This is default featured slide 1 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.

This is default featured slide 2 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.

This is default featured slide 3 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.

This is default featured slide 4 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.

This is default featured slide 5 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.

Showing posts with label AMERICA. Show all posts
Showing posts with label AMERICA. Show all posts

ड्रोनाल्‍ड ट्रंप पर ट्विटर, FB, Instagram YouTube सभी ने लगाया बैन जाने कारण

⚫ ट्विटर ने उसकी सिविक इंटीग्रिटी पॉलिसी का 'बार-बार और गंभीर उल्लंघन' करने को लेकर अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप का ट्विटर अकाउंट 12 घंटे के लिए लॉक कर दिया।

⚫ बतौर ट्विटर, ट्रंप बुधवार को किए ट्वीट डिलीट नहीं करेंगे तो अकाउंट अनिश्चितकाल तक सस्पेंड रहेगा। 

⚫ फेसबुक और इंस्टाग्राम ने भी ट्रंप के पोस्ट करने पर 24 घंटे का प्रतिबंध लगाया है।



 

क्यूं लगाया गया बैन :

वॉशिंगटन में संसद की बिल्‍डिंग कैपिटोल में राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप समर्थकों और सुरक्षाकर्मियों के बीच हुई हिंसक झड़प के वाकये के बाद सोशल मीडया प्‍लेटफार्म ने उन पर सख्‍ती अपनाई है.अमेरिका में हुए राष्ट्रपति चुनाव में धांधली संबंधी पोस्ट लगातार करने पर माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर ने एक कड़ा कदम उठाते हुए राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के अकाउंट पर बुधवार को 12 घंटे के लिए रोक लगा दी थी. इतना ही नहीं ट्विटर ने चेतावनी दी कि अगर भविष्य में ट्रंप ने नियमों का उल्लंघन किया तो उनके अकाउंट पर स्थायी रूप से रोक लगा दी जाएगी. 


वहीं फेसबुक और यूट्यूब ने उनके वीडियो को हटा दिया था. अब इसी घटनाक्रम के बाद सोशल मीडिया पर Facebook aur Instagram ने भी डोनाल्‍ड ट्रंप को किया लॉक करने की घोषणा कर दी है. ट्रंप पर ये बैन 24 घंटे के लिए लगाई गई है।



प्रदर्शनकारी इलेक्टोरल कॉलेज के नतीजों पर संसद के संयुक्त सत्र में व्यवधान डालना चाहते थे :

कैपिटोल परिसर में प्रदर्शनकारियों के घुसने के करीब दो घंटे बाद ट्रंप ने यह वीडियो पोस्ट किया था. प्रदर्शनकारी इलेक्टोरल कॉलेज के नतीजों पर संसद के संयुक्त सत्र में व्यवधान डालना चाहते थे. इस सत्र में नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन की जीत की पुष्टि होनी थी. फेसबुक के उपाध्यक्ष गॉय रोसेन ने बुधवार को कहा कि वीडियो को हटा दिया गया है ''क्योंकि इससे हिंसा और भड़क सकती है''.



ऐसी तमाम खबर पढ़ने और वीडियो के माध्यम से देखने के लिए हमारे पेज को अभी लाइक करे,कृपया पेज लाईक जरुर करे :- 




आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 


वाशिंगटन में इमरजेंसी, चार की मौत, ट्रम सोशल मीडिया पर बैन

⚫ अमेरिका के वाशिंगटन में गुरुवार तड़के (भारतीय समयानुसार) डोनाल्ड ट्रंप के समर्थकों ने जमकर बवाल किया. 

⚫ हजारों की संख्या में प्रदर्शनकारी सीनेट में घुसे, यहां कब्जे की कोशिश की और हंगामा किया. 

⚫ अभी वाशिंगटन में हिंसा थम गई है, कर्फ्यू भी लगा दिया गया है. 

⚫ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत दुनिया के कई बड़े नेताओं ने हिंसा की निंदा की है.





चार लोगों की मौत, वाशिंगटन में इमरजेंसी :

वाशिंगटन पुलिस के मुताबिक, गुरुवार को हुई इस हिंसा में कुल चार लोगों की मौत हो गई है. इनमें से एक महिला की मौत पुलिस की गोली से हुई है. जब पूरे इलाके को खाली करवाया गया तो ट्रंप समर्थकों के पास बंदूकों के अलावा अन्य खतरनाक चीजें भी मौजूद थीं. अमेरिका के वाशिंगटन में हिंसा के बाद पब्लिक इमरजेंसी लगा दी गई है. वाशिंगटन के मेयर के मुताबिक, इमरजेंसी को 15 दिन के लिए बढ़ाया गया है.



अमेरिका में लगी इस्तीफों की झड़ी...

अमेरिकी संसद में हुए बवाल का असर अब दिखने लगा है. बड़ी संख्या में लोगों ने इस हिंसा की निंदा की है. हिंसा को लेकर ही गुरुवार को कई लोगों ने अपने इस्तीफे दिए. ट्रंप प्रशासन में व्हाइट हाउस डिप्टी प्रेस सेक्रेटरी सारा मैथ्यू ने अपना पद त्याग दिया. इसके अलावा मेलानिया ट्रंप की चीफ ऑफ स्टाफ स्टेफनी ग्रीशन ने भी हिंसा के विरोध में पद से इस्तीफा दिया. अब अमेरिका में डोनाल्ड ट्रंप को तुरंत पद से हटाने की कोशिश हो रही है. उनके कार्यकाल में अभी दो हफ्ते बचे हैं, लेकिन करीब दो दर्जन से अधिक डेमोक्रेट्स सीनेटर फिर से महाभियोग लाने की तैयारी में हैं.



