This is default featured slide 1 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.

This is default featured slide 2 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.

This is default featured slide 3 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.

This is default featured slide 4 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.

This is default featured slide 5 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.

Showing posts with label DIRTY POLITICS. Show all posts
Showing posts with label DIRTY POLITICS. Show all posts

राम रहीम से बच्चा चाहती थी हनीप्रीत. बाबा भी था तैयार,वजह जान पूरा देश हिल जाएगा.



नमस्कार दोस्तो स्वागत है आपका भारत आइडिया में तो दोस्तो आज हम बात करने वाले है राम रहीम के बारे जिस को पत्रकार रामचंद्र छत्रपति हत्याकांड में सीबीआई की विशेष अदालत ने गुरुवार को गुरमीत राम रहीम समेत चारों आरोपियों को उम्रकैद की सजा सुनाई. विशेष जज जगदीप सिंह ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए फैसला सुनाते हुए कहा कि उम्रकैद की सजा दुष्कर्म मामले में दी गई 20 साल की सजा पूरी होने के बाद शुरू होगी.पर इसके साथ ही एक और खुलासा हुआ है राम रहीम और उसकी प्रेमिका के बारे में  तो आइए जानते है क्या है पूरी खबर .


क्या है खबर :
राम रहीम और हनीप्रीत को लेकर एक बेहद चौंकाने वाला खुलासा हुआ है.डेरे के एक पूर्व सेवादार ने सनसनीखेज खुलासा किया था कि राम रहीम अपनी हनीप्रीत से एक बच्चा चाहता था, जिसे वो डेरे प्रमुख बनाए. पूर्व सेवादार गुरदास सिंह तूर का आरोप था कि ये आइडिया खुद हनीप्रीत का था. वो नहीं चाहती थी कि राम रहीम के बाद डेरा का उतना बड़ा साम्राज्य उसके बेटे जसमीत सिंह इंसां को मिले.गुरदास सिंह तूर के मुताबिक, राम रहीम के बाद डेरे में हनीप्रीत का दबदबा नंबर दो जैसा बन चुका था, इसलिए वो चाहती थी कि राम रहीम और उसका कोई बच्चा हो तो वही डेरे का मुखिया बने.राम रहीम भी इसके लिए राजी था और चाहता था कि बच्चे के पिता का नाम दुनिया की नजरों में विश्वास गुप्ता ही रहे, लेकिन उनकी चाल भांप कर विश्वास ने पहले ही तलाक लेकर इनके अरमानों पर पानी फेर दिया.




खुद ही राम रहीम ने हनिप्रित की शादी करवाई :
वहीं, इस मामले का एक और चश्मदीद सामने आया है, जो उस रात का गवाह है, जब शादी के बाद पहली बार हनी बाबा की गुफा में गई थी.राम रहीम के ड्राइवर रहे खट्टा सिंह के बेटे गुरदास सिंह हनीप्रीत और बाबा के रिश्तों के एक अहम चश्मदीद हैं. राम रहीम ने ही हनीप्रीत की शादी करवाई. उसके फौरन बाद एक रात हनीप्रीत को अपनी गुफा में रहने के लिए बुला लिया. गुरदास उस रात गुफा के बाहर तैनात था.




क्या हुआ था  पहली रात के बाद :
गुरदास सिंह को उस रोज पहली बार शक हुआ था कि राम रहीम हनीप्रीत के साथ कुछ गलत करने जा रहा है. अगली सुबह हनीप्रीत बाबा की गुफ़ा से रोती हुई बाहर निकली थी.उन दिनों खुद हनीप्रीत के दादा डेरे के खजांची हुआ करते थे. हनीप्रीत सीधे दादा के पास गई.उसकी ये हालत देख कर उसके दादा ने डेरे में काफी हंगामा किया. राम रहीम के खिलाफ खुल कर बोलने लगे.लेकिन उन्हें चुप करा दिया गया.बाद में हनप्रित भी बाबा के साथ रहने को राजी हो गई और अपनी नई चाल चली कि उसको बच्चा हो और वो डेरे का उत्तराधिकार बने.


बरेली में शख्‍स ने अपने 11 बच्‍चों की मां को दिया तीन तलाक, लगाए घटिया आरोप..


नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका भारत आइडिया में, तो दोस्तों आज हम बात करने वाले हैं ट्रिपल तलाक के ऊपर जिस पर अभी राजनीतिक गलियारों में काफी गरम बहस चल रही है.लेकिन इसी बीच खबर मिली है कि बरेली में एक व्यक्ति ने 11 बच्चों की मां को तलाक दे दिया है.तो आइए जानते हैं पूरी खबर.


क्या है खबर :
तीन तलाक को सुप्रीम कोर्ट असंवैधानिक घोष‍ित कर चुका है और सरकार इस पर अध्‍यादेश भी ला चुकी है, फिर भी देश के विभिन्‍न हिस्‍सों में ऐसी घटनाएं रुकने का नाम नहीं ले रही हैं.पिछले दिनों तेलंगाना में एक स्‍कूल टीचर ने कथित तौर पर बच्‍ची को जन्‍म देने के कारण अपनी बीवी को व्‍हाट्स एप तीन तलाक दे दिया तो अब यूपी के बरेली से भी ऐसा ही मामला सामने आया है, जिसमें एक शख्‍स ने 19 साल के शादीशुदा जीवन के बाद अपनी बीवी को तलाक दे दिया, जो उसके 11 बच्‍चों की मां भी है.बरेली की सीमा से सटे उत्‍तराखंड में सितारगंज के रहने वाले सैयद सिराज अहमद ने 19 साल पहले 1999 में अपनी पहली पत्‍नी की मौत के बाद बरेली के बहेड़ी की रहने वाली अर्जुमंद जाफरी से दूसरा निकाह किया था. पहली पत्‍नी से उसके 8 बच्‍चे थे तो दूसरी पत्‍नी से भी उसके 3 बच्‍चे हुए. बताया जाता है कि सिराज के विवाहेतर संबंधों की वजह से परिवार में अक्‍सर लड़ाई-झगड़ा होता था. यहां तक उस पर अपनी ही एक बहू के साथ शारीरिक संबंध का भी आरोप लगा, जिसे लेकर परिवार में घमासान था.

पहले पत्नी के बच्चो के साथ संबंध नहीं थे अच्छे :
इधर, पहली शादी से हुए बच्‍चों के संबंध सौतेली मां से अच्‍छे नहीं रह गए थे.ये बच्‍चे पिता के साथ थे और अंतत: रोज-रोज के लड़ाई झगड़े के बीच सिराज ने अर्जुमंद को तलाक दे दिया.तलाक के बाद अर्जुमंद ने अपने शौहर का घर छोड़ दिया है.उसके पास अब कोई ठिकाना नहीं रह गया है.उसने पुलिस में इसकी शिकायत दर्ज कराई है.


व्हाट्सएप पर दिया तलाक :
बीते सप्‍ताह तेलंगाना से भी ऐसी ही घटना सामने आई थी, जब हैदराबाद में एक शख्‍स ने व्‍हाट्स एप पर अपनी बीवी को तलाक दे दिया था. महिला का आरोप है कि बच्‍ची को जन्‍म देने के बाद उस पर ससुराल वालों की ओर से जुल्‍म ढाया जाने लगा और अंतत: उसके शौहर ने व्‍हाट्सएप पर उसे तलाक दे दिया.उसने पुलिस में इसकी श‍िकायत दर्ज कराई.

