This is default featured slide 1 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.

This is default featured slide 2 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.

This is default featured slide 3 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.

This is default featured slide 4 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.

This is default featured slide 5 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.

Showing posts with label RJD. Show all posts
Showing posts with label RJD. Show all posts

तेजप्रताप यादव का दावा बिहार के असली लालू वही है, कोई माई का लाल डाल के दिखाए जेल में.

मुख्य  बिंदु :-
  1. तेजप्रताप यादव का दावा  बिहार के असली लालू वही है.
  2. पार्टी की कमान अभी तेजश्वी यादव के हाथों में है.
  3. तेजप्रताप ने तेजश्वी यादव को कहा घबराओ  मत तुम भी असली लालू हो.
  4. तेजप्रताप ने तेजश्वी के लिए खून का एक-एक कतरा बहाने की बात कही.
  5. तेजप्रताप ने अपने  विरोधियों को भी ललकारा और उन्हें खुली चुनौती दी गिरफ्तार करने के लिए. 
  6. तेजप्रताप ने सिर्फ अपने पापा लालू यादव और जगदानन्द अंकल से डरने की बात कही.
  7. तेजप्रताप के समर्थकों पर  भड़के जगदानन्द बाबू.



    तेजप्रताप यादव का दावा  बिहार के असली लालू वही है :-
    राजद सुप्रीम लालू प्रसाद यादव  की गैरहाजिरी में भले ही पार्टी की कमान तेजस्वी यादव (Tejashvi Yadav) के हाथों में है, पार्टी भले ही तेजस्वी को अपना भावी मुख्यमंत्री मान रही हो, लेकिन तेजप्रताप यादव का दावा है कि बिहार का असली लालू वही हैं. तेजप्रताप ने आरजेडी की पटना में हुई रैली में यह कहकर सबको हैरत में डाल दिया. खुद तेजस्वी भी एक पल के लिए सन्न रह गए थे, तभी तेजप्रताप ने छोटे भाई की ओर देखते हुए कहा कि अर्जुन आप घबराओ मत. आप भी असली लालू हैं. मैं कोई आपका मजाक नहीं उड़ा रहा, आपके लिए तो हम खून का एक-एक कतरा बहा देंगे.


    तेजप्रताप आरजेडी की रैली में पूरे फार्म में दिखे :-
    तेजप्रताप आरजेडी की रैली में पूरे फार्म में दिखे. तेजप्रताप यादव ने सबसे पहले तो अपने विरोधियों को ललकारा. उन्‍होंने कहा, 'जो लोग हमारे अर्जुन और मुझे जेल भेजने की तैयारी कर रहे हैं, अगर वो माई के लाल हैं तो हम दोनों भाइयों को गिरफ्तार करके दिखाएं. हम तो डंके की चोट पर रथ पर चढ़ेंगे और खुद तेजस्वी के रथ का सारथी भी बनेंगे. इसके बाद तेजप्रताप ने बताया कि वो आखिर किन दो लोगों से डरते हैं. तेजप्रताप अपने पापा लालू यादव से बहुत डरते हैं और उनका बहुत सम्मान भी करते हैं. उसके बाद तेजप्रताप को अपने जगदानन्द अंकल के अनुशासन से बहुत डर लगता है.


    तेजप्रताप के कार्यकर्ताओ पर भरके जगदानन्द सिंह :-
    आरजेडी की कमान जब से जगदानन्द सिंह के हाथों में आई है, तब से वह पार्टी को अनुशासित करने में जुटे हैं. कुछ हद तक जगदानन्द सिंह ने पार्टी में अनुशासन लाया भी है, लेकिन आरजेडी की रैली में तेज़-तेजस्वी के समर्थकों ने पार्टी के अनुशासन की धज्जियां उड़ा दी. फिर जो जगदानन्द सिंह भड़के, उन्होंने पार्टी के समर्थकों को यहां तक कह दिया कि अगर आप इस तरह से अनुशासन तोड़ेंगे तो उन्हें मजबूरन सभा रोकनी पड़ेगी. जगदानन्द बाबू ने मंच के पास नारा लगा रहे आरजेडी समर्थकों को खूब खड़ी खोटी सुनाई. इतने पर तेजप्रताप यादव भी भड़क गए और अपने कुछ समर्थकों को मंच पर बुलाने के लिए जगदानन्द से अड़ गए. आखिरकार जगदानन्द सिंह को लालू के लाल के सामने झुकना ही पड़ा.