ऐसी तमाम खबर पढ़ने और वीडियो के माध्यम से देखने के लिए हमारे पेज को अभी लाइक करे,कृपया पेज लाईक जरुर करे :- 




आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 


ट्रम्प ने इस्लामिक आतंकवाद के चेहरे पर जरा तमाचा कहा एक साथ लड़ेंगे इस्लामिक आतंकवाद से

मुख्य  बिंदु :-
  1. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप  ने मोटेरा स्टेडियम में लोगों को संबोधित किया
  2. भारत के लिए अमेरिका के दिल में खास जगह है : ट्रम्प 
  3. हर कोई पीएम मोदी को प्यार करता है : ट्रम्प
  4. हर मिनट 12 लोग गरीबी रेखा के ऊपर जा रहे हैं : ट्रम्प 
  5. भारत सरकार की विभिन्न योजनाओं की ट्रम्प ने तारीफ़ की  
  6. ट्रंप ने कहा भारत में  हर साल 2,000 फिल्में बनती हैं. 
  7. यहां DDLJ और शोले जैसी फिल्में भी बनती हैं.
  8. यहां सचिन तेंदुलकर और विराट कोहली सरीखे क्रिकेट के बड़े खिलाड़ी हैं : ट्रम्प 
  9. भारत के हर गांव को आज बिजली मिल रही है : ट्रम्प 
  10. भारत की विविधता में ही एकता है : ट्रम्प 
  11. भारत की एकता पूरे विश्व के लिए एक मिसाल है.
  12. अमेरिका भारत के साथ कल (मंगलवार को) रक्षा समझौते करेगा : ट्रम्प 
  13. भारत अमेरिका एक साथ इस्लामिक आतंकवाद का सामना करेंगे :ट्रम्प 



    अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप  ने मोटेरा स्टेडियम में लोगों को संबोधित किया :-
    अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने मोटेरा स्टेडियम  (Motera Stadim )में लोगों को संबोधित किया. इस दौरान उन्होंने कहा कि भारत के लिए अमेरिका के दिल में खास जगह है. राष्ट्रपति ने कहा, 'हर कोई पीएम मोदी को प्यार करता है. आप सिर्फ गुजरात नहीं बल्कि पूरे देश का मान हैं.' ट्रंप ने कहा कि 'हर मिनट 12 लोग गरीबी रेखा के ऊपर जा रहे हैं.' भारत सरकार की विभिन्न योजनाओं का जिक्र करते हुए ट्रंप ने प्रधानमंत्री की तारीफ की. ट्रंप ने कहा, 'अमेरिका भारत को प्यार करता है, भारत की इज्जत करता है और अमेरिका हमेशा भारत का ईमानदार और निष्ठावान दोस्त रहेगा.' उन्होंने कहा कि मोटेरा का स्टेडियम बहुत ही खूबसूरत है और हम यहां लंबी यात्रा करके संदेश देने आए हैं कि हम भारत को प्यार करते हैं.


    ट्रम्प ने फिल्मो और खेल PAR भी बात की :-
    ट्रंप ने कहा भारत में  हर साल 2,000 फिल्में बनती हैं. यहां DDLJ और शोले जैसी फिल्में भी बनती हैं. कहा कि यहां सचिन तेंदुलकर और विराट कोहली सरीखे क्रिकेट के बड़े खिलाड़ी हैं. उन्होंने कहा कि भारत के हर गांव को आज बिजली मिल रही है. ट्रंप ने कहा समूची मानवता के लिए भारत एक उम्मीद है.हाउडी मोदी का जिक्र करते हुए ट्रंप ने कहा, '5 महीने पहले अमेरिका ने टेक्सास में एक विशाल फुटबॉल स्टेडियम में आपके महान प्रधानमंत्री का स्वागत किया और आज भारत ने अहमदाबाद में दुनिया के सबसे बड़े क्रिकेट स्टेडियम में हमारा स्वागत किया है.


    भारत को विविधता में  एकता वाला देश बताया :-
    होली के त्योहार का जिक्र करते हुए ट्रंप ने कहा कि अगले महीने भारत में रंगो का त्योहार है. यहां दीवाली मनाई जाती है. ईद भी मनाई जाती है. भारत की विविधता में ही एकता है. कहा कि , 'मोदी एक अद्भुत नेता हैं, भारत के लिए दिन-रात काम करते हैं. भारत की पूरे विश्व में इस बात के लिए तारीफ की जाती है कि यहां लाखों हिन्दू, मुस्लिम, सिख, जैन, ईसाई और यहूदी साथ-साथ प्रार्थना करते हैं। भारत की एकता पूरे विश्व के लिए एक मिसाल है.'