बड़ी खबर: कर्ज माफी के नाम पर कांग्रेस ने किसानों को दिया धोखा, जाने कैसे .

नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका भारत आइडिया में तो दोस्तों आज हम बात करने वाले हैं कांग्रेस के उस धोखे के बारे में जिसको जानकर आपको गुस्सा आ सकता है.जी हां दोस्तों जैसा आप सबको पता है कि बीते दिन कांग्रेस के मंत्री कमलनाथ ने मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री की शपथ ली तथा अगले दिन ही कर्ज माफी की फाइल साइन की, लेकिन इस कर्ज माफी के तहत मात्र 9% किसानों का ही कर्ज माफ किया गया है. फिर भी न्यूज़ मीडिया ये नहीं बता रही तो आइए हम आपको बताते है ऐसा कैसे हुआ.


क्या है मामला :
जैसा आप सब जानते है, हाल में ही मध्यप्रदेश में कांग्रेस के नए मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शपथ ली और शपथ ही ठीक बाद क़र्ज़ माफ़ी की फाइल पर दस्तखत किये. जिसके बाद खूब कोंग्रेसियों ने ढिंढोरा पीटा. कांग्रेस नेताओं ने लिखा कि जो कहा सो कर दिखाया वो भी एक दिन में. राहुल ने लिखा किसानों का क़र्ज़ माफ़ हो गया लेकिन क्या सही मायनों में कर्ज माफ हुआ है.जैसा आप सब को पता है, चुनाव के वक़्त राहुल ने वादा किया था कि पूरे प्रदेश के सारे किसानों का कर्ज़ा दस दिन में माफ़ कर देंगे. इसी बहकावे में सारे ग्रामीण वोट खींच लिए लेकिन जिस क़र्ज़ माफ़ी फाइल पर दस्तखत किये गए है उसके पीछे कई शर्ते भी हैं जिसने सभी की आंखें खोल दी हैं.


किन सर्तो के तहत हुई कर्ज माफी :
आज हम आपको एक ऐसी सच्चाई बताने जा रहे जिसको जान आपके होस उड़ जायेंगे, जीहां दोस्तो क़र्ज़ माफ़ी के नाम पर किसानों के साथ बड़ा धोखा किया गया है.अभी मिल रही रिपोर्ट के मुताबिक कमलनाथ ने जो कर्ज़े माफ़ दस्तावेज़ पर दस्तखत किये उस हिसाब से केवल 9 % किसान ही आते है. पहली शर्त सिर्फ उनका कर्ज़ा माफ़ होगा जिन्होंने नेशनलाइज़्ड या कोआपरेटिव बैंकों से ही कर्ज लिया हैं.दूसरी शर्त कर्ज़ा सिर्फ उन्ही का माफ़ होगा जिन्होंने ₹2 लाख से कम का ही कर्ज़ लिया हैं. तीसरी शर्त कर्ज़ा सिर्फ उन्ही का माफ़ होगा जिन्होंने केवल अल्पकालीन फसल ऋण के तहत ही कर्ज लिया हैं.चौथी सर्त कर्ज़ा सिर्फ उन्ही का माफ़ होगा जिन्होंने 31 मार्च 2018 से पहले ही कर्ज लिया है .


मात्र 9% किसानों का कर्ज हुआ माफ :
इस हिसाब से देखा जाए तो सिर्फ 9 % किसान ही इसके अंदर आएंगे जिनका कर्ज़ा माफ़ हो सकेगा. यानी कि यहाँ भी प्रदेश के सारे किसानों का कर्ज़ा माफ़ कर देंगे एक धोखा साबित हुआ.बता दें सिर्फ चुनावी वादा ही नहीं बल्कि कांग्रेस ने अपने वचन पत्र के पर्चे भी बटवाये थे. उस पर्चे में सबसे ऊपर यही लिखा गया था कि पूरे प्रदेश के सारे किसानों का कर्ज़ा माफ़ दस दिन के अंदर कर दिया जाएगा.यही नहीं खुद बिकाऊ मीडिया इसमें कांग्रेस के सीएम और कमलनाथ का जमकर गुणगान कर रही है कि एक दिन में वादा पूरा कर दिखाया है लेकिन उसके पीछे की जो शर्तें वो कोई मीडिया नहीं बता रही है.


शेयर करे जरूर :
यदि आप भी जनता को जागरूक करने में अपना योगदान देना चाहते हैं तो इसे फेसबुक पर शेयर जरूर करें. जितना ज्यादा शेयर होगी, जनता उतनी ही ज्यादा जागरूक होगी. आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं.

वामपंथी नेता ने कांग्रेस कि जीत को बताया पाकिस्तान कि जीत, पूरी खबर जरूर पढ़े.

नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका भारत आइडिया में तो दोस्तों आज हम बात करने वाले हैं जानी-मानी लेखिका और कम्युनिस्ट एक्टिविस्ट मधु किश्वर के बारे में जिन्होंने कांग्रेस की जीत के बाद कुछ ऐसा कहा जो कि किसी भी भारतीय के लिए शर्मनाक हो सकता है तो आइए जानते हैं क्या कहा कम्युनिस्ट नेता ने.


क्या है मामला :
आपको हम बताना चाहेंगे की जानीमानी लेखिका और एक्टिविस्ट मधु किश्वर ने पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों में कांग्रेस पार्टी के अच्छे प्रदर्शन पर कहा है कि ये सिर्फ कांग्रेस की जीत नहीं, बल्कि पाकिस्तान की भी जीत है. इसके साथ ही उन्होंने बीजेपी पर अपने कोर वोट बैंक की उपेक्षा का आरोप भी लगाया.विधानसभा चुनाव परिणामों पर मधु किश्वर ने ट्वीट किया, ‘ये कांग्रेस और वामपंथी उदारवादियों के साथ ही पाकिस्तान की जीत भी है. उन्होंने कहा कि पिछले चार साल में कांग्रेस का मुस्लिम तुष्टीकरण बहुत बढ़ गया, जबकि पीएम नरेंद्र मोदी ने अपने कोर वोट बैंक की उपेक्षा की.


मोदी पर एक किताब भी लिखा है कम्युनिस्ट नेता ने:
मधु किश्वर दक्षिणपंथी विधाराधारा की समर्थक हैं और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर ‘मोदीनामा’ नाम से एक किताब भी लिख चुकी हैं. वे गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में पीएम मोदी की बहुत तारीफ करती रही हैं, हालांकि प्रधानमंत्री के तौर पर उनकी नीतियों से पूरी तरह संतुष्ट नहीं हैं.मधु किश्वर ने लिखा है, ‘पिछले चार साल में कांग्रेस पार्टी का मुस्लिम तुष्टिकरण बहुत बढ़ गया. वो मुस्लिम लीग में बदल गई. लेकिन नरेंद्र मोदी ने अपने कोर वोट बैंक की उपेक्षा की और कांग्रेस की स्टाइल में सेक्युलर बनने की कोशिश की. ये सबका साथ की असफलता नहीं है, ये अपने पार्टी कैडर को साथ न रख पाने की असफलता है.’ उन्होंने कहा कि पार्टी कैडर को हल्के में नहीं लेना चाहिए. इसके साथ ही उन्होंने पेट्रोल-डीजल की कीमतों में तेजी को भी बीजेपी की हार के लिए जिम्मेदार बताया.