    ऐसी तमाम खबर पढ़ने के लिए हमारे एप्प को अभी इनस्टॉल करे                                                            
    इस खबर को यूट्यूब पर वीडियो के माध्यम से देखने के लिए हमारे चैनल को सब्सक्राइब करे। 




    फेसबुक पर अपडेट पाने के लिए हमारे पेज को लिखे करे। 
                     


    आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 



    तैयार रहिए, बिहार में होने वाला है बड़ा खेल, ‘गुमशुदा’ तेजस्वी की है कारस्तानी




    नमस्कार दोस्तों आप सबका स्वागत है भारत आइडिया के इस  नए संस्करण के समाचार लेख में। भारत आइडिया के पाठकों आज इस लेख में हम बात करेंगे तेजस्वी यादव के बारे में को शायद बिहार कि राजनीति को पलटने कि तैयारी में है ।

    समाचार पढ़ने से पहले एक गुजारिस है, हमारे फेसबुक पेज को  लाइक कर हमारे साथ जुड़े। 



    क्या बिहार की सियासत में कोई बड़ा खेल होने वाला है. और क्या ये खेल वो तेजस्वी यादव करने वाले हैं, जिनको पिछले कई दिनों से किसी ने देखा ही नहीं है. ऐसा हम इसलिए बोल रहे हैं, क्योंकिजन अधिकार पार्टी के सुप्रीमो और पूर्व सांसद पप्पू यादव ने तेजस्वी यादव के बिहार से गायब रहने को लेकर बड़ा बयान दिया है.

    पप्पू यादव के मुताबिक अंदर ही अंदर कोई बड़ा खेल चल रहा है और जल्द ही बिहार की राजनीति में बड़ा उलट- पुलट देखने को मिलेगा. उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि तेजस्वी भी नीतीश कुमार की तरह अकेले में आत्म मंथन कर रहे हैं.




    पप्पू यादव ने कहा कि तेजस्वी यादव के बारे में तो आरजेडी के लोग ही बता पाएंगे. आखिर अंदर ही अंदर क्या खेल चल रहा है. वो कहां गुटरगूँ कर रहे हैं. इन लोगों ने लालू की राजनीति को समाप्त करने की कोशिश की जा रहा है.

    जाहिर है, पप्पू यादव बिहार की राजनीति के बड़े महारथी हैं. उनकी किसी भी बात को हल्के में नहीं लिया जा सकता. ऊपर से तेजस्वी का यूं गायब रहना भी सवाल तो पैदा करता ही है.



    आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 



    लालू की इस आदत को डॉक्टरों ने बताया गंभीर बीमारी कहा ऐसे में लालू जी ठीक नहीं हो सकते




    नमस्कार दोस्तों आप सबका स्वागत है भारत आइडिया के इस  नए संस्करण के समाचार लेख में। भारत आइडिया के पाठकों आज इस लेख में हम बात करेंगे लालू यादव के बारे में जिनके बारे में डॉक्टरों ने कुछ ऐसा कहा है जो आपको हंसा सकती है ।

    समाचार पढ़ने से पहले एक गुजारिस है, हमारे फेसबुक पेज को  लाइक कर हमारे साथ जुड़े। 



    आम का शौकीन तो लगभग हर कोई है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी आम को लेकर अपने क्रेज की बात अभिनेता अक्षय कुमार को दिए इंटरव्यू में बता चुके हैं. वहीं बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव आम को लेकर इतने दीवाने हैं कि बीमार होने के बाद भी आम खाना नहीं छोड़ रहे हैं.

     (आरजेडी) प्रमुख लालू प्रसाद यादव लंबे वक्त से बीमार चल रहे हैं. उन्हें हाई डायबिटीज, दिल की बीमारी, हाई बीपी, पेरियेनल इन्फेक्शन, क्रॉनिक किडनी जैसी कई गंभीर बीमारियों की शिकायत है. लेकिन इसके बावजूद लालू यादव का आम प्रेम कम नहीं हो रहा है. लालू यादव बीमार होने के बाद भी लगातार आम खा रहे हैं, जिससे उनके शुगर लेवल में भी इजाफा हो जा रहा है.




    लालू प्रसाद गुर्दा (किडनी) संबंधी रोगों और मधुमेह से पीड़ित हैं. चारा घोटाले से जुड़े चार मामलों में उन्हें 14 साल जेल की सजा सुनाई गई है. लालू प्रसाद यादव का रांची के रिम्स में इलाज चल रहा है. यहां के डॉक्टर डीके झा का कहना है, 'इस हफ्ते लालू यादव के टेस्ट किए गए, उनके लीवर और किडनी सही काम कर रहे हैं. लेकिन जब हम उन्हें आम खाने की इजाजत देते हैं तो उनका शुगर लेवल और इंसुलिन बढ़ जाता है. वे एक आम खाने के लिए कहते हैं लेकिन ज्यादा खा जाते हैं. बुधवार से हमने उनके आम का सेवन बंद कर दिया है.




    आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 



    नीतीश ने तेजस्वी के खेमे को बड़ी राहत, कहीं ये बिहार में सरकार बदलने के तो आसार नहीं !