    मोटेरा में रक्षा समझौतों का जिक्र :-
    राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा कि अमेरिका भारत के साथ कल (मंगलवार को) रक्षा समझौते करेंगे. उन्होंने कहा कि अमेरिका और भारत एक साथ इस्लामिक आतंकवाद का सामना करेंगे और उसे हराएंगे. मोटेरा से पाकिस्तान को संदेश देते हुए ट्रंप ने कहा कि पाकिस्तान हर देश को अपनी सीमाओं पर नियंत्रण और सुरक्षित करने का हक है. अमेरिका और भारत अपनी सीमाओं और विचारधारा के लिए खड़े हैं. हमारी सरकार पाकिस्तान के साथ आतंकियों के खात्मे पर काम कर रही है.

    ऐसी तमाम खबर पढ़ने के लिए हमारे एप्प को अभी इनस्टॉल करे                                                            
    इस खबर को यूट्यूब पर वीडियो के माध्यम से देखने के लिए हमारे चैनल को सब्सक्राइब करे। 




    फेसबुक पर अपडेट पाने के लिए हमारे पेज को लिखे करे। 
                     


    आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 



    झुग्गी झोपड़ियों को छिपाने के लिए चल रहा है गुजरात में काम ताकि दौरे में डोनाल्ड ट्रम्प को पता न चले

    मुख्य  बिंदु :-
    • 24 फरवरी को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप आ रहे हैं भारत.
    • इंदिरा ब्रिज से जुड़ने वाली सड़क पर हो रहा है एक दीवार का निर्माण.
    • इंदिरा ब्रिज से जुड़ने वाली सड़क से हो सकता है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और डोनाल्ड ट्रंप का काफिला गुजरे.
    • काफिले के रास्ते में तकरीबन 500 झुग्गी झोपड़ियों को दीवार के जरिए छिपाया जा रहा है.
    • सौंदर्यीकरण के तहत चल रहा है कार्य.
    • 2017 में भी जापान के प्रधानमंत्री के आने से पहले हुआ था सौंदर्यीकरण का कार्य



    24 फरवरी को डोनाल्ड ट्रंप आ रहे हैं भारत:-
    गुजरात का अहमदाबाद नगर निगम (एएमसी) सरदार वल्लभभाई पटेल अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे को इंदिरा ब्रिज से जोड़ने वाली सड़क के साथ एक दीवार का निर्माण कर रहा है। भारत दौरे पर आ रहे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प 24 फरवरी को अहमदाबाद आने वाले हैं। संभावना जताई जा रही है अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रोड शो के लिए जिस मार्ग पर जाएंगे, उसी के बीच यह इलाका आता है। इस रास्ते के किनारे 500 झुग्गियां हैं। कहा जा रहा है कि ट्रम्प को यहां की झुग्गियां न दिखाई दे, इसलिए नगर निगम 7 फीट ऊंची लंबी दीवार खड़ा कर रहा है।यह अहमदाबाद हवाई अड्डे से गांधीनगर की ओर जाने वाले रास्ते में है। मोटेरा में हवाई अड्डे और सरदार पटेल स्टेडियम के आसपास सौंदर्यीकरण अभियान के तहत दीवार का निर्माण किया जा रहा है।


    6 से 7 फीट ऊंची दीवार की जा रही है खड़ी:-
    एएमसी के एक अधिकारी ने बताया, “करीब 600 मीटर की दूरी पर स्थित स्लम क्षेत्र को कवर करने के लिए 6-7 फीट ऊंची दीवार खड़ी की जा रही है। इसके बाद पौधारोपण अभियान चलाया जाएगा।” दशकों पुराने देव सरन या सरनियावास स्लम एरिया में 500 से ज्यादा झुग्गियां हैं और करीब 2500 लोग यहां रहते हैं। एएमसी सौंदर्यीकरम अभियान के तहत साबरमती रिवरफ्रंट स्ट्रेच इलाके में खजूर के पौधे लगा रही है।


    2017 में भी किया गया था ऐसा ही कार्य:-
    इसी तरह का सौंदर्यीकरण साल 2017 में अभियान जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे और उनकी पत्नी आकी आबे के दो दिवसीय गुजरात दौरे के दौरान किया गया था। वे 12वें भारत-जापान वार्षिक सम्मेलन में हिस्सा लेने आए थे।

    ऐसी तमाम खबर पढ़ने के लिए हमारे एप्प को अभी इनस्टॉल करे                                                            
    इस खबर को यूट्यूब पर वीडियो के माध्यम से देखने के लिए हमारे चैनल को सब्सक्राइब करे। 




    फेसबुक पर अपडेट पाने के लिए हमारे पेज को लिखे करे। 
                     


    आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 



    शर्मनाक अमेरिकी पब ने टॉयलेट में लगाई हिंदू देवी देवताओं की तस्वीर बाद में मांगी माफी.



    नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका भारत आइडिया में तो दोस्तों आज हम बात करने वाले हैं अमेरिका के बारे में जहां पर फिर से एक बार सत्य सनातन धर्म के देवी देवताओं का मजाक बनाया गया है.