शेयर करे :
यदि आप भी जनता को जागरूक करने में अपना योगदान देना चाहते हैं तो इसे फेसबुक पर शेयर जरूर करें. जितना ज्यादा शेयर होगी, जनता उतनी ही ज्यादा जागरूक होगी. आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं.

सड़क दुर्घटना में तरप्ते घायल को किनारे कर निकला इस बड़े मंत्री का काफिला.

नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका भारत आइडिया में तो दोस्तों आज बात करने वाले हैं एक ऐसी घटना के बारे में जिसके बारे में जान करके आपको हैरानी हो सकती है.


क्या है मामला :
अक्सर जब भी चुनाव होता है तो हम अपने लिए एक ऐसा नेता चुनते हैं जो हमारे समाज का तथा समाज के हर एक व्यक्ति का ख्याल रखें तथा उसके सुख दुख में भागीदार बने लेकिन इसी बीच एक ऐसी घटना आई है जो नेताओं के असली चेहरे को दर्शाती है. दरअसल तेलंगाना के  भुपालापल्ली जिले से एक खबर आ रही है और ये खबर सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही है.दरअसल, रविवार की दोपहर पालमपेट गांव के नल्लाकलुवा क्रॉसरोड पर एक ट्रक ने बाइक सवार को टक्कर मार दी, जिसके चलते अपने दो दोस्त गोपी और सतीश के साथ रमप्पा मंदिर जा रहे तदुरी मधुसूदन चैरी बाइक से गिर गए.


एक कि मौके पर हुई मौत :
टक्कर इतनी जोरदार थी कि तीस वर्षीय चैरी की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि उसके पीछे बैठे उसके दोनों दोस्त घायल हो गए . जिस वक्त पास के गांव के लोग एक्सीडेंट के बाद एकजुट होकर चैरी की जान बचाने के लिए एक गाड़ी की तलाश कर रहे थे, ताकि उसे समय पर अस्पताल पहुंचाया जा सके, ठीक उसी वक्त जनजाति कल्याण मंत्री अज़मीरा चंदुलाल का काफिला वहां पर बिल्कुल नजदीक से बिना रुके निकला लेकिन वो रुके नहीं .


मंत्री जी ने दी सफाई :
एक युवक ने बताया कि मैं इस बात से आश्वस्त था कि मंत्रीजी सामने की सीट पर बैठे हैं जो इस घटना को सामने देखकर जरूर रुकेंगे  लेकिन, जिस तरह से उनका काफिला उस घटना को देखते हुए नजरअंदाज कर निकला ये बेहद अमानवीय था.एक अन्य युवक जिसने फोटो खींचकर व्हाट्सग्रुप पर भेजा उसने बताया कि यह गांव उनके ही मुलुगु विधानसभा क्षेत्र में आता है. इसलिए, उन्हें अपने काफिले को रोककर बाहर आना चाहिए था और घायलों को अस्पताल तक पहुंचाने में मदद करनी चाहिए थी. हालांकि, इस पूरी घटना पर मंत्री जी ने बताया की वो , “अपने एक रिश्तेदार के साथ कॉल पर व्यस्त थे, उस वक्त मुझे उतरना चाहिए और घायलों से मिलना चाहिए था, लेकिन उस वक्त मैं काफी जल्दबाजी में था.”

इस राज्य में 1500 हिंदुवो ने किया धर्म परिवर्तन, जरूर पढ़े.

नमस्कार दोस्तो स्वागत है आपका भारत आइडिया में  दोस्तो आज हम बात करने वाले हिन्दू धर्म परिवर्तन के बारे में, दरअसल उत्तरप्रदेश में एक साथ 1500 हिंदुवो के धर्म परिवर्तन की खबर अाई है.

क्या है मामला :
जीहां दोस्तो आप ए सही सुना, यूपी के मेरठ में बड़ी तादाद में हिंदुओं के धर्म परिवर्तन कर बौद्ध धर्म अपनाने का मामला सामने आया है, इसके लिए सुभारती यूनिवर्सिटी में बाकायदा कार्यक्रम का आयोजन किया गया. सुभारती विश्वविद्यालय के सर्वेसर्वा डॉ अतुल कृष्ण और उनके परिवार के नेतृत्व में हिंदू धर्म से खुद को अलग कर लिया. इस मामले में डॉ. अतुल कृष्ण का कहना है कि पिछड़े तबके को लोगों पर जुल्म ही धर्म परिवर्तन का मुख्य कारण हैं.

1500 लोगों ने किया धर्म परिवर्तन :
यूपी के मेरठ के सुभारती यूनिवर्सिटी के सर्वेसर्वा डॉक्टर अतुल कृष्ण आगे-आगे जो बोलते जा रहे थे, मौके पर मौजूद लोग उसे दोहराते चले जा रहे थे और इस तरह करीब 15 सौ हिन्दुओं के धर्म परिवर्तन कर बौद्ध धर्म अपनाने का दावा किया गया. बुधवार को हुए इस कार्यक्रम का आयोजन भी डॉक्टर अतुल कृष्ण ने ही किया था, जिसमें हिस्सा लेने के लिए लोग सुबह से ही जुटने लगे थे, जिन्हें कार्यक्रम के दौरान बौद्ध धर्म  की दीक्षा दिलाई गई.अतुल कृष्ण ने कई महीने पहले धर्मांतरण का ये अभियान छेड़ा था. सुभारती यूनिवर्सिटी परिसर के अंदर शुरू किए गए स्कूल ऑफ बुद्धिज्म स्टडी में धर्मांतरण के इस कार्यक्रम का आयोजन किया गया, जिसमें बौद्ध धर्म अपनाने वालों ने स्वेच्छा से ऐसा करने का दावा किया.

सरकार को इस बारे में सोचने की जरूरत:
इस आयोजन में धर्मांतरण अनुष्ठान का नेतृत्व करने वाले बौद्ध भिक्षु डॉ. चंद्रकीर्ति की मानें तो पिछले दिनों अनुसूचित जाति के दबे कुचले लोगों पर जो अत्याचार हुए यह धर्मांतरण उसी का परिणाम है. उनका मानना है कि इतनी बड़ी तादात में हिंदुओं के धर्मांतरण के बाद सरकार पर भी इसका असर पड़ेगा और सरकार सोचने को मजबूर होगी.

मां दुर्गा का प्रकोप मंदिर तोड़ने गई जेसीबी का फटा इंजन पूरी खबर पढ़ें



नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका भारत आइडिया में, तो दोस्तों आज हम बात करने वाले हैं उस चमत्कार के बारे में जिसको सुनकर शायद आपको यकीन ना हो लेकिन एक घटना पटना में ऐसी घटी है जिसमें मंदिर को तोड़े जाने की कोशिश में जेसीबी का इंजन ही फट गया.