    नमस्कार दोस्तों आप सबका स्वागत है भारत आइडिया के इस  नए संस्करण के समाचार लेख में। भारत आइडिया के पाठकों आज इस लेख में हम बात करने वाले है तेजस्वी और नीतीश के जुगलबंदी के बारे में ।

    समाचार पढ़ने से पहले एक गुजारिस है, हमारे फेसबुक पेज को  लाइक कर हमारे साथ जुड़े। 



    बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भले ही आरजेडी के नेता तेजस्वी यादव के बयानों से खुश न रहते हों लेकिन उन्होंने तेजस्वी को बड़ी राहत दी है. बिहार सरकार ने कहा है कि तेजस्वी यादव जब उप मुख्यमंत्री थे तो उनके बंगले में खर्च नियमानुसार ही किया गया है. सरकार की ओर से जारी इस बयान को एक तरह से क्लीनचिट के तौर पर देखा जा रहा है.  भवन निर्माण विभाग के प्रधान सचिव चंचल कुमार जो मुख्य मंत्री के भी प्रधान सचिव ने एक संवादाता सम्मेलन में कहा,  'पांच देश रत्न मार्ग जो उपमुख्य मंत्री के लिए चिन्हित हैं उस पर जब तक तेजस्वी यादव रहे उस समय नियम के अनुसार राशि ख़र्च हुई. हालांकि उन्होंने यह भी माना कि विभिन्न मद में अधिक राशि ख़र्च हुई है.  

    इस वक्तव्य के बाद इस बंगले पर साज सज्जा के नाम पर बीजेपी नेताओं ख़ासकर उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी द्वारा जांच कराने के घोषणा पर सवालिया निशान खड़ा हो गया है. भवन निर्माण विभाग के प्रधान सचिव चंचल कुमार ने ये भी सफ़ाई दी कि मोदी के वक्तव्य के अनुसार किसी कमेटी से जांच नहीं करायी जाएगी. निश्चित रूप से बिहार सरकार के इस सफ़ाई के बाद राजद के नेता ख़ासकर तेजस्वी यादव राहत की सांस लेंगे.




    लेकिन बिहार सरकार ने लगता है कि इस प्रकरण के बाद अब मंत्री , विधायक के बंगले पर कितना ख़र्च हो उसकी सीमा तय कर दी है. अब किसी मंत्री का बंगला पूरी तरह 'सेंट्रालाइज्ड एसी' युक्त नहीं होगा. 

    बिहार सरकार की ओर से लिए गए इस फैसले के कई मायने निकाले जा रहे हैं. एक ओर जहां मोदी सरकार में मंत्रिमंडल में मिली एक सीट की वजह से बिहार एनडीए में तनाव की खबर आ रही हैं वहीं नीतीश कुमार ने जब अपने मंत्रिमंडल का विस्तार किया था तो उसमें बीजेपी को भी जगह नहीं मिली थी. 'चमकी बुखार' में हुई बच्चों की मौत पर घिरे नीतीश कुमार क्या बिहार में विधानसभा चुनाव से पहले भी कोई बड़ा फैसला लेंगे इस पर भी कयास लगने शुरू हो गए हैं.



    आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 



    तेजस्वी के मुजफरपुर में लगे पोस्टर, लिखा ढूंढ़ के लाने वाले को 5100 रुपए का इनाम।




    नमस्कार दोस्तों आप सबका स्वागत है भारत आइडिया के इस  नए संस्करण के समाचार लेख में। भारत आइडिया के पाठकों आज इस लेख में हम बात करने वाले है तेजस्वी यादव के बारे ने जो की लोकसभा चुनाव से लगातार विलुप्त नजर आ रहे है ।

    समाचार पढ़ने से पहले एक गुजारिस है, हमारे फेसबुक पेज को  लाइक कर हमारे साथ जुड़े। 



    बिहार के 16 जिलों में चमकी बुखार (मस्तिष्क ज्वर) से इस महीने की शुरुआत से 600 से अधिक बच्चे प्रभावित हुए हैं, जिनमें से अबतक 136 बच्चों की मौत हो चुकी है. राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी. मुजफ्फरपुर जिले में सबसे अधिक अब तक 117 बच्चों की मौत हुई है. इसके अलावा भागलपुर, पूर्वी चंपारण, वैशाली, सीतामंढी और समस्तीपुर से भी मौतों के मामले सामने आए हैं. 

    मुजफ्फरपुर की घटना पर लोग शासन-प्रशासन के रवैये पर भी सवाल खड़े कर रहे हैं. इस बीच मुजफ्फरपुर में आरजेडी नेता और पूर्व उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) को लेकर पोस्टर लगाए गए हैं. इन पोस्टर में लिखा है, 'लोकसभा चुनाव के नतीजों के बाद से ही तेजस्वी यादव लापता हैं'. पोस्टर में उन्हें ढूंढकर लाने वाले को इनाम देने की घोषणा भी की गई है. 





    आपको बता दें कि ये पोस्टर तमन्ना हाशमी नाम के सामाजिक कार्यकर्ता की ओर से लगाए गए हैं. गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव नतीजों के बाद से ही तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) सक्रिय रूप से नजर नहीं आए हैं. इसको लेकर तमाम तरह के कयास लगाए जा रहे हैं. पिछले दिनों जब राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के नेता रघुवंश प्रसाद सिंह से पूछा गया कि बिहार में आप विपक्षी पार्टी हैं, आखिर आपके विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव कहां पर हैं.

