This is default featured slide 1 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.

This is default featured slide 2 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.

This is default featured slide 3 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.

This is default featured slide 4 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.

This is default featured slide 5 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.

Showing posts with label BHIMSENA. Show all posts
Showing posts with label BHIMSENA. Show all posts

पढ़े एक और बीजेपी कार्यकर्ता की बेंगौल में हुई हत्या

पश्चिम बेंगौल में एक हफ्ते में बीजेपी कार्यकर्त्ता की मौत का ये दूसरा झाबर है, बीजेपी नाओ ने इसका आरोप त्रिनिमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओ पर लगया है आइये  पूरा मामला :


पश्चिम बेंगौल के पुरुलिया जिले में 4 दिन के अंदर दूसरे बीजेपी कार्यकर्ता का शव संदिग्ध हालत में लटका हुआ मिला, दोनों घटना बलरामपुर थाना छेत्र में हुई है। शनिवार को मृतक दुलाल कुमार जिसकी उम्र 32 वर्ष बताई जा रही है का शव हाईटेंशन के खम्भे से लटका हुआ मिला। इससे पहले बुधवार को हमने आपको खबर दी थी की बीजेपी कार्यकर्ता त्रिलोचन महतो की मौत भी कुछ इसी तरह से हुई थी, उनकी लाश भी एक जंगल में पेड़ से लटकी मिली थी। इन 2 मौतों के बाद गाओ की जनता काफी गुस्से में है जिसके बाद गाओ वालो ने थाने का घेराव करके पुलिस से जवाब माँगा वही बीजेपी ने इन मौतों का कारण त्रिमूल कंग्रेस्स के कार्यकर्ताओ पर लगाया है।



दुलला के परिजनों ने कहा है की अज्ञात बाइकसवारों ने कुछ दिन पहले दुलला को मारने की धमकी दी थी। ममता बनर्जी ने इन घटनाओ की जाँच जे लिए CID को निर्देश दे दिए हैवही रास्ट्रीयर मानवाधिकार आयोग ने सरकारसे 4 दिनों में इसकी रिपोर्ट मांगी है।

किशान आंदोलन कितनी तेजी से बढ़ रहा है आपसबको पता है अब इसका असर देखिये क्या होने वाला आज हम उसी पर बात करेंगे 

दुलाल के भाई ने कहा की कुछदिन पहले कुछ बाइकसवारों ने दुलाल को घेर कर पूछा था की किस पार्टी के लिए काम करते हो उसपर दुलाल ने जवाब दिया था की मै बीजेपी के लिए काम करता हूँ जिसके बाद बाइकसवारों ने दुलाल को जान से मरने की धमकी दी थी। पुलिस वालो का कहना है की दुलाल ने आत्महत्या की है लेकिन परिवार वालो का और बीजेपी का कहना है की ये हत्या त्रिमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओ ने करवाई है। बरहाल जो भी हो बंगाल भी अब केरला और कश्मीर बनाने की राह पर चल पारा है जिसे जल्द से जल्द रोकना होगा।

सम्पादक :विशाल कुमार सिंह  
भारत आईडिया से जुड़े : 
अगर आपके पास कोई खबर हो तो हमें bharatidea2018@gmail.com पर भेजे या आप हमें व्हास्स्प भी कर सकते है 9591187384 . 
आप भारत आईडिया की खबर youtube पर भी पा सकते है। 
आप भारत आईडिया को फेसबुक पेज  पर भी फॉलो कर सकते है।

जानिए कौन लाडवा रहा दलितों को स्वर्णो से......

पढ़िए सोचिये समझिये क्यों एकता ही है , हमारी ताकत अब खुद में लड़ना बंद करे देश को मजबूत करे। 

बैंगलोर :

भारत में विशेष समुदाय का दर्जा जो धर्म ले बैठी है , उस समुदाय के बारे में एक चीज समझ नहीं आती की इनके पास अक्ल है भी या नहीं। दरअसल सुप्रीम कोर्ट ने (SC/ST)ACT में एक संशोधन कर दिया तो मानो देश की राजनीती में भूचाल आगया। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ 2 अप्रैल को दलितों ने भारत बंद का ऐलान कर दिया और हद तो तब हो गयी जब मायावती से लेकर ममता बनर्जी , केजरीवाल , कांग्रेस और भी अन्य पार्टियों ने इस बंद का समर्थन कर दिया। इस बंद में न जाने कितनो को अपनी जान खोनी परी कितने जख्मी हुए , और न जाने कितना जान माल का नुकसान हुआ। 