मां दुर्गा का प्रकोप मंदिर तोड़ने गई जेसीबी का फटा इंजन पूरी खबर पढ़ें

क्या है मामला:
जी हां दोस्तों आपने सही सुना अक्सर हम यह देखते हैं कि हमारे देश में तथाकथित तौर पर जो भी सरकारें हो वह हमेशा से सत्य सनातन धर्म की भावनाओं को आहत करते हैं .लेकिन उसी क्रम में कई बार ऐसा होता कि ईश्वर की प्रतिष्ठा को जो लोग हानि पहुंचाने जाते हैं उनको ईश्वर के गुस्से के प्रकोप का सामना करना पड़ता है.हर कोई किसी न किसी भगवान एवं देवता का पुजारी होता है एवं उनके प्रति हमेशा कुछ ऐसा कहने की सोचता है जिससे भगवान प्रसन्न होकर उसका फल दे सके. आपकी जानकारी के लिए बता दे कि पटना में एक मंदिर तोड़ने के लिए जेसीबी मंगाई गई थी लेकिन जेसीबी जैसे ही मंदिर को तोड़ने के लिए आगे बढ़ा जेसीबी की इंजन फट गई.




मंदिर तोड़ते वक्त जेसीबी का इंजन फटा:
हम अक्सर देखते है कुछ लोग भगवान पर विश्वास करते हैं और कई ऐसे भी होते हैं जो भगवान पर विश्वास नहीं करते हैं पर आज के इस लेख से आप भगवान पर पूरी तरह से विश्वास करने लगेंगे. तो पूरी घटना कुछ इस तरह है कि पटना शहर में सड़क के किनारे ही माता की एक छोटी सी मंदिर थी जहां कई लोग घर से निकलते वक्त माता के दर्शन और आशीर्वाद लेकर जाते थे लेकिन प्रशासन की बात करें तो वह मंदिर सड़क के किनारे ही था जिसकी वजह से गाड़ियों की आवागमन में काफी समस्या आ रही थी इसलिए उन्होंने फैसला किया कि वह यह मंदिर तोड़ देंगे. इसी बीच लोगों ने सरकार के नुमाइंदो को रोकने की कोशिश भी की लेकिन प्रशासन अपनी बात पर अड़ा रहा इतने ही देर में वहां एक जेसीबी भी आ गई और मंदिर को तोड़ने के लिए वह जैसे ही मंदिर के निकट गई अचानक से उसका डीजल टैंक फट गया जिससे वह मंदिर तोड़ने में नाकाम रहे.




सरकार आगे से मंदिर तोड़ने की दुस्साहस ना करें:
तो दोस्तों इस समाचार को पढ़ने के बाद आपको भगवान पर जरूर विश्वास हो गया होगा क्योंकि जेसीबी का डीजल इंजन का फटना कोई अकारणवश नहीं था वह इसलिए था क्योंकि वहां पर लोगों की आस्था आहत हो रही थी और शायद लोगों की प्रार्थना ने उस मंदिर को टूटने से बचा लिया और उनकी श्रद्धा भगवान के लिए और बढ़ गई. अब सरकार को भी यह समझ लेना चाहिए की वह अब हिंदू देवी देवताओं के मंदिर को क्षति पहुंचाने की कोशिश ना करें अन्यथा ईश्वर का प्रकोप भयंकर हो सकता है और उसका परिणाम पूरी मनुष्य जाति को भुगतना पड़ सकता है. भारत आइडिया देश के हर एक राज्य सरकार से यह प्रार्थना करती है कि वह आगे से किसी भी हिंदू देवी देवताओं के मंदिर को क्षति पहुंचाने का साहस ना करें.




संपादक : विशाल कुमार सिंह


तेज प्रताप ने घर वापसी के लिए रखी ये शर्त.


नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका भारत आइडिया में, दोस्तों आज हम बात करने वाले हैं राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के बड़े पुत्र तेज प्रताप यादव के बारे में जिन्होंने परिवार के सामने एक शर्त रखी है और उसी शर्त पर उन्होंने घर आने की बात कही है.

तेज प्रताप ने घर वापसी के लिए रखी ये शर्त.

क्या है मामला:
राष्‍ट्रीय जनता दल (राजद) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव घर लौट सकते हैं, अगर उनकी बात मान ली जाए, अभी वे हरिद्वार में हैं. उन्‍होंने माना कि कृष्‍ण अर्जुन से नाराज नहीं हैं, लेकिन एक दुर्योधन है जो अर्जुन व कृष्‍ण के बीच में आ गया है.एक निजी चैनल से बातचीत में तेज प्रताप यादव ने कहा कि उनकी छोटी सी बात अगर माता-पिता मान लें तो वे घर लौट आएंगे, टेजप्रताप का कहना है कि मेरी बात मानने के लिए कोई तैयार नहीं है.तेज प्रताप ने कहा कि उन्‍होंने तलाक की जो अर्जी फाइल की है, उसपर परिवार साथ दे तभी हम घर लौट आएंगे .तेज प्रताप यादव ने यह भी साफ किया कि वे पत्‍नी ऐश्‍वर्या की मीठी-मीठी बातों में आने वाले नहीं हैं.


क्या कहा तेज प्रताप ने:
तेज प्रताप ने कहा कि परिवार में लड़ाई-झगड़े हद पार कर गए थे, वह (पत्‍नी) मेरे लिए गंदे शब्‍द बोलती थी.वो अपनी जिंदगी में मस्‍त रहे, मैं अपनी जिंदगी में मस्‍त रहूं. तेज प्रताप यादव ने कहा कि हमने सोच-समझकर तलाक का फैसला लिया है और यह अटल है.तेज प्रताप ने कहा कि वे परिवार के साथ हैं, लेकिन ऐश्‍वर्या के साथ रहना नहीं चाहते.उन्‍होंने घर में घुसे किसी विपिन नामक व्‍यक्ति के प्रति नाराजगी जताई तथा कहा कि वह उनके दोस्‍तों को बुलाकर सता रहा है,  यह बर्दाश्‍त से बाहर है.तेज प्रताप ने कहा कि पार्टी में भी गुंडे-मवाली घुस गए हैं, उन्‍हें भी बाहर करना चाहिए.उन्‍होंने कहा कि कुछ दुर्योधन लगे हुए हैं, लेकिन वे अपने अर्जुन (तेजस्‍वी) से दूर नहीं हैं. परिवार वालों से भी उनकी बात हो रही है, पिता लालू प्रसाद यादव से भी बात हुई है और वे ठीक हैं.


तेजस्वी ने नहीं मनाया अपना जन्मदिन:
तेज प्रताप फिलहाल वृंदावन में हैं, उन्‍होंने फोन कर तेजस्‍वी को जन्‍मदिन की बधाई दी है. तेजस्‍वी ने बड़े भाई को बहुत समझाया है, लेकिन वे चाहते हैं कि घरवाले पहले उनके तलाक की बात मान लें तब वे लौटेंगे.ऐश्वर्या से तलाक लेने की याचिका दायर करने के बाद सुर्खियों में आए तेज प्रताप यादव के बिना दिवाली का त्योहार तो सूना रहा ही उनके भाई तेजस्वी के जन्मदिन पर भी समर्थक इंतजार करते रहे.जन्मदिन पर उनके राजधानी पहुंचने के कयास समर्थक लगा रहे थे लेकिन पटना स्थित उनके आवास पर शुक्रवार को भी सन्नाटा पसरा रहा. हरिद्वार गए तेज प्रताप के घर न लौटने पर समर्थक निराश ही लौटे.