    क्या है मामला:
    जी हां दोस्तों आपने सही सुना जैसा कि आप सब को पता है आए दिन दूसरे देश तथा दूसरे धर्म के लोग सत्य सनातन धर्म का बिना आधार मजाक बनाते रहते हैं और उसी क्रम में फिर से एक बार अमेरिका में सत्य सनातन धर्म के देवी देवताओं का मजाक बनाया गया है. अक्सर पश्चिमी देशों में यह देखा गया है कि शौचालय में सीटों पर भगवान गणेश की तस्वीर तथा जूतों पर अराधनिए भगवान श्री राम की तस्वीर दर्शाई जाती रही है.

    हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे। 

    न्यूयॉर्क में सत्य सनातन धर्म का किया गया अपमान:
    दरअसल न्यूयॉर्क के एक पब से ऐसी घटना सामने आई है जो कि बेहद ही शर्मनाक है. पूरी जानकारी के लिए आपको बताना चाहेंगे कि, अंकिता शर्मा जो कि एक भारतीय हैं और फिलहाल के लिए उनका निवास स्थान अमेरिका का न्यूयॉर्क शहर है . अंकिता वीकेंड की पार्टी के लिए शनिवार को एक पब में गई हुई थी और उसी दौरान वो फ्रेश होने के लिए उस पब की वीआईपी बाथरूम में गई जहां पर उन्होंने उस बाथरूम की टाइल्स पर सत्य सनातन धर्म के हिंदू देवी देवताओं की तस्वीर जड़ी हुई देखी जिसके बाद वह गुस्से से तिलमिला गई.




    इस घटना के बाद पब के मालिक ने मांगी माफी :
    इस घटना के बाद अंकिता ने एक पोस्ट के जरिए पत्र लिखते हुए लिखा कि मैं बीते महीने एक पब में गई थी जहां पर मुझे बीआईपी बाथरूम में सत्य सनातन धर्म के हिंदू देवी देवताओं की तस्वीर जड़ी हुई दिखी, दीवारों पर भगवान गणेश, माता सरस्वती, माता काली तथा भगवान शिव जैसे हिंदू देवी देवताओं की छवियां लगी हुई थी जिसके लिए पब के मालिक को माफी मांगते हुए उन तस्वीरों को तुरंत से तुरंत हटाना चाहिए. इस पोस्ट के वायरल होने के बाद पब के मालिक ने माफी मांगते हुए उन तस्वीरों को जल्द से जल्द हटाने की बात कही है.




    हिंदू सांसद 2020 में लड़ेगी अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव, पढ़े कौन है वो.


    नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका भारत आइडिया में तो, दोस्तों आज हम बात करने वाले हैं उस हिंदू सांसद के बारे में जो शायद 2020 में लड़ सकती हैं अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव.

    हिंदू सांसद 2020 में लड़ेगी अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव, पढ़े कौन है वो.

    क्या है खबर:
    जी हां दोस्तों आपने सही सुना अमेरिकी संसद में हवाई से पहली हिंदू सांसद तुलसी गबार्ड के करीबी सूत्रों का कहना है कि वह 2020 में अमेरिकी राष्ट्रपति पद के चुनाव में लड़ने पर विचार कर रही हैं .शुक्रवार को लॉस एंजिल्स में एक मेडट्रॉनिक सम्मेलन में भारतीय मूल की अमेरिकी डॉक्टर संपत शिवांगी ने 37 साल की तुलसी गबार्ड का परिचय कराते हुए कहा कि वह 2020 में अमेरिका की अगली राष्ट्रपति हो सकती है. इस संक्षिप्त परिचय के बाद लोगों ने खड़े होकर तालियों की गड़गड़ाहट से इस खबर का स्वागत किया लेकिन  तुलसी गबार्ड ने सभा को संबोधित करते हुए ना तो इस खबर की पुष्टि की और ना ही खंडन किया जिसके मद्देनजर यह कयास लगाए जा रहे हैं कि शायद ऐसा हो सकता है कि तुलसी 2020 में  अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव लड़े.


    अगले वर्ष तक इसकी पुष्ठि की जा सकती है :
    तुलसी के करीबी तथा चिंतन प्रणाली से वाकिफ लोगों ने बताया कि इस बात पर कोई फैसला क्रिसमस से पहले किया जा सकता है लेकिन इसका यह मतलब नहीं है कि उसकी कोई औपचारिक घोषणा भी की जाए क्योंकि इसे अगले साल तक लंबित रखा जा सकता है. वही मिल रही खबर के जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है कि 2020 के चुनाव के लिए प्रभावशाली अभियान खड़ा करने के लिए तुलसी और उनकी टीम खामोशी से संभावित दानदाताओं से संपर्क कर रही हैं .इन दानदाताओं में एक बड़ी संख्या भारतीय मूल के अमेरिकियों की भी है.

    गुजराती वैज्ञानिकों के नाम से हिंदू ना लगने पर अमेरिका में गरबा कार्यक्रम में आने से रोका गया



    नमस्कार दोस्तों आपका स्वागत है भारत आइडिया में, दोस्तों आज हम बात करने वाले हैं एक गुजराती वैज्ञानिक के बारे में जिसको सिर्फ नाम की वजह से हिंदू ना लगने पर अमेरिका में गरव कार्यक्रम का हिस्सा नहीं बनने दिया गया.