    बिहार राज्य में इतनी बड़ी घटना देशभर में चिंता का सबब बनी हुई है. क्या उनकी संवेदना खत्म हो गई है? उनकी तरफ से एक ट्वीट तक भी नहीं आ रहा है. इस पर रघुवंश प्रसाद सिंह ने कहा, ''मुझे यह नहीं पता कि वह कहां है, शायद वह विश्वकप देखने गए हैं, लेकिन हम अनुमान लगा रहे हैं मुझे इसकी कोई जानकारी नहीं हैं.''



    आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 



    तेजस्वी अज्ञातवास में, तेज प्रताप संभालेंगे कमान, राजभवन तक मार्च का ऐलान




    नमस्कार दोस्तों आप सबका स्वागत है भारत आइडिया के इस  नए संस्करण के समाचार लेख में। भारत आइडिया के पाठकों आज इस लेख में हम बात करेंगे तेजप्रताप के बारे में जिन्होने चमकी बुखार पर खुद कमान संभाली है ।

    समाचार पढ़ने से पहले एक गुजारिस है, हमारे फेसबुक पेज को  लाइक कर हमारे साथ जुड़े। 



    तेजस्वी यादव के अज्ञातवास में चले जाने के बाद उनके बड़े भाई तेजप्रताप यादव ने कमान संभाल ली है. तेजप्रताप यादव ने चमकी बुखार में सामने आई सरकारी अव्यवस्था के खिलाफ 23 जून को राजभवन तक मार्च करने का ऐलान किया है. जाहिर है इस मुद्दे को लेकर आरजेडी ने पुतला फूंकने के अलावा कोई विरोध नहीं जताया है. ऐसे में तेजस्वी ने तेज प्रताप के अनुपस्थिति में राजभवन तक मार्च करने का ऐलान किया है. उन्होंने कहा कि यह मार्च आरजेडी छात्र करेंगे.

    बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप यादव ने राज्य सरकार पर चमकी बुखार से निपटने में लापरवाही के गंभीर आरोप लगाए हैं. शुक्रवार को रांची जाने से पहले तेजप्रताप यादव ने कहा कि चमकी बुखार मामले में सरकार पूरी तरह से नाकाम साबित हुई है और चमकी बुखार से निपटने के लिए राज्य सरकार द्वारा कोई कदम नहीं उठाए गए. उन्होंने कहा कि सरकार को संवेदनशील तरीके से इस तरह के बड़े मामले को देखना चाहिए. अभी तक जो चीजें सामने आई हैं, उसमें सरकार पूरी तरह फेल नजर आ रही है. बता दें, तेजप्रताप ने ऐलान किया था कि चमकी बुखार में फेल सरकारी व्यवस्था को लेकर आरजेडी छात्र 23 जून को राजभवन मार्च करेंगे.




    तेजस्वी यादव लोकसभा चुनाव में मिली करारी हार के बाद से अज्ञातवास में हैं. तो वहीं लालू के बड़े बेटे विभिन्न कार्यक्रमों में शिरकत कर अपनी राजनीति चमकाने में लगे हैं. चाहे पार्टी के द्वारा आयोजित इफ्तार हो या फिर पार्टी का कार्यक्रम. पिता को जन्मदिवस पर बधाई देने का मौका हो या फिर चमकी बुखार पर बयान. सब की कमान तेजप्रताप ने थाम रखी है. इसी कड़ी में लालू प्रसाद यादव के बड़े लाल तेज प्रताप यादव अपने पिता से आशीर्वाद लेने रांची रवाना हो गए हैं.



    आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 



    10 कारतूस के साथ पकड़े गए एयरपोर्ट पर लालू के नेता.



    हमारे फेसबुक पेज को जरूर लाइक करे। 

    तेज प्रताप ने घर वापसी के लिए रखी ये शर्त.


    नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका भारत आइडिया में, दोस्तों आज हम बात करने वाले हैं राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के बड़े पुत्र तेज प्रताप यादव के बारे में जिन्होंने परिवार के सामने एक शर्त रखी है और उसी शर्त पर उन्होंने घर आने की बात कही है.

    तेज प्रताप ने घर वापसी के लिए रखी ये शर्त.

    क्या है मामला:
    राष्‍ट्रीय जनता दल (राजद) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव घर लौट सकते हैं, अगर उनकी बात मान ली जाए, अभी वे हरिद्वार में हैं. उन्‍होंने माना कि कृष्‍ण अर्जुन से नाराज नहीं हैं, लेकिन एक दुर्योधन है जो अर्जुन व कृष्‍ण के बीच में आ गया है.एक निजी चैनल से बातचीत में तेज प्रताप यादव ने कहा कि उनकी छोटी सी बात अगर माता-पिता मान लें तो वे घर लौट आएंगे, टेजप्रताप का कहना है कि मेरी बात मानने के लिए कोई तैयार नहीं है.तेज प्रताप ने कहा कि उन्‍होंने तलाक की जो अर्जी फाइल की है, उसपर परिवार साथ दे तभी हम घर लौट आएंगे .तेज प्रताप यादव ने यह भी साफ किया कि वे पत्‍नी ऐश्‍वर्या की मीठी-मीठी बातों में आने वाले नहीं हैं.