घटिया मेवानी ने 9 मिनट के भाषण में छह बार मोदी जी के लिए इस्तेमाल किया अपशब्द



नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका भारत आइडिया में, तो दोस्तों आज हम बात करने वाले हैं जिग्नेश मेवानी के बारे में जो कि अपनी घटिया राजनीति के लिए तथा गंदी सोच के लिए जाने जाते हैं. इसी सोच के साथ उन्होंने फिर से अपना घटियापन दिखाते हुए अपने 9 मिनट के भाषण में 6 बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के लिए अपशब्द कहे.

घटिया मेवानी ने 9 मिनट के भाषण में छह बार मोदी जी के लिए इस्तेमाल किया अपशब्द

क्या है मामला:
जीहां दोस्तों आपने सही सुना जिग्नेश मेवानी ने गुरुवार को एक रैली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जमकर हमला बोला और अपनी घटिया पन दिखाते हुए पटना के गांधी मैदान में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए विवादित शब्दों का इस्तेमाल किया. आपको बता दें कि गुजरात से विधायक जिग्नेश मेवानी ने भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी की भाजपा हटाओ देश बचाओ की रैली को संबोधित करते हुए 9 मिनट का भाषण दिया इसमें उन्होंने 6 बार प्रधानमंत्री को नमक हराम कह कर संबोधित किया.




क्या कहा घटिया मेवानी ने मोदी जी पर:
भाषण की शुरुआत में जिग्नेश मेवानी ने प्रधानमंत्री को कप्तान कह कर संबोधित किया और कहा कि वह नमक हराम है और उनकी सबसे ज्यादा नमक हरामि गुजरात की जनता ने देखी है. जिग्नेश मेवानी जो कि एक घटिया इंसान है उसने प्रधानमंत्री पर तंज कसते हुए कहा कि वह बिहार समेत देश की 130 करोड़ जनता से माफी मांगते हैं कि गुजरात ने ऐसा मैन्युफैक्चरिंग डिफेक्ट वाला पीस दिल्ली भेज दिया.


घटिया मेवानी ने बिहारियों की पिटाई पर क्या कहा :
इसके बाद घटिया इंसान जिग्नेश मेवानी ने हाल में ही घटी घटना जिसमें बिहारियों को गुजरात में पीटा जा रहा था उसका जिक्र करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कितने नमक हराम है, इस बात का अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि गुजरात में उत्तर भारतीयों की पिटाई हो रही थी मगर इस नमक हराम की जुबान से एक शब्द नहीं निकला. घटिया मेवानी ने अपने भाषण को आगे बढ़ाते हुए कहा कि प्रधानमंत्री ने गुजरात में उत्तर भारतीयों के साथ हुई पिटाई के मुद्दे पर अपनी जुबान नहीं खोली इसलिए देश की जनता को इस नमक हराम को पहचान लेना चाहिए.




घटिया मेवानी ने सिर्फ और सिर्फ अभद्र टिप्पणी की:
घटिया  मेवनी ने प्रधानमंत्री पर इल्जाम लगाते हुए कहा कि भूख,महंगाई,तेल की बढ़ती कीमत तथा दलितों पर हो रहे अत्याचार से हमारे प्रधानमंत्री को कोई मतलब नहीं है उनको मतलब है तो सिर्फ गाय से. घटिया मेवनी जब अपनी भाषण दे रहा था उस वक्त बिजली गुल हो गई और मेवानी को अपना भाषण बीच में ही रोकना पड़ा जिसके बाद मेवानी ने मोदी जी पर भद्दी टिप्पणी करते हुए कहा कि बिजली का गुल हो जाना भी नमक हराम की साजिश है.




संपादक : विशाल कुमार सिंह


देवकीनंदन ठाकुर का राजनीति में एंट्री 29 को करेंगे पार्टी चिन्ह का ऐलान



नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका भारत आइडिया में, तो दोस्तों आज हम बात करने वाले हैं कथा वाचक देवकीनंदन ठाकुर जी के बारे में जिन्होंने पूर्ण रूप से सियासत में एंट्री ले ली है और आने वाले 29 अक्टूबर को पार्टी चिन्ह का भी देवकीनंदन जी ऐलान करने वाले हैं.

देवकीनंदन ठाकुर का राजनीति में एंट्री 29 को करेंगे पार्टी चिन्ह का ऐलान

क्या है मामला:
जी हां दोस्तों आपने सही सुना एससी एसटी एक्ट के खिलाफ आंदोलन खड़ा करने के लिए अखंड भारत मिशन नाम का एक संगठन बनाया गया है और इस संगठन का निर्माण किया है देवकीनंदन ठाकुर जी ने. आपको ज्ञात हो तो हाल ही में एससी एसटी एक्ट के विरोध पूरे देश में स्वर्णो द्वारा आंदोलन किया गया था और इस आंदोलन को आगे बढ़ाया था देवकीनंदन ठाकुर जी ने जो कि एक कथा वाचक हैं और इसी आंदोलन के बाद यह अनुमान लगाया जा रहा था कि देवकीनंदन जी राजनीति में एंट्री कर सकते हैं और हुए भी ऐसा ही.


29 को करेंगे पार्टी चिलने का ऐलान:
एससी एसटी एक्ट में संशोधन के खिलाफ आवाज उठाने वाले प्रसिद्ध कथा वाचक देवकीनंदन ठाकुर जी ने अखंड भारत मिशन नाम से एक पार्टी का निर्माण किया है और देवकीनंदन जी ने कहा है कि मध्यप्रदेश में 230 सीटों पर वह अपना प्रत्याशी उतारेंगे साथ ही साथ ठाकुर जी के द्वारा यह भी ऐलान किया गया कि आने वाले 29 अक्टूबर को वह अपनी पार्टी का चिन्ह का भी ऐलान करेंगे.


देवकीनंदन कैसे आए सुर्खियों में:
आपको बता दें कि एससी एसटी एक्ट के विरोध के चलते पिछले महीने 11 सितंबर को आगरा में देवकीनंदन ठाकुर को गिरफ्तार भी किया गया था, केंद्र सरकार द्वारा लाइ एससी एसटी एक्ट के खिलाफ सोशल मीडिया पर देवकीनंदन ठाकुर के कई संदेश भी वायरल हुए थे जिनमें उन्होंने स्वर्ण समुदाय के लिए आवाज उठाते हुए मांग की थी कि बिना जांच के तुरंत गिरफ्तारी का प्रावधान एक्ट से हटाया जाए. एससी एसटी एक्ट को लेकर ही देवकीनंदन ठाकुर जी 11 सितंबर की सुबह अपने समर्थकों के साथ आगरा के एक होटल में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रहे थे इसी दौरान वहां पुलिस पहुंची और उन्हें हिरासत में लेकर पुलिस लाइन ले आई जिसके बाद देवकीनंदन जी के समर्थको में आक्रोश उत्पन्न हो गया और उनके समर्थक सैकड़ों की संख्या में सड़कों पर पुलिस के विरुद्ध उतर आए जिसके बाद देवकीनंदन जी को पुलिस द्वारा रिहा किया गया.