    गुजराती वैज्ञानिकों के नाम से हिंदू ना लगने पर अमेरिका में गरबा कार्यक्रम में आने से रोका गया

    दरअसल एक गुजराती वैज्ञानिक ने आरोप लगाया है कि उन्हें तथा उनके दोस्तों को अमेरिका के अटलांटा में गरबा नृत्य कार्यक्रम में प्रवेश नहीं दिया गया, उनका आरोप है कि आयोजकों ने उनसे उनके नाम और शक्ल के आधार पर हिंदू ना होने की बात कह कर गरबा नित्य कार्यक्रम का हिस्सा नहीं बनने दिया.

    वडोदरा के रहने वाले 29 साल के करण जानी laser interferometer gravitational wave observatory मैं अंतरिक्ष भौतिकी वैज्ञानिक है.

    करण ने इस घटना का आरोप अपने टि्वटर हैंडल से एक ट्वीट के जरिए 12 अक्टूबर को दिया जिसमें उन्होंने लिखा था की उनके शक्ल और नाम के आधार पर कार्यक्रम में प्रवेश नहीं मिला, करण ने यह भी आरोप लगाए हैं कि उनके पहचान पत्र में अंतिम नाम हिंदू नहीं था इसलिए उनको कार्यक्रम का हिस्सा नहीं बनने दिया गया.

    जानी ने कहा कि उनको और उनके मित्रों को इस आधार पर प्रवेश नहीं मिला की उनके नाम के अंत में इस्माईली, वोहरा और सिंधी लगे हुए थे .

    इस मामले पर कर्ण के पिता पंकज ने अपने बयान में कहा कि उनकी बात अमेरिका में रहने वाले उनके बेटे करण से हुई है और वह इस बात को लेकर के काफी घबराए हुए हैं,

    पंकज ने कहा कि उनके बेटे को कार्यक्रम के दौरान उनके नाम के आधार पर रोका गया बेइज्जती की गई तथा खरी-खोटी भी सुनाई गई और शक्ल के आधार पर उनसे कहा गया कि तुम हिंदू नहीं लगते.

    संपादक : विशाल कुमार सिंह

    भारत में पिछले 20 वर्षो में कितना हुआ प्राकृतिक आपदा से नुकसान ?

    आपको आज हम कुछ ऐसा बताने जा रहे जो शायद आपके होस उड़ा देगा, ये वो डाटा है जो हम या हमारी सरकार या दुनिया का कोई भी देश नहीं चाहता लेकिन उसको ये झेलना परता है ?

    भारत में पिछले 20 वर्षो में कितना हुआ प्राकृतिक आपदा से नुकसान ?

    जिहां हम बात कर रहे है प्राकृतिक आपदा की, आप सब जानते है की हमारे देश अलग अलग तरह की आपदाये आती रहती है जिसके कारन हमारे देश को काफी जान माल का नुकशान उठाना परता है लेकिन क्या आपको पता है ये जो नुक्सान हम उठाते है वो कितना है नहीं न तो आइये हम बात करते है आज इसी बारे में :

    दरअसल संयुक्त राष्ट्र ने एक रिपोर्ट जारी किया है, जिसमें पिछले 20 वर्षो के प्रकृति आपदाओं से हुए नुकसान के बारे में बताया गया है, इस डाटा के अनुसार भारत को प्राकृतिक आपदाओं के कारण तक़रीबन 59 खरब रुपये का नुक्सान हुआ है। 
    वही अगर हम बात करे पहले स्थान की तो इसमें अमेरिका का नाम है जिसको तक़रीबन 69 ख़रब का नुक्सान हुआ है, सबसे का नुकसान उठाने वाला देश मैक्सिको है जिसको तक़रीबन 3 खरब का नुक्सान हुआ है। 

    सम्पादक : विशाल कुमार सिंह  

    भारत यूएन मानवाधिकार परिषद् का सदस्य बना।

    आपको जानकर हैरानी होगी की कभी हम यूएन में सदस्य्ता पाने के लिए तरसते थे लेकिन अब समय बदल रहा है, सबसे अधिक मतों के साथ भारत ने हाशिल की यूएन मानवाधिकार की सदस्य्ता। 

    भारत यूएन मानवाधिकार परिषद् का सदस्य बना।

    भारत ने सबसे अधिक 188 मत हाशिल किये और एशिया प्रशांत छेत्र की संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिसद की सदस्य्ता हाशिल कर ली।

    भारत की सदस्य्ता 1 जनवरी 2019 को शुरू होगी और अगले 3 वर्षो के लिए बरकरार रहेगी।

    आपको बता दे की परिषद् में चुने जाने के लिए कमसे-कम 97 वोटो की जरुरत पड़ती है, लेकिन भारत का विश्व में ऐसा दबदबा है की भारत का साथ 188 देशो ने दिया।

    सम्पादक : विशाल कुमार सिंह 

    जापानी लोग ये 5 नियम नहीं तोड़ते इसलिए है सबसे आगे।

    आपसब को पता है की अगर विश्व में  कही आपदा आती है तो वो है जापान लेकिन फिर भी ये देश विश्व की सबसे शक्तिशाली देशो की गिनती में आता है कारण क्या है ?