कहने को तो ये सिर्फ एक भारत बंद था लेकिन बंद ऐसा बंद आज तक नहीं हुआ था क्युकी दलितों के इस आंदोलन में इन दलितों को आदिवाशिवो के साथ साथ मुस्लिमो का भी साथ मिला हुआ था। बरे बड़े मुस्लिम संगठनों ने ये पहले ही ऐलान कर दिया था की इस बंद में वो दलितों का खुल के साथ देंगे और इन मुस्लिमो ने साथ दिया भी ...... और तो और हमारे प्रेरणास्त्रोत संविधान के रचयिता Dr. बाबा साहब राम जी आंबेडकर के नारे भी लगाये। 

अब सवाल ये उठता है की एक तरफ ये विशेष समुदाय कॉम दुनिया भर के बौद्धों को गाली देती है (जैसे म्यांमार के बौद्ध , श्री लंका के बौद्ध ) और दूसरी तरफ  Dr. बाबा साहब राम जी आंबेडकर का जैकारा लगाती है जो की खुद एक बौद्ध थे। एक और बात   Dr. बाबा साहब राम जी आंबेडकरके नाम में राम सब्द भी है और आपको तो पता है वो हमारे प्रभु श्री राम को कितना मानते फिर भी जैकारा लगाया इससे इनकी मानसिकता पता चलती है की ये सिर्फ हम हिन्दुओ को तोरणा चाहते है

अब यहाँ दलितों को सोचना होगा की वो किस मोहरे का शिकार हो रहे है ...... कही इन्हे खुद के भाइयो से तो नहीं लड़वाया जा रहा है ताकि देश में सांप्रदायिक स्थिति कायम रहे ताकि देश में आने वाले समय में इस विशेष समुदाय का राज हो। 

भारत आईडिया का इस खबर पर विचार : एक बात तो है अगर हिन्दुओ को बाटने से रोकना है तो सरकार को सबसे पहले सिविल कोड लागु करना चाहिए ताकि देश में सब के लिए एक कानून हो। अगर सिविल कोड भारत में लागु होती है तो जो भी समस्याए है वो खत्म हो जाएगी। बात रही दलित भाइयो की तो वो अपने है लेकिन एक अनजान शक्ति जो की हमारे देश को बाटना चाहती है वो इनको भरका रही है। 

अगर आपको मेरा समाचार  पसन्द  आया हो तो भारत विज़न  के पेज को लाइक करना न भूले तथा हमें आप यूट्यूब पर भी सब्सक्राइब  करके समाचर पा सकते हो जो देश हित में कारीगर हो। 
 

फिर से हुआ हिन्दुओ के आस्था पर हमला तोड़ी गयी भगवन की मुर्तिया।

पढ़े योगी सरकार के राज्य उत्तरप्रदेश में कहाँ तोड़ी गयी भगवन हनुमान और लक्छ्मन जी की मुर्तिया ।


बैंगलोर :
कुछ अक्रान्ताओ की गिरी और मजहबी सोच के कारन इस समय देश के गयी राज्य जल रहे है। मुझे लगता है  इन अक्रान्ताओ को हिन्दुओ के वजूद से ही नफ़रत है जो ये आय दिन हिन्दुओ के धार्मिक त्यौहार को निशाना बनाते रहते है, ताकी देश  सांप्रदायिक बवाल हो ,  अराजकता फैले .....  निश्चित ये आक्रांता देश में पाकिस्तान जैसी स्थिति पैदा  करना चाहते है। इन अक्रान्ताओ ने हिन्दुओ के पावन त्यौहार श्री श्री रामनवमी के अवसर पर देश के कई हिशो में जैसे बंगाल ,राजस्थान ,बिहार तथा अन्य  राज्यों में हिन्दुओ पर हमले किये।  इसलिए क्यकि देशमे सांप्रदायिक स्थिति  बनी रहे और तो और बंगाल के आसनसोल में तो हिन्दुओ के पलायन की स्थिति इन अकारणताओंए  ने पैदा करदी। 

अब खबर पर आते है उत्तरप्रदेष  के अमरोहा इलाके में कुछ अक्रान्ताओ ने मंदिर में रखी दो मूर्तियों को खंडित कर आग लगादी , जिसकी जानकारी मिलते ही स्थानीय लोगो में आक्रोश फ़ैल गया , उनोहोने आरोपियों पर करवाई को लेकर जमकर हंगामा किया लेकिन बाद में पुलिस ने कैसे तैसे लोगो को समझा बुझा कर हालत को काबू में किया।  अमरोहा जनपद के सदर कोतवाली इलाके के मोहल्ला चौक में मछरटटा पुलिस चौकी के पास स्थित मंदिर में किसी अज्ञात सरती तत्वा ने मंदिर में भगवन हनुमान तथा लक्मन जी की मूर्तियों को तोड़ दिया और लगादी। 