संपादक : विशाल कुमार सिंह

मैं दिवाली में रात को 10:00 बजे के बाद ही पटाखे जलाऊंगा : बीजेपी सांसद


नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका भारत आइडिया में, दोस्तों आज हम बात करने वाले हैं सुप्रीम कोर्ट के दिए हुए आदेश को भाजपा नेता ने नकारते हुए कहा है कि वो रात को 10:00 बजे के बाद ही पटाखे जलाएंगे .

मैं दिवाली में रात को 10:00 बजे के बाद ही पटाखे जलाऊंगा : बीजेपी सांसद

क्या है मामला:
हां दोस्तों आपने सही सुना भाजपा नेता चिंतामणि मालवीय ने कहा है कि वह रात को 10:00 बजे के बाद ही पटाखे जलाएंगे. आपको ज्ञात हो तो आज सुप्रीम कोर्ट ने बीते दिन यह फैसला सुनाया है कि दीपावली में पटाखे जलाने की अवधि 8:00 बजे से लेकर 10:00 बजे तक रहेगी लेकिन भाजपा नेता चिंतामणि मालवीय ने 1 एक ट्वीट के जरिए सुप्रीम कोर्ट के आदेश को मानने से इनकार कर दिया है.


मूर्ति पूजन कर लूंगा फिर पटाखे फोड़ूंगा:

बीजेपी सांसद चिंतामणि मालवीय ने एक ट्वीट के जरिए कहा कि वह परंपरागत तरीके से दीपावली का त्योहार मनाएंगे, पहले मैं लक्ष्मी पूजन करूंगा और फिर रात 10:00 बजे के बाद पटाखे चलाऊंगा. चिंतामणि ने यह भी कहा कि यह उनका धार्मिक मामला है और वह अपने धार्मिक मामले में किसी की दखलअंदाजी नहीं चाहते.

भारत आइडिया का विचार:
बहरहाल जो भी हो चिंतामणि ने यह बात तो सही कही है कि हर बार सुप्रीम कोर्ट को हिंदू त्योहारों में ही कमियां निकालनी होती है, सुप्रीम कोर्ट कभी भी किसी अन्य धर्मों के त्योहारों के विरुद्ध जाकर कोई फैसला नहीं सुनाता सो अब वक्त आ गया है कि हमें भी अपनी आवाज खुद उठानी होगी क्योंकि हमारे परंपरागत त्यौहार ही हमारी पहचान है.


संपादक : विशाल कुमार सिंह

चीन ने फिर दिखाई अपनी घटिया पनी रोका ब्रह्मपुत्र नदी का पानी.



नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका भारत आइडिया में दोस्तों आज हम बात करने वाले हैं चीन के बारे में जिसने फिर से एक बार भारत को आंख दिखाते हुए अरुणाचल प्रदेश में ब्रह्मपुत्र नदी का पानी रोक दिया है.

चीन ने फिर दिखाई अपनी घटिया पनी रोका ब्रह्मपुत्र नदी का पानी.

क्या है मामला :
जी हां दोस्तों आपने सही सुना भारत के खिलाफ चीन एक बार फिर से अपनी गंदी फितरत दिखाते हुए मनमानी पर उतर आया है, खबरों के अनुसार चीन के तिब्बत से भारत में बहने वाली ब्रह्मपुत्र नदी के पानी को चीन के द्वारा रोक दिया गया है जिसके कारण अरुणाचल प्रदेश के बड़े हिस्से में सूखे का खतरा पैदा हो गया है. अरुणाचल प्रदेश में कांग्रेस के सांसद निनॉन्ग इरिंग का कहना है कि अरुणाचल के ब्रह्मापुत्र तटीय इलाकों में सूखे के हालात पैदा हो गए हैं इसलिए मैं विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और केंद्रीय मंत्री अर्जुन मेघवाल से इस मामले में दखल देने की मांग करता हूं.




क्या कहना है चीन का :
वहीं चीन के जल संसाधन मंत्रालय ने इन खबरों का खंडन करते हुए कहा है कि नदी के मिलिंग सेक्शन में भारी मात्रा में भूस्खलन हुआ है और यह भूस्खलन 16 से 17 अक्टूबर के बीच में हुआ है, इस कारण इस नदी में पानी का प्रभाव प्रभावित हुआ है और जिसके चलते अरुणाचल प्रदेश में पानी का बहाव भी कम हुआ है.


लोगो को तटीय किनारो से दूर रहने को कहा गया :
पानी के बहाव रोकने के कारण अरुणाचल प्रदेश के जंगल और जलीय पर्यावरण के लिए गंभीर खतरा पैदा हो गया है, वहीं अरुणाचल प्रदेश में अधिकारियों द्वारा आम नागरिकों के लिए एडवाइजरी जारी की गई है जिसमें कहा गया है कि, तटीय क्षेत्र में रहने वाले लोग खासकर मछली पकड़ने वाले लोग एहतियात बरतें क्योंकि अगर चीन ने पानी छोड़ा तो बाढ़ के हालात पैदा हो सकते हैं.

संपादक : विशाल कुमार सिंह 


कांग्रेस ने अल्पेश ठाकुर से किया किनारा, पटना आने का न्योता नहीं.

नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका भारत आइडिया में, तो दोस्तों आज हम बात करने वाले हैं अल्पेश ठाकोर के बारे में जिन पर गुजरात में उत्तर भारतीयों के खिलाफ हिंसा कराने का आरोप है और उनसे कांग्रेस ने भी किनारा कर लिया है.

कांग्रेस ने अल्पेश ठाकुर से किया किनारा, पटना आने का न्योता नहीं.

क्या है मामला :
जी हां दोस्तों आपने सही सुना बिहार कांग्रेस ने अल्पेश ठाकोर से किनारा कर लिया है, आपको बता दें कि गुजरात में बिहार और उत्तर प्रदेश के खिलाफ हिंसा कराने का आरोप झेल रहे अल्पेश ठाकोर को 21 अक्टूबर को पटना में आयोजित स्वर्गीय श्री कृष्ण सिंह की जयंती में आने का कांग्रेस द्वारा निमंत्रण नहीं दिया गया है.

क्यूँ नहीं बुलाया गया अल्पेश ठाकोर को ?
आपको पता होगा कि गुजरात कांग्रेस के विधायक अल्पेश ठाकोर बिहार कांग्रेस के सह प्रभारी हैं सो बिहार में कांग्रेस के इतने बड़े कार्यक्रम में अल्पेश ठाकोर को निमंत्रण ना देना यही दर्शाता है कि अल्पेश को लेकर कांग्रेस कोई फजीहत नहीं झेलना चाहती और उनसे किनारा करना चाहती है.

कार्यक्रम के आयोजक का क्या है कहना ?
इस कार्यक्रम के आयोजक और बिहार कांग्रेस चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष सांसद अखिलेश सिंह ने कहा है कि इस आयोजन में हमने अल्पेश ठाकुर को निमंत्रण नहीं भेजा है, गौरतलब है कि बिहार में कांग्रेस की तरफ से बिहार के प्रथम मुख्यमंत्री श्री कृष्ण सिंह की जयंती 21 अक्टूबर को मनाई जा रही है.

