किसने बताया नमाज को नौटंकी जरूर पढ़े

कौन है वो जिसने नमाज पढ़े रहे एक व्यक्ति की फोटो लगाकर उसे घोषित कर दिया नौटंकी, पूरी खबर पढ़े : तश्लिम नसरीन तश्लिम नसरीन जिन्हे संभवतः सभी ल...

कौन है वो जिसने नमाज पढ़े रहे एक व्यक्ति की फोटो लगाकर उसे घोषित कर दिया नौटंकी, पूरी खबर पढ़े :
तश्लिम नसरीन

तश्लिम नसरीन जिन्हे संभवतः सभी लोग जानते ही होंगे, नहीं जानते तो इनका एक छोटा सा परिचय हम आपको दे देते है। तश्लिम नसरीन बांग्लादेश कि रहने वाली है तथा एक लेखिका है अभी ये हमारे देश भारत में निर्वासित है। हमेशा से तश्लिम नसरीन ने कट्टरपन के खिलाफ आवाज उठाया है और फिर से एक बार तश्लिम नसरीन ने मुसलमान धर्म की आलोचना की है।

 इसी फोटो पर ट्वीट किया 

क्या है मामला दरअसल, तश्लिम नसरीन ने सोशल मीडिया पर एक तस्वीर शेयर की है जिसको इन्होने नौटंकी करार दिया है। जो तश्वीर इन्होने शेयर की है उसमे एक व्यक्ति नमाज पढ़ रहा है, तेज बारिश के कारण एक व्यक्ति उस नमाज पढ़ रहे व्यक्यि को छाता से ढके हुए है ताकि वो भींग न जाये और कुछ लोग उस नमाज पढ़ रहे व्यक्ति के आस-पास खड़े है।

पढ़े आज सुबह सुबह हुआ सेना पर हमला

तश्लिम नसरीन ने इस फोटो को शेयर करते हुए अपने ट्वीट में नमाज पढ़ रहे व्यक्ति को नौटंकी बताया है। तश्लिम नसरीन के इस ट्वीट के बाद कुछ लोगो ने इनको सही बोला तो वही कुछ लोगो ने तीखी प्रतिक्रिया दी है। बहोत सारे मुस्लिम संगठनो ने इनके खिलफ मोर्चा खोल दिया है, देश ही नहीं दुनिया भर के मुसलमान समुदाय इनसे आक्रोशित हो गया है।

2019 से पहले बढ़ी पीएम मोदी की मुश्किलें, सबसे पुरानी सहयोगी पार्टी ने खोला मोर्चा

हम आपको बता दे की ये पहला मौका नहीं है जब तश्लिम नसरीन ने मुसलमान धर्म की आलोचना की हो इस से पहले भी इन्होने मुसलमानो के धार्मिक भावनाओ को चोट किया है। तक़रीबन 2 साल पहले तश्लिम नसरीन ने इस्लाम धर्म को मानवाधिकार विरोधी करार दिया था। तश्लिम नसरीन मुसलमानो द्वारा रमजान के मौके पर रोजा रखने का भी विरोध किया था। तश्लिम नसरीन ने उस वक़्त ट्वीट किया था और लिखा था "मुझे इस्लाम से डर लगता है, क्युकी इस्लाम मानवाधिकार विरोधी, महिला अधिकार विरोधी है"। लेखिका ने एक और अन्य ट्वीट में लिखा था "मै क्यों रखु रोजा, मै मुर्ख नहीं हु"। इन्होने एक बार पश्चिम बेंगौल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर ट्वीट करते हुए लिखा था "क्या ममता ने रोजा रखा है? बस जानना चाहती हूँ "। हम आपको बतादे की अपने बेबाक बोल के कारन इनकी जान को कट्टरपन्तियो से बांग्लादेश में खतरा था इसलिए इनको भारत में शरण लेनी परी थी।



सम्पादक : विशाल कुमार सिंह

भारत आईडिया से जुड़े :
अगर आपके पास कोई खबर हो तो हमें bharatidea2018@gmail.com पर भेजे या आप हमें व्हास्स्प भी कर सकते है 9591187384 .
आप भारत आईडिया की खबर youtube पर भी पा सकते है।
आप भारत आईडिया को फेसबुक पेज  पर भी फॉलो कर सकते है।

INSTALL OUR APP FOR 60 WORDS NEWS