साम्रदायिक हिंसा इस घटना के बाद न फैले इसीलिए पुलिस ने समये रहते ही स्थिति को नियंतरन में ले लिया , लेकिन पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियो को लोगो के गुसे का सामना करना परा। इस जगह के वार्ड पार्सद  अंकित गुप्ता का कहना है की अक्सर यहाँ से मंदिरो में मूर्तियों की चोरी होती रहती है।पुलिस के आला अदिकारियों ने स्थानीय लोगो को भरोषा दिलाया है की जल्द से जल्द अपराधियों को पकर लिया जायेगा। 

भारत आईडिया का इस खबर पर विचार : जो भी हुआ काफी दुखद है क्यकि किसी भी धर्म के आस्था को ठेश पहुँचाना निन्दनिये है , ये जो भी है हिन्दुओ कमजोर समझते है लेकिन ये भूले न हिन्दुओ ने जब जब तलवार उठाया है इतिहास के पन्ने बदल गए है। 

अगर आपको मेरा समाचार  पसन्द  आया हो तो भारत विज़न  के पेज को लाइक करना न भूले तथा हमें आप यूट्यूब पर भी सब्सक्राइब  करके समाचर पा सकते हो जो देश हित में कारीगर हो। 

प्रदर्शनकारियों ने पुरे राजस्थन में पुलिस को दौरा दौरा के मारा ,200 से ज्यादा लोग हुए घायल .



राजस्थान में स्थिति  काफी गंभीर प्रदर्शकारियों ने अनगिनत गारियो को आग लगाया ,अनगिनत लोगो को घायल किया  साथ ही साथ पुलिस को भी नहीं बक्छा। 


बैंगलोर :
(SC/ST) Act के विरोध में आज 2 अप्रैल को दलित समाज तथा आदिवासी  समाज ने भारत बंद का ऐलान किया था। इसका असर राजस्थान में काफी देखा गया आपको हम बता दे की राजस्थान में हिंसा की शुरुआत सुबह 10:30  बजे बारमेर से हुई। 

राजस्थान में दलितों और करनी सेना के बिच काफी झड़प हुई जिसका बचाओ पुलिस करने आयी लेकिन प्रदर्शकारियों ने पुलिस पर ही हमला बोल दिया , जिसमे तक़रीबन 40 पुलिस वाले जख्मी हो गये और 1 पुलिस वाले की हालत गंभीर बताई जा रही है। 

राजस्थान में इस बंद का काफी असर रहा , आपको हम बताना चाहेंगे की अलवर में तो स्थिति इतनी बेकाबू हो गयी की पुलिस को फायरिंग करनी पर गयी जिसमे 2 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। 

कैरथन और ENB पुलिस स्टैशन को प्रदर्शनकारियों ने आग के हवाले कर दिया , जिसमे डिपुटी SP भी घायल हो गए। 

इसी तरह सीकर के नीमका पुलिस स्टैशन में प्रदर्शनकारियो ने तक़रीबन 2 घंटे तक पथराव किया साथ ही साथ 2 दर्ज़न पुलिस की गरियो को आग के हवाले कर दिया। प्रदर्शनकारी यही पर संत नहीं हुए उन्होंने पुलिस वालो को दौरा दौरा कर मारा। 

राजस्थान के धौलपुर में तो प्रदर्शनकारियो  ने तो वसुंधरा राजे के घर पर  ही हमला कर दिया जिसके बाद पुलिस ने वहां आकर स्थिति को संभाला और प्रदर्शनकारियों को काबू किया। 

बीकानेर और झुंझुन में भी उपद्रवियो ने काफी उत्पात मचाया , यहाँ भी काफी गरिया फुकी गयी। आपको बतादे की यहाँ भी दर्जनों लोग घायल हुए। 

पुरे राजस्थान में (SC/ST) में प्रदर्शन के नाम पर जमकर गुंडागर्दी की गयी जिसको की पुलिस भी रोकने में नाकाम रही। हिंसा की खबरे राजस्थान के पुष्कर और अजमेर से भी आयी। सीधे शब्दों में समझे तो आज दिन भर पुलिस प्रदर्शनकारियों पर डंडा भांजती रही। 

