लेकिन हमला कैसे हुआ और किस तरह हुआ इस संबंध में फिलहाल विरोधाभासी खबरें ही सामने आ रही है।

      जांचकर्ताओं का कहना है कि व्लादिस्लेव रोसल्यकोव नाम का एक छात्र सबसे पहले कैंटीन के नजदीक नजर आया वहां से वह अंधाधुंध गोलियां चलाते हुए दूसरे कमरों की तरफ भागा उसके बाद उन्होंने खुद को गोली मार ली।

      शहर के इस इलाके में फिलहाल सभी स्कूलों के आसपास राष्ट्रीय सुरक्षा बलों के दस्तों को तैनात कर दिया गया है।
      क्रीमिया में गुरुवार से ३ दिन के राष्ट्रीय शोक की भी घोषणा कर दी गई है।

      संपादक:आशुतोष उपाध्याय 

      पाकिस्तान कंगाल, पैसों के लिए दे रहा है अपनी खुफिया जानकारी ।

      नमस्कार दोस्तो आप सब का स्वागत है भारत आइडिया में, तो दोस्तो आज हम बात करने वाले है पाकिस्तान के बारे में जो अभी आर्थिक तंगी से गुजर रहा है और ये आर्थिक तंगी ऐसी है कि उसे पैसों के लिए अपनी खुफिया जानकारी देनी पर रही है. 

      आपको बता दे की पाकिस्तान फिर से एक बार आईएमएफ के पास कर्ज के लिए जा रहा है लेकिन आईएमएफ ने कर्ज देने के बदले उससे चाइना पाकिस्तान कॉरिडोर की जानकारी देने को कहा है.

      पाकिस्तान कंगाल, पैसों के लिए दे रहा है अपनी खुफिया जानकारी ।

      पाकिस्तान के विदेश मंत्री अशद उमर ने कहा है कि आईएमएफ से कर्ज लेने के लिए पाकिस्तान अपनी चाइना पाकिस्तान कॉरीडोर की जानकारी शेयर करने के लिए तैयार हैं.

      आपको बता दे की पाकिस्तान ने पिछले 5 वर्षों में ये दूसरी बार और 1988 के बाद ये तेरहवीं बार आईएमएफ जाने का फैसला लिया है.

      सम्पादक : विशाल कुमार सिंह

      भारत में पिछले 20 वर्षो में कितना हुआ प्राकृतिक आपदा से नुकसान ?

      आपको आज हम कुछ ऐसा बताने जा रहे जो शायद आपके होस उड़ा देगा, ये वो डाटा है जो हम या हमारी सरकार या दुनिया का कोई भी देश नहीं चाहता लेकिन उसको ये झेलना परता है ?

      भारत में पिछले 20 वर्षो में कितना हुआ प्राकृतिक आपदा से नुकसान ?

      जिहां हम बात कर रहे है प्राकृतिक आपदा की, आप सब जानते है की हमारे देश अलग अलग तरह की आपदाये आती रहती है जिसके कारन हमारे देश को काफी जान माल का नुकशान उठाना परता है लेकिन क्या आपको पता है ये जो नुक्सान हम उठाते है वो कितना है नहीं न तो आइये हम बात करते है आज इसी बारे में :

      दरअसल संयुक्त राष्ट्र ने एक रिपोर्ट जारी किया है, जिसमें पिछले 20 वर्षो के प्रकृति आपदाओं से हुए नुकसान के बारे में बताया गया है, इस डाटा के अनुसार भारत को प्राकृतिक आपदाओं के कारण तक़रीबन 59 खरब रुपये का नुक्सान हुआ है। 
      वही अगर हम बात करे पहले स्थान की तो इसमें अमेरिका का नाम है जिसको तक़रीबन 69 ख़रब का नुक्सान हुआ है, सबसे का नुकसान उठाने वाला देश मैक्सिको है जिसको तक़रीबन 3 खरब का नुक्सान हुआ है। 

      सम्पादक : विशाल कुमार सिंह  

      मुझ पर सुसु करो लिखी ट्रम्प की मुर्तिया न्यूयोर्क में जगह-जगह लगायी गयी।

      जैसा की आप सब को पता होगा की जब भी कोई नेता ज्यादा लोकप्रिय होता है तो उसपर उनके विरोधी अभद्र-अभद्र टिप्पणियां करते है और ऐसे काम करते है जिसके कारण राजनीती भी सर्मसार हो जाती है। 

      मुझ पर सुसु करो लिखी ट्रम्प की मुर्तिया न्यूयोर्क में जगह-जगह लगायी गयी।


      दरअसल न्यूयोर्क में डोनाल्ड ट्रम्प की कुछ मूर्तियां जगह-जगह पर राखी मिली और उसपर लिखा हुआ था PEE ON ME जिसका मतलब है मुझ पर पेशाब करो। 

      आपको बतादे की ब्रूकलिन में फील गेबल नामक कलाकार ने जगह जगह राष्ट्रपति ट्रम्प की ये मूर्तियां लगाई है, जिसपे कुत्तो को पेशाब करने के लिए लिखा हुआ है, PEE ON ME . 