    क्या कहा तेज प्रताप ने:
    तेज प्रताप ने कहा कि परिवार में लड़ाई-झगड़े हद पार कर गए थे, वह (पत्‍नी) मेरे लिए गंदे शब्‍द बोलती थी.वो अपनी जिंदगी में मस्‍त रहे, मैं अपनी जिंदगी में मस्‍त रहूं. तेज प्रताप यादव ने कहा कि हमने सोच-समझकर तलाक का फैसला लिया है और यह अटल है.तेज प्रताप ने कहा कि वे परिवार के साथ हैं, लेकिन ऐश्‍वर्या के साथ रहना नहीं चाहते.उन्‍होंने घर में घुसे किसी विपिन नामक व्‍यक्ति के प्रति नाराजगी जताई तथा कहा कि वह उनके दोस्‍तों को बुलाकर सता रहा है,  यह बर्दाश्‍त से बाहर है.तेज प्रताप ने कहा कि पार्टी में भी गुंडे-मवाली घुस गए हैं, उन्‍हें भी बाहर करना चाहिए.उन्‍होंने कहा कि कुछ दुर्योधन लगे हुए हैं, लेकिन वे अपने अर्जुन (तेजस्‍वी) से दूर नहीं हैं. परिवार वालों से भी उनकी बात हो रही है, पिता लालू प्रसाद यादव से भी बात हुई है और वे ठीक हैं.


    तेजस्वी ने नहीं मनाया अपना जन्मदिन:
    तेज प्रताप फिलहाल वृंदावन में हैं, उन्‍होंने फोन कर तेजस्‍वी को जन्‍मदिन की बधाई दी है. तेजस्‍वी ने बड़े भाई को बहुत समझाया है, लेकिन वे चाहते हैं कि घरवाले पहले उनके तलाक की बात मान लें तब वे लौटेंगे.ऐश्वर्या से तलाक लेने की याचिका दायर करने के बाद सुर्खियों में आए तेज प्रताप यादव के बिना दिवाली का त्योहार तो सूना रहा ही उनके भाई तेजस्वी के जन्मदिन पर भी समर्थक इंतजार करते रहे.जन्मदिन पर उनके राजधानी पहुंचने के कयास समर्थक लगा रहे थे लेकिन पटना स्थित उनके आवास पर शुक्रवार को भी सन्नाटा पसरा रहा. हरिद्वार गए तेज प्रताप के घर न लौटने पर समर्थक निराश ही लौटे.


    तलाक की खबर को सही ठहराया तेज प्रताप ने.


    नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका भारत आइडिया में, दोस्तों आज हम बात करने वाले हैं तेज प्रताप यादव के बारे में जिनके बारे में बीते दिन यह अफवाह उड़ी थी कि वह अपनी पत्नी ऐश्वर्या राय को तलाक देने जा रहे हैं.

    तलाक की खबर को सही ठहराया तेज प्रताप ने.

    क्या है मामला:
    जी हां दोस्तों आपने सही सुना बीते दिन तेज प्रताप यादव के बारे में या खबर उड़ी थी कि वह अपनी पत्नी ऐश्वर्या  को तलाक देने जा रहे हैं जिसके बाद सोशल मीडिया पर उनके समर्थकों ने यह दावा किया था कि यह सिर्फ और सिर्फ एक अफवाह है लेकिन कोर्ट में अपनी पत्नी ऐश्वर्या से तलाक लेने के लिए अर्जी दायर करने के बाद लालू प्रसाद यादव के बेटे तेज प्रताप यादव ने शनिवार को मीडिया से बातचीत की, समाचार एजेंसी ए एन आई के अनुसार उन्होंने इस दौरान तलाक की अर्जी दायर करने की खबर को सही बताया है और कहा है कि मैंने कोर्ट में तलाक के लिए अर्जी दाखिल की है क्योंकि मैं घुट घुट कर जी रहा था और घुट घुट कर जीने से कोई फायदा नहीं है.


    पिता से मिलने रांची जाएंगे तेज प्रताप:
    आप की जानकारी हेतु हम बता दे कि कोर्ट में तलाक की अर्जी देने के बाद आखिरकार शनिवार को तेज प्रताप यादव अपने पिता लालू यादव से मिलने के लिए रांची के लिए निकल चुके हैं. अभी तक मिल रही जानकारी के अनुसार दोनों के बीच आज मुलाकात हो सकती है और विश्वस्त सूत्रों के मुताबिक तेज प्रताप के नाम से रांची के एक होटल में तीन कमरे बुक किए गए हैं और नियम के हिसाब से एक बार में 3 लोग लालू यादव से मुलाकात कर सकते हैं और मुलाकात करने वालों की सूची खुद लालू यादव तय करेंगे.