आपक बतादे की राजस्थान का ऐसा कोई जिला नहीं था जहां से हिंसा की खबरे न आयी हुई हो। अकेले राजस्थान में 150 से ऊपर लोग घायल हुए , 200 से ऊपर गरियो को आग के हवाले कर दिया गया , 300 से ऊपर गड़ियो के सीधे फोड़ दिए गये। आपको बता दे की राजस्थान के  6 बारे जिले - बाड़मेर ,बीकानेर , अलवर ,शिकार ,झुंझुन और जालोर में इंटरनेट सेवा बंद कर दी गयी  ताकि स्थिति काबू हो सके। 

प्रदर्शनकरियों ने रेल-सेवा को भी नहीं बक्छा , दिन भर रेल-सेवा को परेशानियों और देरी का सामना करना परा। प्रदर्शन की वजह से जयपुर ,धौलपुर ,अलवर और भरतपुर की ट्रेनों को प्रदर्शनकारियों ने रोकने की कोशिश की। 

भारत आईडिया का इस समाचार पर विचार : जो भी  हो रहा है बहुत गलत हो रहा है क्युकी आज भारत के 2 समुदाय के लोग नहीं बल की दो भाई आपस में टकराये है। हमारे विचार से ये जो भी हो रहा है एक सोची समझी रणनीति के तहत हो रहा है क्युकी अगले साल लोकशभा के चुनाव है और विपक्छ सत्ता को पाने का एक भी मौका नहीं छोड़ना चाहती इसीलिए हिन्दुओ को लड़ाया जा रहा है। 

अगर आपको मेरा समाचार  पसन्द  आया हो तो भारत विज़न  के पेज को लाइक करना न भूले तथा हमें आप यूट्यूब पर भी सब्सक्राइब  करके समाचर पा सकते हो जो देश हित में कारीगर हो। 

दलितों द्वारा भारत बंद ने ले ली कुछ मासूमो की जान.


दलितों ने किया प्रदर्शन भारत बंद के कारन कई जगहों पर हुई हिंसा  ,कई लोगो की गयी जान। 




बैंगलोर :
(SC/)ST) ACT पर आये फैसले का विरोध करते हुए दलित समाज ने 2 APRIL को भारत बंद का ऐलान किया है। इसके परिणाम कुछ गलत आ रहे है , मध्यप्रदेश में कई संगठनो के प्रदर्शन ने हिंसक रूप ले लिया और इसमें 4 लोगो के मरे जाने की खबर आ रही है। भिंड के मचंद में राजवीर महावत , मुरैना में राहुल पाठक तथा 2 अन्य लोगो के मरे जाने की खबर आ रही है। 

बताया जा रहा है की ग्वालियर में हिंसक प्रदर्शन में एक व्यक्ति की मौत के बाद भीड़  बेकाबू हो गयी जिसके बाद पुलिस ने 6 थाना छेत्रो में कर्फ्यू लगा दिया।खबर है की ग्वालियर के  थाटी पुर और गोले का मंदिर में दलित समाज के लोगो ने जम  कर पथराव किया। उपद्रवियों ने पथराव , आगजनी ,गोलीबारी भी की जो की बहुत दुखद है। स्थिति इतनी गंभी हो गई की मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री को आपात बैठक बुलानी परी। 

बताया जा रहा है भिंड में भीमसेन के लोगो द्वारा काफी हिंसा की गयी और उसी हिंसा में ,राजवी महावत की  गयी तथा मुरैना में दलित समाज के लोगो ने गोली मर कर हत्या कर दी। इसी बिच मृतक के परिजनों ने कलेक्टर के घर के बाहर सव रख कर घेराव कर लिया है। पुलिस ने पोस्टमॉटम के लिया सव को ले जाने का कोशिश किया लेकिन विफल रहे। 

भारत बंद ने और भी कई जगहों पर हिंसा का रूप ले लिया था वही मध्यप्रदेश में इसका असर कुछ ज्यादा दिखा। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान चौहान ने ट्विटर पर ट्वीट कर लोगो से  की एप्पिल की है। 

भारत आईडिया का इस समाचार पर विचार : जो भी  हो रहा है बहुत गलत हो रहा है क्युकी आज भारत के 2 समुदाय के लोग नहीं बल की दो भाई आपस में टकराये है। हमारे विचार से ये जो भी हो रहा है एक सोची समझी रणनीति के तहत हो रहा है क्युकी अगले साल लोकशभा के चुनाव है और विपक्छ सत्ता को पाने का एक भी मौका नहीं छोड़ना चाहती इसीलिए हिन्दुओ को लड़ाया जा रहा है। 

अगर आपको मेरा समाचार  पसन्द  आया हो तो भारत विज़न  के पेज को लाइक करना न भूले तथा हमें आप यूट्यूब पर भी सब्सक्राइब  करके समाचर पा सकते हो जो देश हित में कारीगर हो। 

विशाल कुमार सिंह