      फील ने कहा है की ये सिर्फ ये एक मजाक है और राजनीती में मुझे मजाक करना बहुत पसंद है, फील के अनुसार लोगो का हँसाना जरुरी है ताकि उनका दिन गुजर सके। 

      सम्पादक : विशाल कुमार सिंह 

      लादेन की माँ पहली बार आयी सामने बतया क्यों बना बीटा आतंकी ?


      दुनिया के अगर सबसे खूंखार आतंकी का नाम हमसे पूछा जाये तो हमारे मन में सबसे पहला नाम ओसामा बिन लादेन आएगा लेकिन क्या आपको पता है लादेन एक खूंखार आतंकी कैसे बना। दरअसल लादेन के मौत के करीब सात शाल बाद लादेन की माँ घानेम आयी  उन्होंने लादेन के बारे में बताया की  कैसे एक आतंकी बना। घानेम कहती है की लादेन की शुरूआती जिंदगी काफी अछि थी, वो पढ़ने लिखने में काफी होशियार था, वो बेहद शर्मीला लड़का था और 20 वर्षो तक उसका आतंक से कोई लेना देना नहीं था। दी गार्डियन को इंटरव्यू देते हुए लादेन की माँ ने बताया की, लादेन के जन्म के कुछ समय बाद मेरी लादेन के पिता से तलाक हो गयी थी और फिर मैंने दूसरी शादी करली थी। लादेन के मौत को वर्षो बित चुके है, चुकी लादेन मेरा पहला बीटा था इसलिये आज भी मई उसको याद करती हूँ। 


      घानेम आगे बतया की लादेन जब सऊदी अरब के जेद्दा की किंग अब्दुलाजीज यूनिवर्सिटी में इकोनॉमिक्स पढ़ रहा था तभी वो कुछ लोगो के संपर्क में आया जिन्होंने लादेन का ब्रेन वाश कर दिया जिसके बाद वो कट्टरपंथी की राह पर चल परा। घनेम के अनुसार  सऊदी अरब के जेद्दा की किंग अब्दुलाजीज यूनिवर्सिटी में लादेन की मुलाकात अब्दुल्ला अजाम नाम के व्यक्ति से हुई, जो की मुस्लिम ब्रदरहूड का सदस्य था, जिसे सऊदी अरब निर्वासित कर दिया गया था और बाद में वह लादेन का धर्म गुरु बना किसने मेरे बेटे को कट्टरपंथी की राह पर धकेल दिया। जब घानेम से सवाल किया गया   एहसाह हुआ की आपका बीटा जिहादी बन गया तो घानेम ने बताया की यह मेरे दिमाग में कभी नहीं आया की लादेन ऐसी राह पर भी जा सकता है  मुझे इस बात की जानकारी हुई तो मुझे बहुत दुःख हुआ 

      सम्पादक : विशाल कुमार सिंह 


      पढ़े जब दूल्हे ने अपने बारात में पहुँचने के लिए विदेश मंत्री से मदद मांगी तो क्या हुआ


      जैसा की आप सब को पता है की सुषमा स्वराज अब तक की सबसे प्रभावशाली विदेश मंत्री रही है, और वो हमेसा ही अपने ट्विटर से लोगो की मदद करने की कोशिस करते रहती है। अब फिर से सुषमा स्वराज ने एक व्यक्ति की मदद की है, दरअसल अमेरिका में भारतीय मूल के रह रहे एक व्यक्ति ने तत्काल अपना पासपोर्ट बनवाने के लिए गुहार लगाई। रवि तेजा नाम से व्यक्ति ने ट्वीट कर लिखा की सुषमा स्वराज जी मेरा पासपोर्ट वाशिंगटन डीसी में खो गया है और मेरी शादी 13-15 अगस्त को है सो मुझे 10 अगस्त को आना है, तो आप कृपया कर के मेरी तत्काल रिक्वेस्ट जल्दी करवा दीजिये और मुझे मेरी शादी में समय पर पहुँचने में मेरी मदद करिये।