    तेज प्रताप को मनाने में जुटा पूरा परिवार:
    बीते दिन शुक्रवार देर शाम तेज प्रताप यादव ने सिविल कोर्ट में तलाक की याचिका दायर की थी, जिसमें तेज प्रताप यादव ने 13(1) (1A) हिंदू मैरिज एक्ट के तहत तलाक के लिए अर्जी दी है और मिल रही जानकारी के अनुसार कोर्ट ने तेज प्रताप यादव की तलाक की अर्जी मंजूर कर दी है. तलाक की अर्जी का केस नंबर 1208 है और कोर्ट ने इस अर्जी के लिए सुनवाई की तारीख 29 नवंबर तय की है.अर्जी देने के बाद तेज प्रताप यादव अपने माता पिता से मिलने के लिए रांची रवाना हुए थे लेकिन बार-बार परिवार से फोन आने के बाद उन्होंने रांची जाने का प्रोग्राम रद्द कर दिया था. आपको बता दें कि तेज प्रताप द्वारा तलाक की अर्जी देने के बाद उनकी पत्नी ऐश्वर्या ससुर चंद्रिका राय और ऐश्वर्या राय की मां राबड़ी देवी के आवास पर पहुंचे हैं और रात्रि 11:00 बजे तक वही रहे माना जा रहा है कि पूरा परिवार तेज प्रताप यादव को मनाने की कोशिश में जुटा हुआ है लेकिन तेज प्रताप अपने तलाक के फैसले पर अडिग हैं.


    संपादक विशाल कुमार सिंह.

    बेगूसराय से बीजेपी सांसद भोला सिंह का निधन




    नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका भारत आइडिया में दोस्तों आज हम बात करने वाले हैं बेगूसराय से बीजेपी सांसद भोला सिंह के बारे में जिनका बीते दिन देहांत हो गया.

    बेगूसराय से बीजेपी सांसद भोला सिंह का निधन

    क्या है मामला :
    आपको बता दें कि बेगूसराय से बीजेपी सांसद कोलासी का शुक्रवार को निधन हो गया उनकी उम्र 82 वर्ष थी, दिल्ली के राम मनोहर लोहिया अस्पताल में 19 अक्टूबर को उन्होंने अंतिम सांस ली. आपको बता दें कि लंबे समय से बीमार चल रहे भोला सिंह पिछले 3 दिनों से राम मनोहर लोहिया अस्पताल में भर्ती थे.भोला से लेफ्ट के समर्थन से पहली बार 1967 में बेगूसराय से निर्दलीय विधायक चुने गए थे, आपको जानकर हैरानी होगी कि भोला सी बेगूसराय से 8 बार विधायक चुने जा चुके थे वही 2009 में भोला सिंह नवादा तथा 2014 में बेगूसराय से सांसद बने थे.




    कौन थे भोला सिंह :
    भोला सिंह का जन्म 3 जनवरी 1939 को हुआ था, भोला से उन चुने हुए नेताओं में से हैं जो लगभग हर पार्टी से चुनाव लड़े जिस में कम्युनिस्ट पार्टी कांग्रेस राष्ट्रीय लोक दल जैसी पार्टियां शामिल है, राजनीति में आने से पहले भोला सिंह इतिहास के प्रोफेसर थे.1967 में को भोला सिंह निर्दलीय एमएलए बने जिसके बाद 1972 में सीपीआई के चुनाव चिन्ह पर चुने गए इसके बाद 1970 में वह कांग्रेस में चले गए, कांग्रेस की सरकार वह बिहार मंत्री भी रहे हैं और 1990 और 95 में आरजेडी के टिकट पर जीते इसके बाद और बीजेपी में शामिल हो गए .




    बीजेपी में रहकर बीजेपी नीतियों पर ही उठाते थे सवाल :
    भोला सिंह भाजपा के उन नेताओं में से थे जो भाजपा में रहकर प्रधानमंत्री की योजनाओं पर सवाल उठाते थे, आपको बता दें कि भोला जी ने प्रधानमंत्री की स्मार्ट सिटी योजना की उपयोगिता पर भी सवाल उठाए थे.भोला सिंह ने  प्रधानमंत्री की मौजूदगी में कहा था कि स्मार्ट सिटी परियोजना से पहले से विकसित शहरों का ही विकास होगा जिससे पिछरे शहरों और अति विकसित शहरों के बीच खाई बढ़ेगी और एक अंतर की बड़ी पहाड़ खड़ी होगी.