कौन कौन हो रहा है इस कार्यक्रम में शामिल :
इस कार्यक्रम में बिहार कांग्रेस के सभी बड़े प्रभारी शामिल होंगे साथ ही साथ महागठबंधन के दूसरे बड़े नेताओं की भी इस कार्यक्रम में शामिल होने की उम्मीद है लेकिन बिहार कांग्रेस के सह प्रभारी अल्पेश ठाकुर को ही इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए आमंत्रित नहीं किया गया और इसके पीछे कारण यह है कि बिहार के कांग्रेसी नेताओं को यह पता है कि अल्पेश ठाकोर को लेकर बिहार की जनता में किस प्रकार का आक्रोश है ऐसे में अगर अल्पेश ठाकोर कार्यक्रम में शामिल होते है तो मामला गर्मा सकता है, गौरतलब है कि भारतीय जनता पार्टी के युवा मोर्चा ने अल्पेश ठाकोर को धमकी दी थी कि अगर वह पटना आएंगे तो उनका जमकर विरोध किया जायेगा.

संपादक : विशाल कुमार सिंह 

दुर्गा पूजा के अवसर पर दिखी शत्रुघ्न सिन्हा की तेजस्वी के लिए चापलूसी



नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका भारत आइडिया में, तो दोस्तों आज हम बात करने वाले हैं शत्रुघ्न सिन्हा के बारे में जो कि तेजस्वी के गुण गाते थकते ही नहीं है.
दुर्गा पूजा के अवसर पर दिखी शत्रुघ्न सिन्हा की तेजस्वी के लिए चापलूसी

क्या है खबर :
दोस्तों हम आपको बताना चाहेंगे कि पटना के एक पूजा पंडाल में मंगलवार को पहुंचे भारतीय जनता पार्टी के बागी नेता शत्रुघ्न सिन्हा ने बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी यादव के माथे पर तिलक लगाते हुए उन्हें विजई भव का आशीर्वाद दिया, जिसमें उनकी तेजस्वी के लिए चापलूसी पूरी तरह से देखी जा सकती थी.

क्या कहा सत्रुधन सिन्हा ने तेजस्वी के लिए :
पटना के डाकबंगला चौराहे पर बनी एक पूजा पंडाल में एक साथ पहुंचे शत्रुघ्न सिन्हा और तेजस्वी यादव ने साथ में पूजा अर्चना की इस अवसर पर शत्रुघ्न सिन्हा ने आरजेडी नेता लालू प्रसाद यादव के सुपुत्र तेजस्वी यादव के माथे पर तिलक लगाया और कहा तेजस्वी बिहार का भविष्य है, साथ ही साथ शत्रुघ्न सिन्हा ने यह भी कहा कि तेजस्वी यादव योग्य और मजबूत भी हैं इसीलिए आज मैंने इनका राज्य अभिषेक किया है, शत्रुघ्न सिन्हा के अनुसार अच्छे दिन तो नहीं आने वाले लेकिन तेजस्वी के आने के बाद शुभ दिन जरूर आएंगे।

सत्रुधन सिन्हा हो सकते है आरजेडी में शामिल :
आपको बता दें कि अक्सर यह देखा गया है कि शत्रुघन सिंहा अपनी पार्टी बीजेपी के विरोध में हमेशा बोलते रहते हैं लेकिन वही स्थानीय पार्टी आरजेडी के पक्ष में हमेशा से शत्रुघ्न सिन्हा चापलूसी करते आए हैं, शायद इसीलिए शत्रुघ्न सिन्हा पिछले रमजान महीने में तेजस्वी के आवास पर आयोजित इफ्तार दावत में भी शामिल हुए थे और कयास तो यह भी लगाए जा रहे हैं कि आगामी लोकसभा चुनाव में शत्रुघ्न सिन्हा बीजेपी के साथ नहीं बल्कि आरजेडी का दामन थामेंगे।

संपादक : विशाल कुमार सिंह

आतंकियों के साथियों का साथ दे रही है कांग्रेस



जिहां दोस्तों आपने सही सुना हिंदुस्तान को गजवा ए हिंद बनाने का सपना देखने वाला इस्लामी आतंकी जाकिर मूसा के साथी  जो पंजाब के नामी कॉलेज में पढ़ कर हिंदुस्तान को बर्बाद करने का ख्वाब रच रहा था उसे बीते पिछले दिन जालंधर से जालंधर पुलिस ने गिरफ्तार किया लेकिन हमें आपको बताते हुए अफसोस हो रहा है की, इन आतंकियों को अब कांग्रेस का साथ मिल रहा है.

कांग्रेस दे रही है समर्थन :
आपको बता दें कि जालंधर में आतंकी संगठन अंसार गजावत-उल-हिन्द से जुड़े तीन कश्मीरी छात्रों को जालंधर पुलिस ने अपने गिरफ्त में लिया था, लेकिन अब कांग्रेस उनके बचाव में खड़ी हो गई है, इस संबंध में जम्मू कश्मीर के प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष एवं पूर्व मंत्री गुलाम अहमद मीर ने पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को पत्र लिखकर कश्मीरी छात्रों को बेवजह परेशान न करने की बात कही है और उनके लिए एक सुरक्षित वातावरण सुनिश्चित करने का आग्रह किया है.



क्या पत्र में आगे लिखा कांग्रेसी मंत्री ने :
पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह को लिखे पत्र में कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष गुलाम अहमद मीर ने आगे लिखा है कि उनकी पार्टी पंजाब में कश्मीरी छात्रों को प्रताड़ित किए जाने की घटना के प्रति बेहद गंभीर है और उसकी कड़ी निंदा करती है, गुलाम अहमद मीर ने यह भी कहा कि जम्मू कश्मीर की घाटी से तनावग्रस्त हालात में राज्य के छात्र पड़ोसी राज्यों में विशेषकर दिल्ली और पंजाब पढ़ने जाते हैं लेकिन बेवजह के मामलों में उनको घसीट कर उनके भविष्य को तबाह किया जाता है. इसलिए पंजाब सरकार को कश्मीरी छात्रों को शिक्षण संस्थानों में शांत एवं सुरक्षित वातावरण उपलब्ध करवाए ताकि उनकी शिक्षा पर कोई गलत असर ना पड़े।

संपादक : विशाल कुमार सिंह

राजीव ब्रह्मर्षि की रिहाई के लिए अनशन पर बैठे हिंदू पुत्र संगठन के एक कार्यकर्ता के मुंह से निकला खून

नमस्कार दोस्तों आप सब का स्वागत है भारत आइडिया में, जैसा कि आप सब को पता है वैशाली जिले के हाजीपुर के गांधी चौक पर  हिंदू पुत्र संगठन के कार्यकर्ता राजीव महर्षि की रिहाई तथा बेवजह लगाए सीसीए के लिए पिछले 2 दिनों से अनशन पर बैठे हुए हैं लेकिन इसी बीच एक दुखद खबर आ रही है.