    जापानी लोग ये 5 नियम नहीं तोड़ते इसलिए है सबसे आगे।

    1. लिफ्टों के लिए, ट्रेन में बैठने या ऐसी इत्यादि जगह जहाँ कतार लगानी हो वहां ये इंतजार करते है। 

    2. स्कूल,घर और अस्पताल में ये जूते नहीं पहनते है। 

    3. सफाई का पूरा ध्यान रखते है, कहीं भी कूड़ा नहीं फेकते, आप इसी से अंदाजा लगा सकते है की जापान में सार्वजनिक जगहों पर नाक साफ़ करने की मनाही है। 

    4. यहाँ  के लोग खुद्दार और मेहनती होते है, यहाँ पर वेटर टिप भी नहीं लेते, इसकी साफ़ मनाही है। 

    5. यहाँ के लोग देशभक्त बहुत होते है, आपको पता होगा की अमेरिका ने जापान पर 1944 में परमाणु हमला किया था जिसके बाद 2014 में अमेरिका ने जापान में टमाटर भेजा था जिसको जापानियों ने एक साथ मिल कर नकार दिया था और सारे टमाटर सड़ गए थे और अमेरिका को काफी नुक्सान हुआ था। 

    सम्पादक : विशाल कुमार सिंह 

    पढ़े जब दूल्हे ने अपने बारात में पहुँचने के लिए विदेश मंत्री से मदद मांगी तो क्या हुआ


    जैसा की आप सब को पता है की सुषमा स्वराज अब तक की सबसे प्रभावशाली विदेश मंत्री रही है, और वो हमेसा ही अपने ट्विटर से लोगो की मदद करने की कोशिस करते रहती है। अब फिर से सुषमा स्वराज ने एक व्यक्ति की मदद की है, दरअसल अमेरिका में भारतीय मूल के रह रहे एक व्यक्ति ने तत्काल अपना पासपोर्ट बनवाने के लिए गुहार लगाई। रवि तेजा नाम से व्यक्ति ने ट्वीट कर लिखा की सुषमा स्वराज जी मेरा पासपोर्ट वाशिंगटन डीसी में खो गया है और मेरी शादी 13-15 अगस्त को है सो मुझे 10 अगस्त को आना है, तो आप कृपया कर के मेरी तत्काल रिक्वेस्ट जल्दी करवा दीजिये और मुझे मेरी शादी में समय पर पहुँचने में मेरी मदद करिये।


    इतना ही नहीं रवि तेजा ने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से कहा की आप ही मेरी आखरी उम्मीद है क्युकी मैंने अपने तरफ से पूरी कोशिश कर ली है कृपया मेरी मदद कीजिये। इसके जवाब में पहले सुषमा स्वराज ने रवि तेजा की खिचाई की और लिखा की रवि तेजा आपने अपना पासपोर्ट बहुत ही गलत समय में खो दिया, फिरभी हम आपकी मदद करेंगे ताकि आप समय पर पहुँच सके। इसके बाद बाद सुषमा स्वराज ने अमेरिका में भारतीय दूतावास को टैग करके वहां के अधिकारी को जल्द से जल्द रवि तेजा की मदद करने का आदेश दिया जिसके बाद रवि तेजा का पासपोर्ट प्रोसेस कर दिया गया। 


    सम्पादक : विशाल कुमार सिंह
    भारत आईडिया से जुड़े :
    अगर आपके पास कोई खबर हो तो हमें bharatidea2018@gmail.com पर भेजे या आप हमें व्हास्स्प भी कर सकते है 9591187384 .
    आप भारत आईडिया की खबर youtube पर भी पा सकते है।
    आप भारत आईडिया को फेसबुक पेज  पर भी फॉलो कर सकते है।

    दिल्ली बनेगा अमेरिका और रूस की राजधानी की तरह : मोदी सरकार की बरी उपलब्धि :


    जैसा की आप सब को पता है की हमारे देश की राजधानी दिल्ली है लेकिन हमारी राजधानी कितनी सुरक्छित है क्या हमें ये पता है नहीं तो आइये जानते है की हमारी दिल्ली कितनी सुरक्छित है। दरसअल बीजेपी ने देश की राजधानी दिल्ली को सुरक्छित बनाने की पहल तेज कर दी है, इस क्रम में अब दिल्ली को मिसाइल रक्छा कवच से लैस करने की तयारी शुरू हो चुकी है जिसके कारण कोई भी दुश्मन देश हमरी राजधानी को युद्ध की स्थिति में मिसाइल के द्वारा हानि नहीं पहुँचा पायेगा। हमारी राजधानी की सुरक्छा अमेरिका की राजधानी वाशिंगटन और रूस की राजधानी मास्को की तरह हो जाएगी। टाइम्स ऑफ़ इंडिया में छपी खबर के मुताबित रक्छा मंत्री निर्मला सीतारमण की अध्यक्छ्ता में डीएसी की हुई बैठक में नेशनल एडवांस्ड सरफेस टू एयर मिसाइल-2 की मंजूरी दे दी गयी है। इस मिसाइल सिस्टम को अमेरिका से 1 अरब डॉलर में ख़रीदा जाना है। 
    INDIAN PROTECTION SYSTEM

