कठुआ मामले में बीजेपी का साहसिक कदम राज्य सरकार से किया किनारा

क्या न्यूज़ चैनल्स और नेताओ के भाषण के आधार पर कठुआ के बलात्कार कांड के नतीजों पर पहुँचाना सही है , क्या इसकी CBI जाँच नहीं होनी चाहिए  बैंगल...

क्या न्यूज़ चैनल्स और नेताओ के भाषण के आधार पर कठुआ के बलात्कार कांड के नतीजों पर पहुँचाना सही है , क्या इसकी CBI जाँच नहीं होनी चाहिए 

बैंगलोर :18/04/2018
WWW.BHARATIDEA.COM
विशाल कुमार सिंह 

आप सब को पता होगा की कठुआ बलात्कार मामले में हर रोज नई-नई करिया खुलती जा रही है जिससे की पुरे देश  बलात्कार में पीड़ित बच्ची के इंसाफ के लिए आक्रोश बढ़ता जा रहा है और इसी कारण से जम्मू-काश्मीर की राजनीती में भी भूचाल आगया है। एक तरफ पूरा हिन्दू समाज इस बलात्कार में पीड़ित लड़की के लिए इंसाफ की मांग रहा है तो दूसरी और बहोत सरे हिन्दू संगठन इस केस में CBI जाँच की मांग कर रहे है क्युकी इस घटना से एक सडयंत्र की बू आती है। इस केस की CBI जाँच होनी जरुरी है क्युकी ऐसा हो सकता है की एक सड़यंत्र के तहत काश्मीर में हिन्दुवो की स्थिति जैसी है वही स्थिति जम्मू में भी करने की मंसा से इस घिनौने सडयंत्र को अंजाम दिया गया हो।  

हम आपको बताना चाहेंगे की जम्मू-काश्मीर की राज्य सरकार CBI जाँच  में एक रोड़ा बन कर खड़ी हो गयी है , जिसके कारण महबूबा मुफ़्ती जो की राज्य की मुख्यमंत्री है वो देश के अनेको हिन्दू संगठनों के निशाने पर आगयी है  और आपको पता होगा को जम्मू-कश्मीर में पीडीपी और बीजेपी की मिली जुली सरकार है जिसके कारण बीजेपी को भी देश के हिन्दू संगठनो का सामना करना पर रहा है।एक खबर की मुताबित बीजेपी ने महबूबा के कई फैसलों का इस घटना पर विरोध किया है और बहुत सारे मंत्रियो ने अपने इस्तीफे भी दे दिये  है। 

सूत्रों के मुताबित बीजेपी के केंद्रीय नेतृत्वा ने अपने मंत्रियो को इस्तीफा देने का आदेश दे दिया है ,जिसके कारण बहुत सरे मंत्रियो ने अपना स्तीफा दे दिया है लेकिन बीजेपी ने ये भी साफ किया की वो अपना समर्थन पीडीपी से वापस नहीं लेगी लेकिन साथ ही साथ मंबजप का कोई भी नेता मंत्रिमंडल में शामिल नहीं होगा। बीजेपी के केंद्रीय नेतृत्वा के इस फैसले के कारण महबूबा दबाओ में आगयी है। बीजेपी के मंत्रियो का कहना है की जम्मू की जनता ने उन्हें उनके रक्षा तथा उनकी हितो की रक्षा के लिए भेजा है अतः उनकी जिम्मेदारी है की कठुआ में एक सडयंत्र के तहत हिन्दुओ पर हो रहे अतयाचार का विरोध करे। बीजेपी के मंत्रियो के मुताबित महबूबा जब उनकी बात नहीं सुन रही थी तो इन्हे ये फैसला लेना परा। 

भारत आईडिया के विचार :
 भारत आईडिया बीजेपी के इस फैसले का स्वागत करता है क्युकी किसी भी केस में पारदर्शिता जरुरी है। हम न्यूज़ चैनल्स और नेताओ के भाषण को सुन कर नतीजे पर नहीं पहुँच सकते , इसलिए इस केस की पूरी तरह से निस्पक्छ जाँच हनी चाहिए और जो दोसी कड़ी कड़ी सजा मिलनी चाहिये। 

हमसे जुड़े...... 
अगर आपको मेरा समाचार  पसन्द  आया हो तो भारत विज़न  के पेज को लाइक करना न भूले तथा हमें आप यूट्यूब पर भी सब्सक्राइब करके समाचर पा सकते हो जो देश हित में कारीगर हो। 
विशाल कुमार सिंह    

INSTALL OUR APP FOR 60 WORDS NEWS