    संपादक : विशाल कुमार सिंह

    दुर्गा पूजा के अवसर पर दिखी शत्रुघ्न सिन्हा की तेजस्वी के लिए चापलूसी



    नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका भारत आइडिया में, तो दोस्तों आज हम बात करने वाले हैं शत्रुघ्न सिन्हा के बारे में जो कि तेजस्वी के गुण गाते थकते ही नहीं है.
    दुर्गा पूजा के अवसर पर दिखी शत्रुघ्न सिन्हा की तेजस्वी के लिए चापलूसी

    क्या है खबर :
    दोस्तों हम आपको बताना चाहेंगे कि पटना के एक पूजा पंडाल में मंगलवार को पहुंचे भारतीय जनता पार्टी के बागी नेता शत्रुघ्न सिन्हा ने बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी यादव के माथे पर तिलक लगाते हुए उन्हें विजई भव का आशीर्वाद दिया, जिसमें उनकी तेजस्वी के लिए चापलूसी पूरी तरह से देखी जा सकती थी.

    क्या कहा सत्रुधन सिन्हा ने तेजस्वी के लिए :
    पटना के डाकबंगला चौराहे पर बनी एक पूजा पंडाल में एक साथ पहुंचे शत्रुघ्न सिन्हा और तेजस्वी यादव ने साथ में पूजा अर्चना की इस अवसर पर शत्रुघ्न सिन्हा ने आरजेडी नेता लालू प्रसाद यादव के सुपुत्र तेजस्वी यादव के माथे पर तिलक लगाया और कहा तेजस्वी बिहार का भविष्य है, साथ ही साथ शत्रुघ्न सिन्हा ने यह भी कहा कि तेजस्वी यादव योग्य और मजबूत भी हैं इसीलिए आज मैंने इनका राज्य अभिषेक किया है, शत्रुघ्न सिन्हा के अनुसार अच्छे दिन तो नहीं आने वाले लेकिन तेजस्वी के आने के बाद शुभ दिन जरूर आएंगे।

    सत्रुधन सिन्हा हो सकते है आरजेडी में शामिल :
    आपको बता दें कि अक्सर यह देखा गया है कि शत्रुघन सिंहा अपनी पार्टी बीजेपी के विरोध में हमेशा बोलते रहते हैं लेकिन वही स्थानीय पार्टी आरजेडी के पक्ष में हमेशा से शत्रुघ्न सिन्हा चापलूसी करते आए हैं, शायद इसीलिए शत्रुघ्न सिन्हा पिछले रमजान महीने में तेजस्वी के आवास पर आयोजित इफ्तार दावत में भी शामिल हुए थे और कयास तो यह भी लगाए जा रहे हैं कि आगामी लोकसभा चुनाव में शत्रुघ्न सिन्हा बीजेपी के साथ नहीं बल्कि आरजेडी का दामन थामेंगे।

    संपादक : विशाल कुमार सिंह

    सुशील मोदी ने आज अपनी किताब लालू लीला रिलीज़ करदी।

    बीजेपी बिहार प्रमुख तथा बिहार के उप-मुख्यमंत्री सुशील मोदी ने खुद की लिखी किताब लालू लीला को आज रिलीज़ कर दिया : किताब में लालू तथा उनके परिवार के घोटालो की है पूरी कहानी। 

    सुशील मोदी ने आज अपनी किताब लालू लीला रिलीज़ करदी।

    बीजेपी बिहार प्रमुख तथा बिहार के उप-मुख्यमंत्री सुशील मोदी ने आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद की जीवनी के ऊपर एक किताब लिखी है, जिसका नाम है लालू लीला और सुशील मोदीजी ने अपनी इस किताब में मुख्यतः लालू प्रसाद यादव तथा उनके परिवार द्वारा किये गए घोटालो पर रोशनी डाली है। 

    किताब के विमोचन के बाद खुद बीजेपी बिहार प्रमुख तथा बिहार के उप-मुख्यमंत्री सुशील मोदी जी ने ट्विटर के जरिये ये बताया की लालू परिवार के घोटालो की कहानी की पुस्तक लालू लीला का आज विमोचन किया गया। 

    सुशील मोदी जी ने बताया की मेरी और लालू प्रसाद यादव की राजनीती की शुरुवात एक साथ हुई थी और वो लालू प्रसाद की पत्नी राबड़ी देवि से ज्यादा उनको जानते है, और मोदी ने कहा की लालू के राजनीतक जीवन को मैंने देखा है जो जनता के सामने लाना जरुरी है।

    बहरहाल जो भी हो अब ये देखना होगा की राजद इसपर अपनी क्या प्रतिक्रिया देती है और राजद की और से बीजेपी के इस कदम पर क्या बयान आता है। 

    सम्पादक ; विशाल कुमार सिंह 

    Riot of United Opposition against Muzaffarpur Case / मुजफ्फरपुर कांड के खिलाफ संयुक्त विपक्ष की धरना



    नई दिल्ली में शनिवार को जंतर मंतर पर मुजफ्फरपुर कांड के विरोध में धरने के दौरान राजद नेता तेजस्वी यादव के साथ कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, शरद यादव ,दिनेश त्रिवेदी सीताराम येचुरी और दी राजा ने मोमबत्ती जलाकर एकजुटता प्रदर्शित की ।