    इसके साथ ही साथ दिल्ली के वीआईपी छेत्र के नो फ्लाई जोन को भी दोबारा से नया रूप दिया जायेगा, वही दुश्मनो के विमानों को गिराने जाने वाले प्रोटोकॉल को भी सुधारा जायेगा। आपको हम बता दे की डीआरडीओ भी ऐसी ही तकनीक विकसित कर रहा है, वह स्वदेशी मिसाइल सिस्टम बना रहा है। आपको जानकर खुसी होगी की ये निर्माण अपने अंतिम चरण पर है।डीआरडीओ टू टिअर बैलिस्टिक मिसाइल डिफेन्स सील्ड बना रहा है, ये सिस्टम पूरे देश के वायु मंडल में लांच किया जायेगा जिसके कारण दुश्मन देश की किसी भी मिसाइल को हम वायुमंडल में ही ध्वस्त कर पायेंगे, जिसका स्ट्राइक 2000 किल्लोमीटर तक का होगा।अभी ये रूस, अमेरिका और इज्राइल के पास है। 



    सम्पादक : विशाल कुमार सिंह
    भारत आईडिया से जुड़े :
    अगर आपके पास कोई खबर हो तो हमें bharatidea2018@gmail.com पर भेजे या आप हमें व्हास्स्प भी कर सकते है 9591187384 .
    आप भारत आईडिया की खबर youtube पर भी पा सकते है।
    आप भारत आईडिया को फेसबुक पेज  पर भी फॉलो कर सकते है।

    परमाणु समझौते से US हटा, ईरानी राष्ट्रपति ने कहा- यह एकतरफा कदम दुनिया के लिए अच्छा नहीं / The US left the nuclear deal, the Iranian president said - this one-sided step is not good for the world

    ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने ईरान परमाणु समझौते से हटने को लेकर अमेरिका की रविवार(10 जून) को आलोचना की।


    ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने ईरान परमाणु समझौते से हटने को लेकर अमेरिका की रविवार(१० जून) को आलोचना की. वहीं, उन्होंने इसका संरक्षण करने की कोशिश को लेकर चीन, रूस और यूरोप की सराहना की. शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के सालाना सम्मेलन को संबोधित करते हुए रूहानी ने कहा कि अमेरिका दूसरे देशों पर अपनी नीतियां थोपने की कोशिश कर रहा है जो सभी बड़ी शक्तियों के लिए एक चेतावनी है. उन्होंने कहा कि अमेरिका का यह एकतरफा कदम दुनिया के लिए अच्छा नहीं है।

    चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने भी समझौते से हटने को लेकर अमेरिका पर परोक्ष हमला करते हुए इस बात का जिक्र किया कि चीन समझौते को बचाने के लिए रूस और अन्य देशों के साथ काम करना चाहता है. रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने भी अमेरिकी फैसले की आलोचना करते हुए कहा कि यह कदम खाड़ी क्षेत्र को अस्थिर कर सकता है.  गौरतलब है कि चीन और रूस सहित कई यूरोपीय देश इस समझौते को बचाने की कोशिश कर रहे हैं।

    G7 में छाया रहा ईरान के परमाणु कार्यक्रम का मुद्दा, अमेरिका ने किया है किनारा
    जी ७ देशों के नेताओं ने अमेरिका के साथ एक संयुक्त बयान में रविवार (१० जून) को संकल्प व्यक्त किया कि वे यह सुनिश्चित करेंगे कि ईरान का परमाणु कार्यक्रम शांतिपूर्ण बना रहे. यह बयान ऐसे वक्त आया है जब यूरोपीय गठबंधन सहयोगी ट्रंप के इस अंतरराष्ट्रीय समझौते से खुद को अलग करने के फैसले से नाराज हैं।


    कनाडा में हुए दो दिवसीय शिखर सम्मेलन के समापन के मौके पर नेताओं ने कहा कि हम ईरान के परमाणु कार्यक्रम को स्थायी तौर पर शांतिपूर्ण बनाए रखने के लिए प्रतिबद्ध हैं. ईरान अंतरराष्ट्रीय तौर किए गए वायदे के अनुरूप कभी भी परमाणु हथियार विकसित करने या हासिल करने की कोशिश नहीं करेगा.

    बयान में कहा गया है कि हम ईरान द्वारा प्रायोजित सभी आतंकी समूहों समेत आतंकवाद को धन मुहैया कराने की निंदा करते हैं. हम ईरान से मांग करते हैं कि वह आतंकवाद रोधी प्रयासों में योगदान दे तथा क्षेत्र में राजनीतिक समाधान , सुलह और शांति हासिल करके रचनात्मक भूमिका निभाए. जी ७ में जर्मनी , फ्रांस और ब्रिटेन जैसे देश शामिल हैं. इन्होंने २०१५ में अमेरिका के साथ मिलकर ईरान के साथ परमाणु समझौते पर हस्ताक्षर किए थे , जिसके बाद ईरान पर से पाबंदियां हटाई गई थीं। 

    संपादक :आशुतोष उपाध्याय 

    फेसबुक ने म्यांमार के बौद्ध समूहों का पेज किया ब्लॉक / Facebook blocked the pages run by Buddhist groups of Myanmar



    आपको हम बता दे की कुछ बौद्ध समूहों के फेसबुक पेज को फेसबुक ने ब्लैक लिस्ट में डाल दिया है, कारन फेसबुक ने ये बताया है की फेसबुक दंगा भड़काने जैसी बातो को करने के लिए नहीं है और बौद्ध समूह के पेजेज यही काम कर रहे थे।
    आपको बता दे की बौद्ध समाज के लोगो ने कहा है की भले ही रोहंगिया म्यांमार में आके बस जाये लेकि बौद्ध अपना अभियान नहीं रोकेंगे।