राजीव ब्रह्मर्षि की रिहाई के लिए अनशन पर बैठे  हिंदू पुत्र संगठन के एक कार्यकर्ता के मुंह से निकला खून

आपको बता दें कि हाजीपुर के गांधी चौक पर हिंदू पुत्र संगठन के 11 कार्यकर्ता राजीव महर्षि की रिहाई तथा गलत तरीके से लगाए गए सीसीए  के लिए आमरण अनशन पर बैठे हैं, इन 11 कार्यकर्ताओं ने 36 घंटे से भोजन का एक निवाला भी नहीं चखा है और इसी का परिणाम है कि अभी एक कार्यकर्ता के मुंह से अनशन के दौरान खून निकला है और तब भी प्रशासन सोई हुई है.

आपको बता दे कि बीते कुछ दिन पहले राजीव ब्रह्मर्षि जी को बिना किसी कारण बिहार सरकार ने उनको जेल में डाल सीसीए लगाया जबकि उनकी गलती सिर्फ इतनी थी कि वह हमेशा से हिंदुओं के पक्ष में बात करते आए थे और यही कारण है कि हिंदू पुत्र संगठन के सभी कार्यकर्ता अपनी पूरी जी जान लगाकर अपने शेर राजीव ब्रह्मर्षि की रिहाई के लिए अनशन कर रहे हैं.

भारत आइडिया सरकार से दरख्वास्त करता है कि जल्द से जल्द हिंदू पुत्र संगठन की सारी मांगे पूरी की जाए नहीं तो कम से कम उनको आश्वासन दिया जाए कि इनकी मांगों पर जल्द ही एक्शन लिया जाएगा और सरकार इनका का अनशन छुड़वाया अन्यथा बिहार में सारे हिंदू संगठन तथा हिंदुओं के गुस्से का सामना सरकार को करना पड़ेगा.

संपादक : विशाल कुमार सिंह

सशी थरूर के राम मंदिर पर विवादित बयान पर सुब्रमण्यम स्वामी का करारा जवाब ।

नमस्कार दोस्तो आप सब का स्वागत है भारत आइडिया में, तो दोस्तो आज हम बात करने वाले है नीचता की हद पार करने वाले सशी थरूर के बारे में, जिन्होंने कहा था कि एक अच्छा हिन्दू कभी नहीं चाहेगा की इबादत की जगह को तोड़ कर राम मंदिर का निर्माण हो लेकिन थरूर कि इस घटिया हरकत का जवाब दिया है बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने.

सशी थरूर के राम मंदिर पर विवादित बयान पर सुब्रमण्यम स्वामी का करारा जवाब ।

जीहां दोस्तो आपने सही सुना जब कोई व्यक्ति नीचता की हद पार कर जाता है तब उसको उसी के स्वर में जवाब दिया जाता है और सुब्रमण्यम स्वामी ने वहीं किया है.

पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस नेता सशी थरूर के बयान पर सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि सशी थरूर एक नीच आदमी है और जिसके खिलाफ चार्जशीट दायर है उसके विरूद्ध क्या कहा जा सकता है.

थरूर को सुब्रमण्यम स्वामी के जवाब से थोड़ी अक्ल आगयी हो तो यही सवाल वो जाकर मुसलमानों से क्यूं नहीं करते, बहरहाल जो भी हो कांग्रेस का अगर यही हाल रहा तो जनता इन्हे लोकसभा चुनाव में पूरी तरह से नकार देगी.

सम्पादक : विशाल कुमार सिंह

पाकिस्तान से अतांकियो को मिले पैसे से हुआ हरियाणा में मस्जिद का निर्माण

नमस्कार दोस्तो आप सब का स्वागत है भारत आइडिया में, तो दोस्तो आज हम बात करने वाले है पाकिस्तान के अतांकवादियो के पैसे से हुए हरियाणा में मंदिर निर्माण के ऊपर.
पाकिस्तान से अतांकियो को मिले पैसे से हुआ हरियाणा में मस्जिद का निर्माण

जीहां दोस्तो आपने सही सुना एनआईए ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा है कि पाकिस्तानी अतांकियो के पैसे से हरियाणा में एक मस्जिद का निर्माण किया गया है.

एनआईए ने बताया कि हरियाणा के पलवल में एक मस्जिद का निर्माण हुआ है और इसकी फंडिंग पाकिस्तानी संस्था फलाह-ए-इंसानियत संस्था से हुई है.

आपको बता दे की मुम्बई हमले का मास्टर माइंड हाफिज सईद और जमात-उद-दावा से फलाह-ए-इंसानियत का संबंध भी है 
इस मामले मै अब तक 3 लोगो की गिरफ्तारी की जा चुकी है जिसमें इमाम भी शामिल है जिसने मस्जिद निर्माण के लिए 70लाख रुपए लिए थे.

सम्पादक : विशाल कुमार सिंह

1200 कश्मीरी छात्रों ने अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी को दी धमकी

नमस्कार दोस्तों आपका स्वागत है भारत आइडिया में, तो आज हम बात करेंगे अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के बारे में जहां 12 सौ छात्रों ने अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी को यह धमकी दी है कि देशद्रोह के मामले में अगर 2 छात्रों नहीं छोड़ा गया तो वह यूनिवर्सिटी छोड़ देंगे.

1200 कश्मीरी छात्रों ने अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी को दी धमकी

जी हां दोस्तों आपने सही सुना, आपको हम बता दे कि कुछ दिनों पहले दो कश्मीरी छात्र देशद्रोह के मामले में पकड़े गए थे और उन्हीं के रिहाई को लेकर के बारह सौ छात्रों ने अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी को कॉलेज छोड़ने की धमकी दी है
आपको हम बता दे कि अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के छात्रों ने प्रबंधन को खत लिखकर 2 छात्रों के खिलाफ दायर देशद्रोह के मुकदमे को वापस लेने की मांग की है.

एएमयू छात्रसंघ के पूर्व उपाध्यक्ष सज्जाद रथार ने कहा है कि, कश्मीरी छात्रों की अगर छवि खराब करने का काम बंद नहीं हुआ तो 17 अक्टूबर को 12 सौ कश्मीरी छात्र कश्मीर लौट जाएंगे.

संपादक : विशाल कुमार सिंह

MeToo मामले को लेकर के कंगना राणावत ने करण जौहर पर लगाया इल्जाम

नमस्कार दोस्तों आपका स्वागत है भारत आइडिया में, दोस्तों आज हम बात करने वाले हैं कंगना राणावत जिन्होंने करण जौहर पर MeToo मामले को लेकर इल्जाम लगाया है की करण जौहर अपने जिम लुक को लेकर के अनेकों ट्वीट करते रहते हैं, लेकिन MeToo मामले पर उन्होंने एक भी ट्वीट नहीं किया है.

MeToo मामले को लेकर के कंगना राणावत ने करण जौहर पर लगाया इल्जाम

जी हां दोस्तों आपने सही सुना कंगना राणावत ने करण जौहर और शबाना आज़मी पर यह इल्जाम लगाया है कि आखिर करण जौहर MeToo मामले पर क्यों नहीं बोल रहे हैं ?

कंगना राणावत ने करण जौहर और शबाना आज़मी जैसे लोगों से कहा है कि यह लोग अपना MeToo मामले पर पक्ष रखे.

संपादक : विशाल कुमार सिंह