      इतना ही नहीं रवि तेजा ने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से कहा की आप ही मेरी आखरी उम्मीद है क्युकी मैंने अपने तरफ से पूरी कोशिश कर ली है कृपया मेरी मदद कीजिये। इसके जवाब में पहले सुषमा स्वराज ने रवि तेजा की खिचाई की और लिखा की रवि तेजा आपने अपना पासपोर्ट बहुत ही गलत समय में खो दिया, फिरभी हम आपकी मदद करेंगे ताकि आप समय पर पहुँच सके। इसके बाद बाद सुषमा स्वराज ने अमेरिका में भारतीय दूतावास को टैग करके वहां के अधिकारी को जल्द से जल्द रवि तेजा की मदद करने का आदेश दिया जिसके बाद रवि तेजा का पासपोर्ट प्रोसेस कर दिया गया। 


      सम्पादक : विशाल कुमार सिंह
      भारत आईडिया से जुड़े :
      अगर आपके पास कोई खबर हो तो हमें bharatidea2018@gmail.com पर भेजे या आप हमें व्हास्स्प भी कर सकते है 9591187384 .
      आप भारत आईडिया की खबर youtube पर भी पा सकते है।
      आप भारत आईडिया को फेसबुक पेज  पर भी फॉलो कर सकते है।

      फेसबुक ने म्यांमार के बौद्ध समूहों का पेज किया ब्लॉक / Facebook blocked the pages run by Buddhist groups of Myanmar



      आपको हम बता दे की कुछ बौद्ध समूहों के फेसबुक पेज को फेसबुक ने ब्लैक लिस्ट में डाल दिया है, कारन फेसबुक ने ये बताया है की फेसबुक दंगा भड़काने जैसी बातो को करने के लिए नहीं है और बौद्ध समूह के पेजेज यही काम कर रहे थे।
      आपको बता दे की बौद्ध समाज के लोगो ने कहा है की भले ही रोहंगिया म्यांमार में आके बस जाये लेकि बौद्ध अपना अभियान नहीं रोकेंगे।

      आतंक और पाक पर चीन से होगी बात/China is ready to talk about terror and Pakistan



      इस तरह से पेज को ब्लैक लिस्ट करने को लेकर फेसबुक ये दिखाना चाहती है की वो भड़काऊ सामग्री से निपटने के लिए तैयार है।  बौद्ध समाज के लोगो ने कहा की फेसबुक भले ही हमारे पेजेज को ब्लॉक करदे लेकिन फिर भी हम फेसबुक और अलग अलग सोशल मीडिया के पलटफोर्म को इस्तेमाल करते रहेगा साथ ही साथ जमीनी स्तर पर भी अपना काम चलता रहेगा।

      सबसे बरे मुस्लिम देश में रामायण का किया जाता है मंचन पढ़े पूरी खबर



      म्यांमार में रोहंगिया मामले की जाँच करने वाले सयुक्त राष्ट्र के अधिकारिओ ने कहा की आजकल फेसबुक अल्पसंख्यकों के खिलाफ प्रचार करने का एक जरिया बन गया है, इसलिए ये कदम उठाना परा।


      जाने आज किस सैतान की हुई थी मौत इसी ने शुरुआत किया था देश में धर्म परिवर्तन का घिनौना कार्य



      फेसबुक के इस कदम पर मयंमार के कुछ भीचुको का कहना है की ये स्वतंत्रता का उलंघन है लेकिन जो भी हो हम सच्चाई बताने के लिए अलग अलग अकाउंट से अपना अभियान जारी रखेंगे।


      सम्पादक : विशाल कुमार सिंह

      भारत आईडिया से जुड़े :
      अगर आपके पास कोई खबर हो तो हमें bharatidea2018@gmail.com पर भेजे या आप हमें व्हास्स्प भी कर सकते है 9591187384 .
      आप भारत आईडिया की खबर youtube पर भी पा सकते है।
      आप भारत आईडिया को फेसबुक पेज  पर भी फॉलो कर सकते है।

      म्यांमार के बौद्धों का ऐलान रोहंगिया के खिलाफ हमारा अभियान जारी रहेगा / Our campaign against Rohangia will continue, announced by Myanmar Buddhists



      रोहंगिया आतंकियों के खिलाफ म्यांमार में बौद्धों ने फिर से एक बार ऐलान कर दिया है की रोहंगिया भले ही वापस आजाये लेकिन वो बौद्धों के दिल में कभी बस नहीं पाएंगे तथा इनका रोहंगिया के खिलाफ इनका अभियान न सिर्फ जारी रहेगा बल्कि की तेज भी किया जायेगा। बौद्ध समूह ने कहा की न सिर्फ इन रोहंगिया ने हमें और हमारे देश को तोड़ने की कोशीस की है  बल्कि हमारे लोगो को  मारा भी है जो की कभी माफ़ नहीं किया जा सकता। बौद्धों कहा की इनका अभियान सोशल मीडिया के साथ साथ जमीनी स्तर पर भी जोर सोर से चलेगा।आपको हम बता दे की कुछ बौद्ध समूहों के फेसबुक पेज को फेसबुक ने ब्लैक लिस्ट में डाल दिया है।