    दिल्ली के जंतर मंतर में धरने पर तेजस्वी यादव ने कहा कि बच्चियों के गुनाहगारों को जल्द से जल्द फांसी की सजा हो। तेजस्वी के साथ देने शनिवार को ना सिर्फ आम आदमी पार्टी बल्कि कांग्रेस के नेता भी पहुंचे थे।

    दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि ४० बेटियों के साथ कई साल में अमानवीय  अत्याचार होता था, दुख की बात है कि बिहार सरकार के सामने पहले भी यह बात सामने आई फिर भी संचालक को सरकारी फंड मिलता रहे और उधर अत्याचार चलता रहा हमारी मांग है कि अपराधियों को ३ माह के भीतर फांसी दिलाई जाए वीडियो के साथ गलत करने वाले दोषी हैं और उन्हें संरक्षण देने वाले उससे ज्यादा दोषी हैं एक निर्भया से यूपीए सरकार गिर गई थी। अब ४० निर्भया का मामला है ४० बार सिंहासन हिल जाएगा,ऐसा मानना है अरविंद केजरीवाल जी का..

    ● आज फिर मुजफ्फरपुर जा सकती है सीबीआई टीम।

    सम्पादक : आशुतोष उपाध्याय
    भारत आईडिया से जुड़े :
    अगर आपके पास कोई खबर हो तो हमें bharatidea2018@gmail.com पर भेजे या आप हमें व्हास्स्प भी कर सकते है 6200965675 .
    आप भारत आईडिया की खबर youtube पर भी पा सकते है।
    आप भारत आईडिया को फेसबुक पेज  पर भी फॉलो कर सकते है।



    बिहार में कही नितीश कुमार फिर से तो बीजेपी का साथ नहीं छोड़ेंगे

    देश में जैसे जैसे लोकसभा चुनाव नजदीक आ रहे है तो सभी पार्टी अपनी अपनी जोरि बनाने में लगे वही कही शीटों को लेके बहस है, पढ़े पूरी खबर 



    लोकसभा चुनाव की तैयारियों में राजनितिक दल जुट गए है। शीटों का बटवारा किसमे कितना होगा इसकी भी चर्चा सुरु हो चुकी है, चुकी बिहार में लोकसभा की 40 शीटे है और बिहार में बीजेपी और जेडीयू की गठबंधन है तो उसपर जेडीयू ने साफ किया है की बिहार में शीटों को लेकर कोई भ्रम किसी को न हो क्युकी लोकसभा के चुनाव में बीजेपी 15 और जेडीयू 25 शीटों पर चुनाव लड़ेंगे जिसमे एनडीए का बिहार का मुख्य चेहरा नितीश कुमार होंगे।


    देखिये वीडियो में किशान आन्दोलन के नाम पर कैसे बर्बाद किया जा रहा है दूध ,ये हमारे किशान भाई नहीं बल्कि 
    वो लोग है जो देश में शान्ति नहीं चाहते। 

    आपको हम बतादे की मुख्यमंत्री के आवास पर जेडीयू कोर कमिटी के नेताओ की बैठक हुई। बैठक के बाद जेडीयू के मुख्या प्रवक्ता अजय अलोक ने रविवार को कहा की कुछ और दाल जेडीयू के साथ जुड़े इसलिए हमारी बैठक हुई थी। शीटों की बात करने पर अजय अलोक ने कहा की इसका फैसला पार्टी के शीर्ष नेता करेंगे लेकिन अभी हमारी बीजेपी से शीटों को लेकर कोई संसय नहीं है। अजय अलोक ने कहा की बिहार में उनकी पार्टी सबसे बरी पार्टी है इसलिए जेडीयू 25 शीटों पर और बीजेपी 15 शीटों पर लोकसभा चुनाव लड़ेगी।


    आज का ये वीडियो शायद आप देख कर भाभूक होजाये लेकिन आप ये  वीडियो देखे इसमें भारतीय सेना के जवानो पर ये आतंकी कैसे छिप कर हमला कर रहे है और वीडियो भी आतंकियी ने ही बनाया है , जरूर देखे


    उधर मीडिया में चल रही चर्चाओं के बिच जेडीयू महासचिव ने कहा है की बिहार में एनडीए का चेहरा नितीश कुमार ही होंगे। बैठक में शामिल होकर आये पवन वर्मा ने ये दवा किया है की बिहार में नितीश कुमार के नेतृत्वा में ही चुनाव लड़ा जायेगा। बैठक में जेडीयू के वरिष्ठ नेता केसी त्यागी और पार्टी के रणनीतिकार प्रशांत किशोर भी शामिल थे।

    सम्पादक : विशाल कुमार सिंह

    भारत आईडिया से जुड़े :
    अगर आपके पास कोई खबर हो तो हमें bharatidea2018@gmail.com पर भेजे या आप हमें व्हास्स्प भी कर सकते है 9591187384 .
    आप भारत आईडिया की खबर youtube पर भी पा सकते है।
    आप भारत आईडिया को फेसबुक पेज  पर भी फॉलो कर सकते है।