    आतंक और पाक पर चीन से होगी बात/China is ready to talk about terror and Pakistan



    इस तरह से पेज को ब्लैक लिस्ट करने को लेकर फेसबुक ये दिखाना चाहती है की वो भड़काऊ सामग्री से निपटने के लिए तैयार है।  बौद्ध समाज के लोगो ने कहा की फेसबुक भले ही हमारे पेजेज को ब्लॉक करदे लेकिन फिर भी हम फेसबुक और अलग अलग सोशल मीडिया के पलटफोर्म को इस्तेमाल करते रहेगा साथ ही साथ जमीनी स्तर पर भी अपना काम चलता रहेगा।

    सबसे बरे मुस्लिम देश में रामायण का किया जाता है मंचन पढ़े पूरी खबर



    म्यांमार में रोहंगिया मामले की जाँच करने वाले सयुक्त राष्ट्र के अधिकारिओ ने कहा की आजकल फेसबुक अल्पसंख्यकों के खिलाफ प्रचार करने का एक जरिया बन गया है, इसलिए ये कदम उठाना परा।


    जाने आज किस सैतान की हुई थी मौत इसी ने शुरुआत किया था देश में धर्म परिवर्तन का घिनौना कार्य



    फेसबुक के इस कदम पर मयंमार के कुछ भीचुको का कहना है की ये स्वतंत्रता का उलंघन है लेकिन जो भी हो हम सच्चाई बताने के लिए अलग अलग अकाउंट से अपना अभियान जारी रखेंगे।


    सम्पादक : विशाल कुमार सिंह

    भारत आईडिया से जुड़े :
    अगर आपके पास कोई खबर हो तो हमें bharatidea2018@gmail.com पर भेजे या आप हमें व्हास्स्प भी कर सकते है 9591187384 .
    आप भारत आईडिया की खबर youtube पर भी पा सकते है।
    आप भारत आईडिया को फेसबुक पेज  पर भी फॉलो कर सकते है।

    म्यांमार के बौद्धों का ऐलान रोहंगिया के खिलाफ हमारा अभियान जारी रहेगा / Our campaign against Rohangia will continue, announced by Myanmar Buddhists



    रोहंगिया आतंकियों के खिलाफ म्यांमार में बौद्धों ने फिर से एक बार ऐलान कर दिया है की रोहंगिया भले ही वापस आजाये लेकिन वो बौद्धों के दिल में कभी बस नहीं पाएंगे तथा इनका रोहंगिया के खिलाफ इनका अभियान न सिर्फ जारी रहेगा बल्कि की तेज भी किया जायेगा। बौद्ध समूह ने कहा की न सिर्फ इन रोहंगिया ने हमें और हमारे देश को तोड़ने की कोशीस की है  बल्कि हमारे लोगो को  मारा भी है जो की कभी माफ़ नहीं किया जा सकता। बौद्धों कहा की इनका अभियान सोशल मीडिया के साथ साथ जमीनी स्तर पर भी जोर सोर से चलेगा।आपको हम बता दे की कुछ बौद्ध समूहों के फेसबुक पेज को फेसबुक ने ब्लैक लिस्ट में डाल दिया है।

    वीडियो में देखिये कैसे कश्मीरी आतंकियों की जैकार कर रहे है



    इस तरह से पेज को ब्लैक लिस्ट करने को लेकर फेसबुक ये दिखाना चाहती है की वो भड़काऊ सामग्री से निपटने के लिए तैयार है।  बौद्ध समाज के लोगो ने कहा की फेसबुक भले ही हमारे पेजेज को ब्लॉक करदे लेकिन फिर भी हम फेसबुक और अलग अलग सोशल मीडिया के पलटफोर्म को इस्तेमाल करते रहेंगे साथ ही साथ जमीनी स्तर पर भी हमारा  काम चलता रहेगा।

    पढ़े पिछले 4 दिनों में वादी में जवानो पर कितने हमले हुए



    म्यांमार में रोहंगिया मामले की जाँच करने वाले सयुक्त राष्ट्र के अधिकारिओ ने कहा की आजकल फेसबुक अल्पसंख्यकों के खिलाफ प्रचार करने का एक जरिया बन गया है, इसलिए ये कदम उठाना परा।

     वीडियो में देखे आतंकियों ने कैसे सेना पर छुप कर हमला किया

    फेसबुक के इस कदम पर मयंमार के कुछ भिछुको का कहना है की ये स्वतंत्रता का उलंघन है लेकिन जो भी हो हम सच्चाई बताने के लिए अलग अलग अकाउंट से अपना अभियान जारी रखेंगे।

    सम्पादक : विशाल कुमार सिंह

    भारत आईडिया से जुड़े :
    अगर आपके पास कोई खबर हो तो हमें bharatidea2018@gmail.com पर भेजे या आप हमें व्हास्स्प भी कर सकते है 9591187384 .
    आप भारत आईडिया की खबर youtube पर भी पा सकते है।
    आप भारत आईडिया को फेसबुक पेज  पर भी फॉलो कर सकते है।