      वीडियो में देखिये कैसे कश्मीरी आतंकियों की जैकार कर रहे है



      इस तरह से पेज को ब्लैक लिस्ट करने को लेकर फेसबुक ये दिखाना चाहती है की वो भड़काऊ सामग्री से निपटने के लिए तैयार है।  बौद्ध समाज के लोगो ने कहा की फेसबुक भले ही हमारे पेजेज को ब्लॉक करदे लेकिन फिर भी हम फेसबुक और अलग अलग सोशल मीडिया के पलटफोर्म को इस्तेमाल करते रहेंगे साथ ही साथ जमीनी स्तर पर भी हमारा  काम चलता रहेगा।

      पढ़े पिछले 4 दिनों में वादी में जवानो पर कितने हमले हुए



      म्यांमार में रोहंगिया मामले की जाँच करने वाले सयुक्त राष्ट्र के अधिकारिओ ने कहा की आजकल फेसबुक अल्पसंख्यकों के खिलाफ प्रचार करने का एक जरिया बन गया है, इसलिए ये कदम उठाना परा।

       वीडियो में देखे आतंकियों ने कैसे सेना पर छुप कर हमला किया

      फेसबुक के इस कदम पर मयंमार के कुछ भिछुको का कहना है की ये स्वतंत्रता का उलंघन है लेकिन जो भी हो हम सच्चाई बताने के लिए अलग अलग अकाउंट से अपना अभियान जारी रखेंगे।

      सम्पादक : विशाल कुमार सिंह

      भारत आईडिया से जुड़े :
      अगर आपके पास कोई खबर हो तो हमें bharatidea2018@gmail.com पर भेजे या आप हमें व्हास्स्प भी कर सकते है 9591187384 .
      आप भारत आईडिया की खबर youtube पर भी पा सकते है।
      आप भारत आईडिया को फेसबुक पेज  पर भी फॉलो कर सकते है।

      ट्रम्प और किम की मुलाकात पर 100 करोड़ खर्च किये जा रहे है / 100 million is being spent on the meeting of Trump and Kim



      रविवार को उत्तर कोरिया के सुप्रीम लीडर किम जौंग उन ने सिंगापूर पहुंचकर वहां के प्रधानमंत्री ली शियेन लंग से मुलाकात की।  किम और तरुम की समिट की मेजबानी  रहा है।  प्रधानमंत्री ली सियेन लंग ने बताया की उनका देश इस मुलाकात के लिए 20 मिलियन सिंगापूर डॉलर यानि तक़रीबन 100 करोड़ खर्च कर रहा है।


      वीडियो में देखिये किस तरह से सब्जियाँ और दूध को पानी की तरह बहाया जा रहा है, ये हमारे किसान भाई नहीं बल्कि विपछ के वो गिरे हुए लोग है जो देश को सिर्फ पीछे धकेलने का सपना देखते है 

      लंग के मुताबित सिर्फ सुरछा पर ही अकेले 50 करोड़ खर्च किये जा रहे है। लंग से मुलाकात की बाद किम ने कहा की सिनपुर को इस मुलाकात के लिए यद् रखा जायेगा।


      गौ माता की अंतिम यात्रा निकली जा रही है, काश ऐसी ही सदभावना हर एक इंसान रखता

      आपको बता दे की सबसे बरे दुश्मन शनरी वार्ता के लिए सिंगापुर पहुँच गए है। एक दुनिया के सबसे मजबूत देश का राष्ट्रपति है तो दुशरा एक छोटे से मुल्क का तानाशाह है। अब दोनों सिंगापूर के सेंटोसा टापू के फाइव स्टार होटल कपेला में 12 जून को मुलाकात करेंगे, इसके लिए पुरे इलाके में सुरछा के इंतजाम किये जा रहे है। आपको हम बताना चाहेंगे अकेले इनकी सुरछा पर सिर्फ 50 करोड़ से ऊपर खर्च किये जा रहे है।

      आज का ये वीडियो शायद आप देख कर भाभूक होजाये लेकिन आप ये  वीडियो देखे इसमें भारतीय सेना के जवानो पर ये आतंकी कैसे छिप कर हमला कर रहे है और वीडियो भी आतंकियी ने ही बनाया है , जरूर देखे

      ट्रम्प और किम जोंग की मुलाकात को हम चमत्कार से काम नहीं मान सकते क्युकी कुछ दिन पहले ये एक दूसरे  के पीछे हाथ धो कर परे थे, हर ट्वीट्स में भासन में परमाणु बोम की बटन दबाने की धमकी दे रहे थे।

      ट्रम्प जहाँ 71 वर्ष के है वही किम जोंग 34 वर्ष के है बरहाल जो भी हो दुनिया तो यही चाह रही की दोनों की मुलाकात खुशनुमा हो और शांति का रास्ता निकले।

      सम्पादक : विशाल कुमार सिंह

      भारत आईडिया से जुड़े :
      अगर आपके पास कोई खबर हो तो हमें bharatidea2018@gmail.com पर भेजे या आप हमें व्हास्स्प भी कर सकते है 9591187384 .
      आप भारत आईडिया की खबर youtube पर भी पा सकते है।
      आप भारत आईडिया को फेसबुक पेज  पर भी फॉलो कर सकते है।


      डोनाल्ड ट्रंप ने न्यूज कॉन्फ्रेंस में अमेरिकी मीडिया पर निकाली भड़ास / Donald Trump raises speculation on American media in the news conference

      व्हाइट हाउस को कवर करने वाले एक संवाददाता ने ट्रंप से पूछा, “मैं जानना चाहूंगा कि आप ऐसा क्यों करते हैं.” इस पर ट्रंप ने कहा, `क्योंकि अमेरिकी प्रेस निष्पक्ष नहीं है।



      अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने रविवार (१०जून) को एकल संवाददाता सम्मेलन आयोजित कर पत्रकारों के सवालों का सामना किया।
       ट्रंप के सत्ता संभालने के बाद यह दूसरा मौका था, जब उन्होंने अकेले मीडिया के सवालों का संवाददाता सम्मेलन में सामना किया। ट्रंप ने इस संवाददाता सम्मेलन के दौरान यह इच्छा जताई कि देशों के बीच सामानों के मुक्त आयात - निर्यात के लिए सभी बाधाएं हटाई जाए। वह सिंगापुर में उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग उन के साथ होने वाली अपनी प्रस्तावित शिखर वार्ता को लेकर भी आशान्वित हैं। इसके अलावा ट्रंप ने अमेरिकी प्रेस को बार - बार फटकार लगाने के अपने रवैये का बचाव करते हुए बताया कि वह ऐसा क्यों करते हैं।

      व्हाइट हाउस को कवर करने वाले एक संवाददाता ने ट्रंप से पूछा, “मैं जानना चाहूंगा कि आप ऐसा क्यों करते हैं.” इस पर ट्रंप ने कहा, “क्योंकि अमेरिकी प्रेस निष्पक्ष नहीं है।

      ज्यादातर ऐसे हैं लेकिन सभी ऐसे नहीं है। आपके पेशे में कुछ लोग हैं जो अमेरिका के साथ हैं, अमेरिका में है, अमेरिकी नागरिक हैं और वह संवाददाता है। ये कुछ बेहद शानदार लोग हैं जिन्हें मैं जानता हूं। लेकिन प्रेस में कुछ ऐसे लोग हैं जो अविश्वसनीय रूप से निष्पक्ष नहीं हैं। वह सकारात्मक खबरों की रिपोर्टिंग भी नहीं करते हैं.”


      "डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि उत्तर कोरिया के साथ संबंध बनाने का एकमात्र मौका"
      वहीं दूसरी ओर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प का कहना है कि उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग उन के साथ उनकी बैठक के दौरान उन्हें एक मिनट में ही इस बात का पता चल जाएगा कि शांति के लिये उनके इस ‘‘एक मात्र प्रयास’’ के भविष्य में सफल होने के आसार है या नहीं। कनाडा में चल रहे  शिखर सम्मेलन के समापन के बाद एशिया की तरफ रवाना होने से पहले ट्रंप ने कहा, 'यह सही अर्थ में एक अज्ञात क्षेत्र है, लेकिन मैं वास्तव में आत्मविश्वास से भरा हूं.' 

      उन्होंने संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘मुझे लगता है कि किम जोंग उन अपने लोगों के लिए अच्छा करना चाहते हैं और उनके पास ऐसा करने का अवसर है ... यह एकमात्र मौका है.’ ट्रम्प ने कहा कि उत्तर कोरिया ‘‘हमारे साथ बेहद अच्छा काम कर रहा है.’’

      संपादक: आशुतोष उपाध्याय